जमशेदपुर : हे मानव तुम कब आओगे, पूछे जुबली पार्क - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 4 जुलाई 2021

जमशेदपुर : हे मानव तुम कब आओगे, पूछे जुबली पार्क

jamshedpur-jublee-park

संवाददाता ,लाइव आर्यावर्त ,जमशेदपुर ,4 जुलाई,
देश के खूबसूरत पार्कों में से एक जमशेदपुर स्थित जमशेदजी नुसरवान जी  टाटा  के सपनो के जुबली पार्क की निगाहें अब हर रोज उसके अपने प्रवेश द्वारों पर टकटकी लगाए लोगों के आने का इंतजार करती जान पड़ती है। राज्य में अनलॉक -५ में अन्य पार्कों को खुलने की इजाजत तो दे दी गई परन्तु जुबली पार्क  अभी भी खुलने की बाट जोह रहा है।  सुबह -शाम की सैर करने वाले तमाम  सेहत पसंद  शहरवासियों का गवाह जुबली पार्क  अब राज्य के अन्य छोटे बड़े पार्कों से ईर्ष्या भी करने लगा है क्योंकि बाकी को तो खुलने की अनुमति मिल गई पर जुबली पार्क को अगले सरकारी प्रशासनिक आदेश आने तक तन्हाई में ही समय गुजारना होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: