यूपी में हो रहा लोकतंत्र का चीरहरण : प्रियंका गाँधी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 17 जुलाई 2021

यूपी में हो रहा लोकतंत्र का चीरहरण : प्रियंका गाँधी

democracy-is-being-ripped-off-in-up-priyanka-gandhi
लखनऊ 16 जुलाई, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शुक्रवार को कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने संविधान को नष्ट करने और लोकतंत्र का चीरहरण करने का काम किया है श्रीमती वाड्रा ने यहां पत्रकारों से कहा कि पंचायत चुनाव का परिणाम उस तरह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पक्ष में नहीं आये तो अब जब जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुख के चुनाव में सरकार ने हिंसा करवा दी। पुलिस ने उम्मीदवारों का अपहरण किया। महिला उम्मीदवारों से मारपीट और उनके वस्त्र भी खीचें गये। यह संविधान की मूल भावना के विपरीत आचरण था। वास्तव में सरकार ने जनमत का अनादर कर लोकतंत्र का चीरहरण किया है। उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सर्टिफिकेट से यूपी में कोरोना में दूसरी लहर के दौरान योगी सरकार की आक्रामक क्रूरता, लापरवाही और अव्यवस्था की सच्चाई छिपाई नहीं जा सकती। तीन दिवसीय दौरे पर पहुंची कांग्रेस महासचिव ने किसान नेताओं से मुलाकात कर उनकी समस्यायों को जाना। इससे पहले लखनऊ आगमन पर कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने एयरपोर्ट से लेकर प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय तक ढोल,नगाड़ो की थाप और नारो के साथ श्रीमती वाड्रा का जगह-जगह स्वागत पुष्पवर्षा के साथ किया। एयरपोर्ट से बाहर आते ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, राष्ट्रीय सचिव धीरज गुर्जर, कांग्रेस विधान मण्डल दल की नेता श्रीमती आराधना मिश्रा (मोना) विधान परिषद में कांग्रेस के नेता दीपक सिंह पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी समेत अन्य नेताओं ने उनकी अगवानी की। जीपीओ पर स्वागत के उपरांत कांग्रेस महासचिव ने महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उनको नमन किया और प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था के खिलाफ मौन व्रत किया। इस दौरान पुलिस ने उनको कोविड प्रोटोकाल का हवाला देते हुये मौन धरना खत्म करने का आग्रह किया। उन्होने पुलिस को लिखकर जवाब दिया कि कोविड तो पंचायत चुनाव के समय भी था। देर शाम को उन्होने पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठक को संबोधित किया। 

कोई टिप्पणी नहीं: