गरिमा के प्रतीक थे दिलीप कुमार : जावेद अख्तर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 7 जुलाई 2021

गरिमा के प्रतीक थे दिलीप कुमार : जावेद अख्तर

dilip-kumar-our-pride-javed-akhtar
मुंबई, सात जुलाई, दिलीप कुमार को श्रद्धांजलि देते हुए प्रख्यात गीतकार और लेखक जावेद अख्तर ने कहा कि कुमार अपने समय से बहुत आगे थे और “गरिमा, सहृदयता तथा शिष्टता” का प्रतीक थे। कुमार का 98 वर्ष की उम्र में बुधवार को निधन हो गया। कुमार की “मशाल”, “क्रांति” और “दुनिया” जैसी फिल्मों के लेखक अख्तर ने पीटीआई भाषा से कहा, “दिलीप साहब के लिए सबसे उपयुक्त विशेषण है गरिमा। एक बेहतरीन कलाकार होने के अलावा वह गरिमा, सहृदयता और शिष्टता का प्रतीक थे। वह अपने समय से आगे थे।” अख्तर ने कहा कि हॉलीवुड अभिनेता मार्लन ब्रांडो को ‘मेथड एक्टिंग’ के लिए जाना जाता है लेकिन कुमार उनसे बहुत आगे थे। उन्होंने कहा कि लोग मैथड़ एक्टिंग के लिए मार्लन ब्रांडो को श्रेय देते हैं, लेकिन वह दिलीप साब के बाद फिल्मों में आए।

कोई टिप्पणी नहीं: