इस्तीफा देने वाले मंत्रियों को संगठन में भेजेगी पार्टी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 7 जुलाई 2021

इस्तीफा देने वाले मंत्रियों को संगठन में भेजेगी पार्टी

ex-minister-will-work-for-party
दिल्ली : देश की राजनीतिक में मोदी कैबिनेट विस्तार को लेकर बहुत बड़ा उठा पटक जारी है। मोदी सरकार के पूर्व के कई मंत्रियों द्वार इस्तीफा दिया जा रहा है। वहीं आज शाम 6 बजे होने वाले केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार में युवाओं को अधिक भागीदारी मिल रही है। वहीं इस बीच मोदी कैबिनेट के दो और बडे़ मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है। केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार से पहले वरिष्ठ भाजपा नेता व कई विभागों का जिम्मा संभाल रहे मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस्तीफा दे दिया है। रविशंकर प्रसाद विधि,आईटी, संचार मंत्री का पद संभाल रहे थे। लेकिन अब उन्होंने इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ ही केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी इस्तीफा दे दिया है। वहीं इस्तीफा देने वालों नेताओं के बारे में कहा जा रहा है कि इन लोगों को भाजपा संगठन में भेजना चाहती है। भाजपा का कहना है कि संगठन पर पिछले कुछ दिनों में बहुत सारे आरोप लगे हैं जिसके कारण संगठन को मजबूत करना बेहद जरूरी है इस लिहाज से संगठन में वैसे लोगों को भेजा जा जिसके पास अनुभव अधिक है और भाजपा के भरोसेमंद होने के साथ ही साथ पार्टी संगठन को हर एक तरफ से मजबूत कर सकते हैं। इसके साथ ही मोदी कैबिनेट से इस्तीफा देने वाले रविशंकर प्रसाद, प्रकाश जावेडकर, सदानंद गौड़ा, थावरचंद गहलोत, रमेश पोखरियाल, डॉक्टर हर्षवर्धन, संतोष कुमार गंगवार, बाबुल सुप्रीयो, धोत्रे संजय शामरो, रतन लाल कटारिया, देवासी चौधरी, प्रताप चंद्रा को जल्द ही संगठन में बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है। इनमें से कई को विभिन्न राज्यों का दायित्व मिल सकता है तो कई को चुनाव प्रभारी भी बनाया जा सकता है। गौरतलब है कि भाजपा संगठन को मजबूत इसलिए करना चाहती है क्योंकि उसका मानना है कि संगठन को मजबूत करने से संगठन और सरकार एक साथ चलेगी जिससे आगामी भविष्य में पार्टी का कद और भी बड़ा होगा साथ ही साथ पाटिल मजबूत बनकर उभरेगी। बहरहाल, देखना यह है कि मोदी मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने वाले मंत्रियों में से किन को किन राज्यों का प्रभारी बनाया जाता है और संगठन में इन सब को किस प्रकार की जिम्मेदारी दी जाती है।

कोई टिप्पणी नहीं: