बिहार : पशुपति लोजपा कोटे से मंत्री बने तो कोर्ट जाऊंगा : चिराग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 6 जुलाई 2021

बिहार : पशुपति लोजपा कोटे से मंत्री बने तो कोर्ट जाऊंगा : चिराग

if-paras-become-minister-will-go-court-chirag
पटना : केंद्र में मोदी सरकार मंत्रिमंडल का विस्तार करने वाली है। इस विस्तार में बिहार के कुछ नेताओं को जगह मिलने की बातें सामने आ रही है। इनमें से लोजपा से बगावत करने वाले वाले पशुपति कुमार पारस का भी नाम सामने आ रहा है। कहा जा रहा है कि लोजपा कोटे से वे मंत्री बन सकते हैं। मंत्री बनने का संकेत बीते दिन पशुपति पारस ने ही दिया था। रामविलास पासवान के जयंती पर उन्होंने कहा था कि दिल्ली से अमित शाह का फ़ोन आया है। जब उनसे पूछा गया कि क्या वे मंत्री बन रहे हैं। इस पर उनका कहना था कि राज को राज रहने दीजिए। इस बीच पशुपति के मंत्री बनने के बाद चिराग ने अहम बयान दिया है। चिराग ने अपने बयान के सहारे मोदी से अपेक्षा की है वे पशुपति को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं करें। चिराग पासवान ने कहा कि लोजपा कोटे से निष्कासित किसी भी सांसद को मंत्री बनाया गया तो मैं कोर्ट जाऊंगा। चिराग ने कहा कि लोजपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष मैं हूँ और पार्टी मेरी है तथा समर्थन भी मेरे पास है। मेरे अनुमति के बगैर किसी को मंत्री बनाना गलत है। इसके आगे चिराग ने कहा कि ऐसे सांसद जिसे पार्टी निष्कासित कर चुकी है, उसे मंत्री बनाना गलत है। ऐसे होने पर मैं कानूनी व राजनीतिक लड़ाई लड़ने को तैयार हूँ। हालांकि, चिराग ने यह भी कहा कि अगर चाचा को मंत्री बनाना है तो उन्हें जदयू में शामिल कराकर मंत्री बनाएं, मुझे कोई दिक्कत नहीं, लेकिन लोजपा के नाम पर नहीं। मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर चिराग ने बड़ा दावा करते हुए कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार के बाद जदयू में बहुत बड़ी टूट होगी। और यह सरकार डेढ़-दो साल से ज्यादा नहीं चल सकती है। वहीं, चिराग ने बगावत करने वाले सांसदों के महत्वकांक्षा को याद दिलाते हुए कहा कि महबूब अली कैसर को उनके बेटे के लिए सीट नहीं मिल रही थी। चंदन सिंह के कुछ उम्मीदवार थे, उन्हें सीट नहीं मिल रही थी। वीणा देवी को उनकी बेटी के लिए सीट नहीं मिल रही थी। 15 सीट मिलने से कोई भी सहमत नहीं थे।

कोई टिप्पणी नहीं: