चैम्पियन अर्जेंटीना को हराकर भारतीय हॉकी टीम क्वार्टर फाइनल में - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 30 जुलाई 2021

चैम्पियन अर्जेंटीना को हराकर भारतीय हॉकी टीम क्वार्टर फाइनल में

india-beat-argentina
तोक्यो, 29 जुलाई, आखिरी दो मिनट में दो गोल करने वाली भारतीय टीम ने रियो ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता अर्जेंटीना को 3 . 1 से हराकर तोक्यो ओलंपिक की पुरूष हॉकी स्पर्धा के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया । पिछले मैच में स्पेन को हराने के बाद भारतीय टीम ने लगातार अच्छा प्रदर्शन जारी रखते हुए यह महत्वपूर्ण मुकाबला जीता । अपना पहला ओलंपिक खेल रही भारत की ‘युवा ब्रिगेड’ ने इस जीत में सूत्रधार की भूमिका निभाई और भारत को हॉकी में चार दशक बाद ओलंपिक पदक जीतने के और करीब पहुंचा दिया । भारत के लिये वरूण कुमार ने 43वें, विवेक सागर प्रसाद ने 58वें और हरमनप्रीत सिंह ने 59वें मिनट में गोल दागे । अर्जेंटीना ने 48वें मिनट में माइको केसेला के गोल के दम पर बराबरी की और 58वें मिनट तक स्कोर बराबर था । इसके बाद भारत ने दो मिनट के अंतराल में दो गोल दागकर साबित कर दिया कि यह टीम निर्णायक मौकों पर दबाव के आगे घुटने टेकने वाली नहीं है ।


भारत पूल ए में आस्ट्रेलिया के बाद दूसरे स्थान पर चल रहा है। भारत को अब 30 जुलाई को आखिरी पूल मैच में मेजबान जापान से खेलना है । न्यूजीलैंड के खिलाफ 3-2 की संघर्षपूर्ण जीत के बाद भारतीयों को आस्ट्रेलिया के हाथों 1-7 की करारी हार का सामना करना पड़ा था । मनप्रीत सिंह की टीम हालांकि स्पेन पर 3-0 की जीत से वापसी करने में सफल रही। भारत के आठ ओलंपिक स्वर्ण पदकों में से आखिरी पदक 1980 में मास्को ओलंपिक में आया था। पहले हाफ में एक भी पेनल्टी कॉर्नर लेने में नाकाम रही भारतीय टीम को तीसरे क्वार्टर में सात पेनल्टी कॉर्नर मिले जिनमें दो बार रूपिंदर, तीन बार हरमनप्रीत सिंह और एक बार सुमित नाकाम रहे । भारत के लिये पहला गोल 43वें मिनट में वरूण ने तीसरे पेनल्टी कॉर्नर पर किया। भारत ने वीडियो रेफरल पर यह कॉर्नर अर्जित किया और अपना पहला ओलंपिक खेल रहे वरूण ने गोल करने में चूक नहीं की । भारत की यह बढत हालांकि ज्यादा देर बरकरार नहीं रही और चौथे क्वार्टर के तीसरे ही मिनट में अर्जेंटीना को मिले पहले पेनल्टी कॉर्नर पर माइको केसेला ने बराबरी का गोल दाग दिया । अर्जेंटीना को 51वें मिनट में फिर पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन भारत के रिव्यू लेने पर नीदरलैंड के वीडियो अंपायर वान बंजी सियोन ने इसे खारिज कर दिया । तेज हमले करते हुए अर्जेंटीना ने दो मिनट बाद फिर पेनल्टी कॉर्नर बनाया लेकिन भारतीय गोलकीपर पी आर श्रीजेश ने मुस्तैदी से इसे बचा लिया । भारत को आखिरी मिनटों में जमकर हमले बोलने का फायदा 57वें मिनट में शानदार फील्ड गोल के जरिये मिला । दिलप्रीत सिंह का शॉट विफल रहने के बाद विवेक ने रिबाउंड पर गोल किया । विवेक का भी यह पहला ओलंपिक और पहला ओलंपिक गोल था । इसके दो मिनट भारत भारत को मिले आठवें पेनल्टी कॉर्नर पर हरमनप्रीत ने ड्रैग फ्लिक के जरिये गोल किया ।


भारतीय कोच ग्राहम रीड ने खिलाड़ियों के प्रदर्शन की तारीफ की लेकिन कहा कि स्कोर चाहे जो भी हो, यह मुकाबला कतई आसान नहीं था । उन्होंने कहा ,‘‘ आज का प्रदर्शन अच्छा रहा । अर्जेंटीना यही करती है। धीमी शुरूआत के बाद अचानक से कॉर्नर लेकर गोल कर देते हैं । अर्जेंटीना के खिलाफ खेलते समय सावधान रहना पड़ता है ।’’ इससे पहले शुरूआती क्वार्टर में भारत ने आक्रामक शुरूआत की और मनदीप सिंह को दूसरे ही मिनट में सर्कल के ठीक बाहर अच्छा पास मिला लेकिन वह गोल नहीं कर सके । इसके दो मिनट बाद दिलप्रीत सिंह गोल करने के करीब पहुंचे लेकिन उनके करीबी शॉट को अर्जेंटीना के अनुभवी गोलकीपर जुआन मैनुअल विवाल्डी ने बचा लिया । भारत ने पहले क्वार्टर में सात बार अर्जेंटीना के सर्कल में प्रवेश किया लेकिन अच्छे मूव को फिनिशिंग तक नहीं ले जा सके । पहले क्वार्टर के आखिरी मिनट में भारत को फिर मौका मिला जब अर्जेंटीना ने मिडफील्ड में गेंद पर नियंत्रण खो दिया और गुरजंत गेंद छीनकर डी की तरफ ले गए । उन्होंने सिमरनजीत सिंह को गेंद सौंपी जो अर्जेंटीनाई डिफेंडरों को चकमा नहीं दे पाये । दूसरे क्वार्टर में दूसरे ही मिनट में अर्जेंटीना को मौका मिला जब सर्कल के भीतर लुकास रोस्सी ने थॉमस हबीफ को पास दिया लेकिन भारतीय डिफेंडरों ने मुस्तैदी दिखाते हुए गेंद को बाहर कर दिया । भारत को 29वें मिनट में गोल करने का एक और मौका मिला लेकिन शमशेर सिंह के लंबे पास पर सर्कल के भीतर गेंद पाने के बावजूद मनदीप गेंद को गोल के भीतर नहीं डाल सके । रीड ने कहा कि उनके खिलाड़ियों ने कई मौके गंवाये लेकिन वह खुश हैं कि उन्होंने सब्र से काम लिया और रणनीति पर डटे रहे । उन्होंने कहा ,‘‘हमने फिर कई मौके गंवाये । कई मौके बनाये भी । अच्छी बात यह है कि संयम नहीं छोड़ा और रणनीति पर अमल किया ।मैं बहुत खुश हूं ।’’

कोई टिप्पणी नहीं: