हॉकी में भारत ने जापान को 5-3 से हराया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 31 जुलाई 2021

हॉकी में भारत ने जापान को 5-3 से हराया

india-beat-japan-5-3
टोक्यो, 30 जुलाई, भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए मेजबान जापान को पूल ए के अपने आखिरी लीग मैच में शुक्रवार को 5-3 से हरा दिया और पूल में ऑस्ट्रेलिया के बाद दूसरा स्थान हासिल किया। भारतीय टीम पहले ही क्वार्टरफाइनल में जगह बना चुकी थी और उसने अपना पूल अभियान जीत के साथ समाप्त किया। भारत ने अपने पांच में से चार मैच जीते और ऑस्ट्रेलिया (13 अंक) के बाद 12 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर रहा। मेजबान जापान कड़ा संघर्ष करने बावजूद मात्र एक अंक के साथ पूल में छह टीमों में छठे और आखिरी स्थान पर रहा। पूल ए से ऑस्ट्रेलिया और भारत के अलावा अर्जेंटीना और स्पेन ने क्वार्टरफाइनल के लिए क्वालीफाई किया। अर्जेंटीना के सात और स्पेन के पांच अंक रहे। क्वार्टरफाइनल में भारत का मुकाबला पूल बी की तीसरे नंबर की टीम से होगा। टोक्यो ओलंपिक में भारतीय पुरुष हॉकी टीम की यह लगातार तीसरी जीत रही, जबकि जापान को चौथी बार हार नसीब हुई। भारतीय टीम पहले ही क्वार्टर फाइनल में अपनी जगह बना चुकी है। उल्लेखनीय है कि 1980 ओलिंपिक के बाद यह पहला मौका है जब भारतीय टीम ग्रुप स्टेज में दूसरे स्थान पर रही है।


मैच की बात करें तो भारतीय टीम ने पहले क्वार्टर में ही बढ़त हासिल कर ली थी, जब 12वें मिनट में हरमनप्रीत ने पेनल्टी कॉर्नर को जबरदस्त ड्रैग फ्लिक से गोल में तब्दील किया और टीम 1-0 से बढ़त दिलाई। अटैक के साथ-साथ मजबूत डिफेंस की बदौलत भारत पहले क्वार्टर को 1-0 की बढ़त के साथ समाप्त करने में सफल रहा। इसके बाद दूसरे क्वार्टर की शुरुआत में ही भारतीय टीम ने अपनी बढ़त को दोगुना कर लिया। 17वें मिनट में भारतीय टीम ने बेहतरीन मौका बनाया और सिमरजीत सिंह के बेहतरीन पास को गुरजंत सिंह ने गोल में तब्दील कर दिया, हालांकि दो मिनट बाद ही जापान ने वापसी करते हुए 19वें मिनट में एक गोल कर स्कोर 2-1 किया। केंटा तनाका ने टीम के लिए पहला गोल दागा। पहले दो क्वार्टर में जबरदस्त मुकाबले के बाद तीसरे क्वार्टर में भी कड़ी टक्कर देखने को मिली। दोनों टीमें आक्रामक दिखीं, लेकिन जापान ने 31वें मिनट गोल दाग कर स्कोर को 2-2 से बराबर करने में सफल रहा, हालांकि स्कोर ज्यादा देर तक बराबरी पर नहीं रहा, क्योंकि भारत की जांबाज टीम ने 34वें मिनट में ही शमशेर के गोल की मदद से वापस बढत हासिल कर ली और इस तरह तीसरा क्वार्टर 3-2 पर समाप्त हुआ। रही बात आखिरी और चौथे क्वार्टर की तो इसमें भारत ने जापान को होश में ही नहीं आने दिया। भारत ने बहुत जल्दी दो गोल दाग कर 5-2 से निर्णायक बढ़त हासिल कर ली। 51वें मिनट में नीलकांत ने भारत के लिए चौथा गोल किया, जबकि 56वें मिनट में गुरजंत ने मैच का दूसरा गोल दागा, हालांकि जापान ने भी आखिर तक हार नहीं मानी और मैच खत्म होने से ठीक पहले 59वें मिनट में तीसरा गोल किया, लेकिन अंत में भारत ने 5-3 से मुकाबला अपने नाम किया।

कोई टिप्पणी नहीं: