डाक्टरों की सेवा और बलिदान को नमन किया मोदी ने - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 1 जुलाई 2021

डाक्टरों की सेवा और बलिदान को नमन किया मोदी ने

modi-tribute-docters
नयी दिल्ली 01 जुलाई, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना महामारी के कारण उत्पन्न संकट के दौरान निस्वार्थ और त्याग की भावना से देश सेवा के दायित्व का निर्वहन करने के लिए देश की 130 करोड़ आबादी की ओर से चिकित्सक समुदाय के प्रति आभार व्यक्त किया है। श्री मोदी ने गुरूवार को डॉक्टर दिवस के मौके पर भारतीय चिकित्सा संघ द्वारा आयोजित कार्यक्रम को वीडियो कांफ्रेन्स के माध्यम से संबोधित किया और उनकी सेवाओं के लिए नमन किया। उन्होंने कहा , “ डॉक्टर्स को ईश्वर का दूसरा रूप कहा जाता है, तो ऐसे ही नहीं कहा जाता। कितने ही लोग ऐसे होंगे जिनका जीवन किसी संकट में पड़ा होगा, किसी बीमारी या दुर्घटना का शिकार हुआ होगा, या फिर कई बार हमें ऐसा लगने लगता है कि क्या हम किसी हमारे अपने को खो देंगे? - ” प्रधानमंत्री ने कोरोना महामारी से लड़ते हुए मानवता की सेवा में अपना जीवन बलिदान करने वाले डाक्टरों को श्रद्धांजलि भी दी। उन्होंने कहा कि डाक्टरों ने अपने अनुभव और विशेषज्ञता के बल पर कोरोना की चुनौतियों के समाधान को खोजा है । प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में ढांचागत चिकित्सा सुविधाओं की लंबे समय से उपेक्षा और आबादी के दबाव के बावजूद देश में विकसित देशों की तुलना में प्रति एक लाख की आबादी में संक्रमण और मृत्यु दर अपेक्षाकृत काबू में है। लोगों की जान जाना दुख का विषय है लेकिन अनेक लोगों की जान बचायी भी गयी है और इसका श्रेय डाक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं की मेहनत को जाता है। उन्होंने कहा , “ आज जब देश कोरोना से इतनी बड़ी जंग लड़ रहा है तो डॉक्टर्स ने दिन रात मेहनत करके, लाखों लोगों का जीवन बचाया है। ये पुण्य कार्य करते हुए देश के कई डॉक्टर्स ने अपना जीवन भी न्योछावर कर दिया। मैं उन्हें अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं, उनके परिवारों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं। ” पिछली सरकारों द्वारा की गयी चिकित्सा क्षेत्र की उपेक्षा का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा , “ हमारी सरकार ही है, जिसने स्वास्थ्य पर सबसे अधिक बल दिया है। पहली लहर के दौरान लगभग 15 हजार करोड़ रुपये आवंटित किए थे, जिससे स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने में मदद मिली। इस साल हेल्थ सेक्टर के लिए बजट का आवंटन दोगुने से भी ज्यादा यानि दो लाख करोड रुपये से भी अधिक किया गया।” 

कोई टिप्पणी नहीं: