बिहार : मानसून सत्र का विपक्ष ने किया बहिष्कार - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 28 जुलाई 2021

बिहार : मानसून सत्र का विपक्ष ने किया बहिष्कार

  • विधायकों के साथ मारपीट पर चाहते थे विशेष चर्चा

opposition-bycott-monsoon-sesion-bihar
पटना : नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के नेतृत्व में पूरा विपकसब बिहार विधानसभा के मानसून सत्र की आगामी बैठक का बहिष्कार करने का फैसला किया है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव विधानसभा में विधायकों के साथ हुई मारपीट को लेकर विशेष चर्चा करना चाहते थे। लेकिन, विधानसभा अध्यक्ष इसको लेकर राजी नहीं हुए। तेजस्वी ने कहा कि कल से शेष बचे मानसून सत्र में विपक्ष यानी महागठबंधन के एक भी सदस्य भाग नहीं लेंगे। उन्होंने कहा कि सदन में हमलोगों ने विधायकों के साथ हुई मारपीट को लेकर जो प्रस्ताव रखा था, उसे अस्वीकार कर लिया गया है। महागठबंधन के विधायकों का मानना है कि जब चर्चा होगी तभी यह बात स्पष्ट होगी कि पूरे मामले में गलती किसकी है।


इसके अलावा नेता प्रतिपक्ष ने विधानसभा अध्यक्ष को लेकर कहा कि वे सरकार की कठपुतली बनकर रह गए हैं। सरकार के इशारे पर उन्होंने सदन में चर्चा नहीं होने दी, इशारे पर उन्होंने हमारे प्रस्ताव को खारिज कर दिया। विधानसभा अध्यक्ष किसी भी जनहित के मुद्दे पर चर्चा नहीं होने दे रहे हैं। तेजस्वी ने कहा कि कुछ लोग सदन को जागीर समझ बैठे हैं। इसलिए वहां जाने का कोई मतलब ही नहीं है। हां, अगर प्रस्ताव पर चर्चा होगी तब महागठबंधन के सदस्य सत्र में हिस्सा लेंगे, अन्यथा नहीं। नेता प्रतिपक्ष ने सत्तापक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि यहां अफसरशाही हावी है। उन्होंने कहा कि 16 वर्षों से सत्ता पर क़ाबिज़ नीतीश-बीजेपी सरकार ने स्वयं स्वीकार किया है कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने के मामले में बिहार सबसे फिसड्डी है। नीति आयोग की रिपोर्ट भी यही कहती है लेकिन फिर भी नीतीश सरकार शिक्षा व्यवस्था को सुधारने में बिल्कुल भी गंभीर नहीं है।

कोई टिप्पणी नहीं: