सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 24 अगस्त - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 24 अगस्त 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 24 अगस्त

जिले में अब तक 668.8 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज, बीते 24 घंटे में 0.1 मिलीमीटर औसत वर्षा


sehore news
जिले में 01 जून से 24 अगस्त 2021 तक 668.8 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। जो कि गत वर्ष इसी अवधि में औसत वर्षा 925.7 मिलीमीटर थी। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1148.4 मिलीमीटर है। अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 01 जून से 24 अगस्त 2021 तक जिले के वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 670.3 मिलीमीटर,  श्यामपुर में 651.9, आष्टा में 601.0 जावर में 606.0, इछावर में 666.3, नसरूल्लागंज में 630.0,  बुधनी में 824.0, रेहटी में 701.2 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।

बीते 24 घंटे में 0.1 मिलीमीटर औसत वर्षा

जिले में बीते 24 घंटे में प्रात: 08 बजे तक 0.1 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 0.0 मिलीमीटर, श्यामपुर में 0.0, आष्टा में 0.0 जावर में 0.0, इछावर में 0.0, नसरूल्लागंज में 1.0, बुधनी में 0.0, रेहटी में 0.0 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।


अनुसूचित जनजाति छात्रवृत्ति हेतु 31 अगस्त तक जमा कर सकेंगे ऑन लाइन आवेदन


राज्य शासन द्वारा अनुसूचित जनजाति छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति योजना का लाभ प्रदान करने की दृष्टि से एम पी टी ए ए एस के अंतर्गत शैक्षणिक संस्थान में अध्ययनरत प्रथम वर्ष, द्वितीय वर्ष एवं तृतीय वर्ष के अनुसूचित जनजाति के छात्र एवं छात्राओं के छात्रवृत्ति आवेदन पत्र भरने की अंतिम तिथि बढ़ाकर अब 31 अगस्त कर दी गई है। इसलिये संबंधित संस्था प्रमुख 31 अगस्त तक छात्र एवं छात्राओं के आवेदन पत्र ऑन लाईन भरवाकर तत्काल आदिवासी विकास कार्यालय को सूचित करें। अधिक जानकारी के लिये सहायक आयुक्त, आदिवासी विकास कार्यालय से संपर्क किया जा सकता हैं।


संपत्तियों के पंजीयन हेतु निर्धारित समय पर नहीं पहुंचने पर स्लॉट हो जायेगा निरस्त


कोरोना संक्रमण से आमजन की सुरक्षा के दृष्टिगत दस्तावेज पंजीयन हेतु बुक किये गए स्लॉट समय के अंदर यदि पक्षकार उप पंजीयक कार्यालय में उपस्थित नहीं होते हैं, तो स्लॉट स्वतः ही निरस्त हो जाएगा। वरिष्ठ जिला पंजीयक ने समस्त पक्षकारों से आग्रह किया है कि उप पंजीयक कार्यालयों में दस्तावेज के पंजीयन की कार्यवाही हेतु निर्धारित स्लॉट समय पर ही उपस्थित हों जिससे असुविधा से बचा जा सके।


"एम-राशन मित्र एप" पात्रता पर्ची की जानकारी प्राप्त करने का जरिया


खाद्य नियंत्रक भोपाल श्रीमती ज्योति शाह नरवरिया ने बताया कि खाद्य सुरक्षा योजना से लाभान्वित परिवारों का सत्यापन किया जा रहा है। तैनात कर्मचारियों द्वारा घर-घर जाकर एम-राशन मित्र एप के माध्यम से सत्यापन किया जा रहा है। प्रत्येक उपभोक्ता गुगल प्ले स्टोर से इस एप को स्टाल कर सकते हैं। इसके माध्यम से उपभोक्ता अपनी पात्रता की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। एप में परिवार की समग्र आईडी से लागिन करने पर खाद्यान्न की पात्रता, पात्रता पर्ची के अनुसार परिवार के सदस्यों की जानकारी तथा परिवार प्रोफाइल की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। इसके माध्यम से आसपास की उचित मूल्य दुकान पीओएस मशीन की स्थिति, दुकान को खाद्यान्न आवंटन एवं वितरण की भी जानकारी प्राप्त की जा सकती है। शासन द्वारा खाद्यान्न वितरण के संबंध में दी जाने वाली सूचनाओं और सुविधाओं के लिए भी एम-राशन मित्र एप बहुत उपयोगी है।


एक सितंबर से शराब खरीदी पर भी मिलेगा केश मेमो


राज्य शासन के निर्देश अनुरूप जिले में भी 1 सितंबर से मदिरा खरीदी पर शराब दुकानों से उपभोक्ताओं को केश-मेमो दिए जाना सुनिश्चित कराएं। उल्लेखनीय है कि प्रदेश की देशी एवं विदेशी मदिरा दुकानों से क्रेता को उसके द्वारा भुगतान की गई राशि का केश मेमो प्रदाय किया जाना अनिवार्य कर दिया गया है। इस संबंध में आबकारी आयुक्त ने आदेश जारी कर दिये हैं। आबकारी आयुक्त, द्वारा जारी निर्देशानुसार में कहा गया है कि प्रदेश की देशी एवं विदेशी मदिरा दुकानों से एक सितम्बर, 2021 से विक्रय की जाने वाली मदिरा का क्रेता को भुगतान राशि का केश मेमो दिया जाना अनिवार्य कर दिया गया है। जारी निर्देशानुसार केश मेमो संबंधी बिल बुक जिला आबकारी कार्यालय से अनिवार्य रूप से प्रमाणित कराई जायेगी। बिल की कार्बन कॉपी अनुज्ञप्तिधारी द्वारा ठेका अवधि समाप्ति 31 मार्च, 2022 तक रखा जाना अनिवार्य होगा।  मदिरा दुकानों पर एक अधिकारी का मोबाइल नम्बर प्रदर्शित किया जायेगा। केस मेमो नहीं मिलने पर उक्त नम्बर पर शिकायत दर्ज कराई जा सकेगी। आबकारी अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि मदिरा दुकान पर उनके द्वारा अधिकृत अधिकारी का मोबाइल नम्बर अनिवार्य रूप से प्रदर्शित करवाया जाये।


वैक्सीन की प्रथम डोज आंशिक सुरक्षा, दूसरी डोज मतलब पूरी सुरक्षा


कोरोना महामारी के विरूद्ध पूरी तरह से रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के लिए वैक्सीनेशन काफी कारगर साबित हो रहा है। वैज्ञानिक तथ्य भी यही कहते हैं कि वैक्सीन की दोनों डोज समय पर लग जाने से व्यक्ति के कोरोना संक्रमित होने की संभावना 93 प्रतिशत तक घट जाती है। साथ ही अस्पताल में भर्ती मरीजों की मृत्यु की संभावना भी नगण्य हो जाती है। प्रदेशवासियों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिये संवेदनशील राज्य सरकार लक्षित समूह को वैक्सीन का सुरक्षा कवच देने के लिए कटिबद्ध है। वैक्सीनेशन का शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करने के लिए प्रदेश में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की पहल पर 25 एवं 26 अगस्त को दो दिवसीय टीकाकरण महाअभियान चलाया जाएगा।  कोरोना संक्रमण की पहली और दूसरी लहर ने विश्व के अधिकांश देशों को अपनी चपेट में ले लिया था। कोरोना काल में अनेकों ने अपनी जान भी गंवाई। कोरोना के साथ लड़ाई में भारत ने कम समय में स्वदेशी वैक्सीन तैयार कर एक अनूठा उदाहरण पूरे विश्व के सामने प्रस्तुत किया। वैक्सीन का निर्माण जितनी तेजी से किया गया, उतनी ही रफ्तार से प्रदेशों में वैक्सीन पहुँचाई भी गई। इसके बाद प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार ने "सबको वैक्सीन-नि:शुल्क वैक्सीन" मंत्र देकर वैक्सीन तक सभी की पहुँच सुनिश्चित की। वैक्सीन की उपलब्धता के साथ उसके उपयोग में मध्यप्रदेश पूरे राष्ट्र में अग्रणी रहा। 


वैक्सीन के द्वितीय डोज का महत्व

कोरोना महामारी से बचाव के तौर पर रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के लिए कोविड-19 के दोनों डोज लगवाना अत्यन्त आवश्यक है। कोविड-19 टीके का प्रथम डोज मनाव शरीर में आंशिक सुरक्षा प्रदान करता है, जिसके लगने के बाद भी संक्रमित होने का खतरा बना रहता है। वैक्सीन का द्वितीय डोज समयावधि में लगवाने से वैक्सीन की एफिकेसी सर्वाधिक रहती है। प्रदेश में अभी दो प्रकार की वैक्सीन कोविशील्ड और कोवैक्सीन लगाई जा रही है। चिकित्सकीय एवं वैज्ञानिक आधार पर कोविशील्ड वैक्सीन की प्रथम डोज लेने के 84 दिन बाद द्वितीय डोज और कोवैक्सीन की प्रथम डोज लेने के 28 दिन बाद द्वितीय डोज लेना जरूरी है। वैक्सीन की द्वितीय डोज लगने के 2 से 3 सप्ताह बाद ही शरीर में कोरोना बीमारी के विरूद्ध प्रतिरोधक क्षमता पूर्ण रूप से विकसित होती है। साथ ही शरीर एक से अधिक प्रकार की एंटीबॉडी तैयार करता है जो कोरोना और उसके अन्य वेरिएंट के विरूद्ध बचाव करने में सहायक होती है। 


महाअभियान को सफल बनाने जन-भागीदारी भी जरूरी

कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन सिर्फ सरकार की ही नहीं, समाज की जिम्मेदारी भी है। हर नागरिक को स्व-प्रेरणा से आगे आकर सरकार द्वारा दिए जा रहे वक्सीन के सुरक्षा कवच को अपनाना होगा। यह अतिश्योक्ति नहीं होगी कि मध्यप्रदेश में वैक्सीनेशन के लिए चलाए गए प्रथम टीकाकरण महाअभियान में राष्ट्रीय स्तर पर जो सफलता मिली, उसमें जन-भागीदारी की महत्ता को नकारा नहीं जा सकता है। प्रदेश में वैक्सीनेशन महाअभियान का दूसरा चरण 25 एवं 26 अगस्त को होने जा रहा है। प्रथम महाअभियान की तरह इस महाअभियान में भी राज्य सरकार के प्रयासों के साथ जनता की भागीदारी भी बहुत जरूरी होगी।  


वैक्सीनेशन के बाद भी सजग और सर्तक रहना है जरूरी

यूं तो वैक्सीनेशन की दोनों डोज लगवा लेने के बाद काफी हद तक कोरोना संक्रमण का प्रभाव कम हो जाता है। इसके बावजूद भी सजग और सर्तक रहने की आवश्यकता है। कोरोना वायरस के प्रति अनुकूल व्यवहार को अपनाते रहना होगा, जिसमें मास्क लगाना, हाथों को समय-समय पर सेनेटाइज करना, ज्यादा भीड़-भाड़ न करना और न ही उसमें शामिल होने जैसी गतिविधियों को अपनाते रहना होगा। तभी हम अपने आपको और समाज को कोरोना वायरस से बचा पाएंगे। 


नागरिकों की सुरक्षा के प्रति संवेदनशील सरकार

राज्य सरकार ने कोरोना संक्रमण को खत्म करने के लिये जो भगीरथी प्रयास किये वह किसी से छिपे नहीं हैं। कोरोना की जाँच से लेकर उपचार की जो व्यवस्थाएँ की गई, उससे प्रदेश में कोरोना संक्रमण को काफी हद तक नियंत्रित किया जा सका है। वैक्सीन का सुरक्षा कवच हर नागरिक को मिल जाए, यह प्रयास राज्य की संवेदनशील सरकार ने किया है। इन प्रयासों में आम नागरिक के साथ धर्मगुरूओं, सामाजिक कार्यकर्ताओं, स्वयंसेवी संस्थाओं, कोरोना वॉलेंटियर्स, शहरी-ग्रामीण जन-प्रतिनिधियों के साथ समाज के हर वर्ग को आगे आकर अपनी नैतिक जिम्मेदारी के साथ वैक्सीनेशन महाअभियान में सहयोग करना होगा।


प्रदेश में 4 करोड़ के पार हुआ वैक्सीन डोज का आंकड़ा

वैक्सीनेशन के आंकड़ों पर यदि नजर डाले तो हम पायेंगे कि मध्यप्रदेश में वैक्सीनेशन के लिए लक्षित समूह की संख्या 5 करोड़ 49 लाख है, जिसके विरूद्ध अब तक प्रदेश में 4 करोड़ से अधिक लोगों को वैक्सीन के डोज लगाए जा चुके हैं। इनमें से वैक्सीन की दूसरी डोज 65 लाख से अधिक लोगों को लग चुकी है। वैक्सीनेशन का लक्ष्य पूरा करने के लिये मध्यप्रदेश में टीकाकरण महाअभियान का दूसरा चरण 25 अगस्त से प्रांरभ किया जा रहा है। इसका मुख्य उद्देश्य वैक्सीन के दूसरे डोज का कव्हरेज बढ़ाना भी है।


मुख्यमंत्री श्री चौहान का वर्चुअल संबोधन मंगलवर को


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मंगलवार 24 अगस्त को पूर्वान्ह 11.30 बजे से वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा प्रदेश के क्राइसिस मैनेजमेंट समितियों के सदस्यों को संबोधित करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान के इस संबोधन का उद्देश्य दो दिवसीय वैक्सीनेशन महाअभियान के संबंध में की गई तैयारियों की जानकारी प्राप्त करना और आवश्यक निर्देश देना है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में वैक्सीनेशन महाअभियान काद्वितीय चरण 25 और 26 अगस्त को संचालित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान प्रदेश के विकासखंडों, वार्डों, ग्रामों और नगरों में गठित क्राइसिस मैनेजमेंट समितियों के सदस्यों से बातचीत भी करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान इसके पहले 21 अगस्त को इन सदस्यों से चर्चा करते हुए कहा था कि सोशल मीडिया पर भी अपील करते हुए लोगों को प्रेरित किया जाए। विभिन्न क्षेत्रों के प्रख्यात व्यक्तियों का भी सहयोग लिया जाए।  मुख्यमंत्री श्री चौहान का मानना है कि वैक्सीनेशन महाअभियान में आशा और उषा, आँगनबाड़ी कार्यकर्ता के साथ ही स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा विभाग केन्द्रीय भूमिका में रहेगा। लेकिन अन्य शासकीय विभाग भी लोगों को प्रेरित करने में सक्रिय भूमिका निभायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रभारी मंत्रियों को भी इस महाअभियान की तैयारियों की पूर्णता सुनिश्चित करने को कहा है। प्रदेश में सितम्बर माह तक प्रथम डोज शत-प्रतिशत पात्र आबादी-को लगवाने का लक्ष्य है। महाअभियान में घर-घर जाकर लोगों को पीले चावल देकर वैक्सीनेशन के लिए आमंत्रित किया जा रहा है। जिला स्तर पर कलेक्टर्स सामाजिक संगठनों के साथ मिलकर विभिन्न नवाचारों को भी अंजाम दे रहे हैं। इससे वैक्सीनेशन के लिए पात्र लोगों को टीकाकरण केन्द्र तक लाने में सहयोग मिलेगा। 


नल कनेक्शन युक्त हो रहे स्कूल और आँगनबाड़ी, समूह जल-प्रदाय की 28 नई योजनायें देंगी 15 लाख से अधिक घरों


जल जीवन मिशन के अंतर्गत प्रदेश में अब तक 22 हजार 200 आँगनबाड़ियों और 37 हजार 900 स्कूलों में नल के जरिये पेयजल पहुँचाने की व्यवस्था की जा चुकी है। प्रदेश की शालाओं और आँगनबाड़ियों में आने वाले बच्चों को गुणवत्तापूर्ण और सुगमता से पेयजल की आपूर्ति की दिशा में भी जल जीवन मिशन से काफी सहयोग मिला है। सभी स्कूलों एवं आँगनबाड़ियों में नल कनेक्शन से जल मुहैय्या करवाने का कार्य मिशन में चल रहा है। प्रदेश में इन दोनों प्रकार की संस्थाओं में लक्ष्य के विरूद्ध क्रमश: 32 और 41 प्रतिशत की पूर्ति की जा चुकी है। जल निगम द्वारा जल जीवन मिशन के अन्तर्गत प्रस्तावित 28 समूह जल-प्रदाय योजनाओं से 15 लाख 20 हजार घरेलू नल कनेक्शन दिए जायेंगे। जल निगम बहुत जल्द 9,847 करोड़ रूपये की इन जल-प्रदाय योजनाओं पर कार्य प्रारम्भ कर रहा है, जिससे प्रदेश के 6,449 ग्रामों के शत-प्रतिशत घरों में नल के जरिये जल पहुँचाया जा सकेगा।


कांग्रेस की अगस्त क्रांति रथ यात्रा में शामिल हुए सीहेार नगर के कांग्रेस कार्यकर्ता, क्रिसेंट रिसोर्ट चौराहे से फंदा टोल नाके तक शामिल होकर किया भोपाल रवाना


sehore news
सीहोर। कांग्रेस नेत्री नूरी खान के द्वारा प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीतियों महंगाई बेरोजगारी महिला उत्पीडऩ के खिलाफ उज्जैन से भोपाल तक निकाली जा रहीं अगस्त क्रांति पद यात्रा कल दिनांक २२ अगस्त रविवार को सीहेार पहुंची थी जहां रात विश्राम कर यह यात्रा आज दिनांक २३ अगस्त सोमवार को पुन: क्रिसेंट रिसयोर्ट चौराहे से भोपाल के लिए रवाना हुई। इस यात्रा में सीहेार नगर के कांग्रेस नेता शामिल हुए जिस में जिला कांग्रेस प्रवक्ता पंकज शर्मा एवं असंगठित कामगार कांग्रेस विभाग के जिलाध्यक्ष राजेंद्र नागर रिसोर्ट चोराहे से पद यात्रा में शामिल होकर लगभग १५ किलोमीटर पैदल चलकर फंदा टोल नाके तक पहुंचकर भोपाल जिले की सीमा में यात्रा को प्रवेश कराया। जहा से यात्रा आगे के लिए रवाना हुई। इस दौरान जिला कांग्रेस प्रवक्ता पंकज शर्मा ने कहा की प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीतियों मंहगाई बेरोजगारी तथा महिला उत्पीडऩ के खिलाफ वरिष्ठ कांग्रेस नेत्री नूरीखान के द्वारा यह पद यात्रा निकाली जा रही है। हमारे जिले की सीमा में इस यात्रा के पहुंचने पर हम भी इस यात्रा में शामिल होने पहुंचे है। इस दौरान असंगठित कामगार कांग्रेस के जिलाध्यक्ष राजेंद्र नागर ने कहा की किसी महिला नेत्री के द्वारा पहली बार इस तरह की पद यात्रा निकाली जा रही है जिस में पार्टी का छोटा कार्यकर्ता भी उत्साह के साथ शामिल हो रहा है कार्यकर्ताओं के इसी उत्साह के दम पर हम २०२३ में इस जनविरोधी प्रदेश सरकार को उखड़कर पुन: कांग्रेस की सत्ता में कराएंगे। 

कोई टिप्पणी नहीं: