200-हल्ला हो में एक दशक के बाद अमोल पालेकर की वापसी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 18 अगस्त 2021

200-हल्ला हो में एक दशक के बाद अमोल पालेकर की वापसी

amol-palekar-comeback-after-decade
जालंधर, 16 अगस्त,  अभिनेता अमोल पालेकर एक दशक बाद फिल्म ‘200-हल्ला हो’ से फिल्मों में वापसी कर रहे हैं। सार्थक दासगुप्ता द्वारा निर्देशित, 200-हल्ला हो’, में बताया गया है कि कैसे 200 दलित महिलाओं ने एकजुट होकर एक गैंगस्टर, लुटेरे और सीरियल रेपिस्ट को खुली अदालत में पीट-पीट कर कानून और न्याय अपने हाथ में ले लिया था। सच्ची घटनाओं से प्रेरित, फिल्म चौंकाने वाली घटनाओं और परिस्थितियों को उजागर करती है, जिसके कारण 200 महिलाओं ने न्याय पाने के लिए इतना कठोर कदम उठाया था। सार्थक दासगुप्ता द्वारा लिखित और निर्देशित, सारेगामा की फिल्म प्रोडक्शन शाखा, यूडली फिल्म्स द्वारा निर्मित, '200-हल्ला हो' का प्रीमियर 20 अगस्त को ज़ी5 पर होगा। फिल्म में दिल्ली के मुंडा और प्रसिद्ध टीवी अभिनेता बरुण सोबती, दिल्ली की कुड़ी और 'सोनी' फेम अभिनेत्री सलोनी बत्रा और चंडीगढ़ का मुंडा और लोकप्रिय होस्ट / यूट्यूबर साहिल खट्टर, सैराट गर्ल रिंकू राजगुरु, राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेता-उपेंद्र लिमये और लोकप्रिय टीवी अभिनेता इंद्रनील सेन गुप्ता शामिल हैं।


साहिल खट्टर ने बताया कि उनका करेक्टर, बल्ली चौधरी एक कुख्यात वास्तविक जीवन चरित्र से प्रेरित है। जब मैंने उसके बारे में पढ़ा और पता चला कि वह सचमुच भारत के 10 सबसे घातक सीरियल किलर में से एक है और जब मैंने उसकी तस्वीर देखी, तो मुझे एहसास हुआ कि इस दुबले-पतले दिखने वाले आदमी ने समाज में कितना आतंक फैला दिया है। मुझे आश्चर्य हुआ कि यह पतला आदमी इतना आतंक कैसे फैला सकता है। यह एक दिलचस्प किरदार था और उनके लिए इससे बेहतर ओटीटी डेब्यू नहीं हो सकता था। बरुण सोबती ने कहा,“ फिल्म में मेरा किरदार उमेश जोशी का है, जो एक नि:शुल्क वकील है। भारत के वर्तमान सिनेमाई परिदृश्य में, आप देखेंगे कि ग्रे पात्रों की अत्यधिक आपूर्ति है। उमेश एक अलग और सकारात्मक करेक्टर है जो मैंने लंबे समय के बाद किया है।”

कोई टिप्पणी नहीं: