मधुबनी : शिक्षकों ने बोरा बेचने के सरकार के आदेश का विरोध किया - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 16 अगस्त 2021

मधुबनी : शिक्षकों ने बोरा बेचने के सरकार के आदेश का विरोध किया

teachers-protest-for-bora-seling-madhubani
मधुबनी (फ़िरोज़ आलम) बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार पप्पू के राज्य व्यापी आह्वान पर सोमवार को समाहरणालय के समक्ष जिलाध्यक्ष संजीव कुमार कामत की अध्यक्षता में सैकड़ों शिक्षकों ने बोरा बेचने के लिए सेल लगाया। विदित हो कि कटिहार जिला के शिक्षक मो तमीजुद्दीन ने निदेशक मध्याह्न भोजन के आदेश के आलोक में बाजार में घूम घूम कर एमडीएम का बोरा बेचने का प्रयास किया था। सोशल मीडिया और मीडिया में यह वीडियो वायरल होने पर सरकार ने शिक्षक पर सरकार की छवि खराब करने का मनगढ़ंत आरोप लगाकर मो तमीजुद्दीन को निलंबित कर दिया। सरकार के ही आदेश पर बोरा बेचने वाले निर्दोष शिक्षक को निलंबित करने से शिक्षकों में भारी आक्रोश है। इस अवसर पर प्रधान सचिव अवधेश कुमार झा ने कहा कि निदेशक मध्याह्न भोजन योजना ने ही एमडीएम के चावल के बोरे को 10 रू प्रति पीस बेचकर सरकारी खजाने में राशि जमा करने का आदेश दिए है। शिक्षक ने विभाग के आदेश का पालन किया फिर भी इन्हें निलंबित कर दिया गया। यह अत्यंत दुर्भाग्य पूर्ण है। सभी शिक्षक एकजुट होकर इस निलंबन कार्रवाई का विरोध कर रहे हैं। कोषाध्यक्ष सुरेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि जब शिक्षक बाजार से नमक तेल मशाला फल सब्जियां और अंडा  खरीद कर लाते है तो सरकार की छवि पर नहीं पड़ता है। विभाग के आदेश पर बोरा बेचने पर सरकार की छवि खराब होती है। तो फिर ऐसा आदेश सरकार वापस क्यों नहीं लेती है, जिससे उनकी छवि खराब होती है। विभाग का आदेश पालन करने पर भी जब निर्दोष शिक्षकों पर कार्रवाई की जाएगी तो राज्य की शिक्षा व्यवस्था के लिए इससे बड़ा दुर्भाग्य और क्या होगा ?  मुख्यमंत्री को संज्ञान लेकर अविलंब इस तरह का आदेश निर्गत करने वाले विभागीय अधिकारी पर कार्रवाई करनी चाहिए। जिला उपाध्यक्ष लीलाधर पासवान ने बोरा बेचने का शर्मनाक आदेश देने वाले अधिकारी पर कार्रवाई करने तथा बोरा बेचने का आदेश वापस लेने की मांग मुख्यमंत्री से की। जिला सचिव ललित नारायण ललन एवं प्रेमचंद प्रसाद ने निर्दोष शिक्षक को निलंबित करने के आदेश को अविलंब रद्द करने की मांग की अन्यथा बाध्य होकर संघ राज्यव्यापी चरणबद्ध आंदोलन करेगा।  बोरा बेचने के अभियान में जिला उपाध्यक्ष पांडव यादव जिला सचिव बबीता चौरसिया मीनाक्षी मिश्रा प्रभास चौधरी प्रेमचंद प्रसाद सुरेंद्र कुमार यादव कपिल देव यादव सुनील कुमार पासवान उमेश कुमार यादव बृजेश कुमार रुक्मणी का मनीष खालिद अंजू मुजीब उर रहमान नथुनी पासवान रोबिन पंडित सुरेंद्र कुमार सिंह सुकृत सिंह मो रियाजउद्दीन अजय पासवान प्रताप नारायण मिश्र गणेश प्रसाद पवन कुमार यादव विजय कांत झा महेश पासवान अनिल कुमार सुरेश पासवान रामदेव पासवान विनोद राम मोहम्मद नुरुल होदा राम सुधीर पासवान बालकृष्ण ठाकुर शंभू प्रसाद सहित सैकडों शिक्षकों ने भाग लिया तथा निलंबन आदेश को रद्द करने के लिए आवाज बुलंद किया।

कोई टिप्पणी नहीं: