मधुबनी : नदियों के जलस्तर बढ़ने पर बढ़ी लोगों की मुश्किलें - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 19 अगस्त 2021

मधुबनी : नदियों के जलस्तर बढ़ने पर बढ़ी लोगों की मुश्किलें

water-lever-up-in-madhubani
मधुबनी : जिले में पिछले 10 दिनों से एवं नेपाल के जलग्रहण क्षेत्र में रूक-रूक कर हो रही भारी बारिश के कारण मधवापुर प्रखंड के मध्य होकर बहने वाली अधवारा समूह की नदियों के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है। नदियों के जलस्तर में वृद्धि से दर्जनों गांवों के लोग एक बार फिर बाढ़ के डर से सहमे हुए हैं। पिछले जुलाई माह में आई बाढ़ से लोग उबरे भी नहीं थे कि फिर से बाढ़ की आशंका से भयभीत हैं। बुधवार की सुबह से अधवारा समूह की नदियों का जलस्तर काफी तेजी से बढ़ रहा है। नदी ऊपर तक लबालब भर चुका है। फिर से अगर बाढ़ आई तो साहरघाट, बसवरिया, पिहवारा, उतरा, बैंगरा, सलेमपुर, बोकहा, पहिपुरा, लोमा, विशनपुर, त्रिमुहान, करहूंआ, अंदौली, पिरौखर सहित करीब दर्जनों गांव में भयंकर तबाही मचाएगी। इन गांवों के लोग अभी से ही बाढ़ की विभीषिका से निपटने की तैयारी में जुट चुके हैं। बता दें कि धौंस नदी का जलस्तर मधवापुर में, यमुनी नदी का जलस्तर ब्रह्मपुरी में और रातों नदी का जलस्तर अभी पिरौखर में काफी तेजी से बढ़ रहा है। पिछले दिनों धौंस नदी का सुरक्षा तटबंध अंदौली और बसवरिया में टूट जाने से दर्जनों गांव बाढ़ से प्रभावित हुआ था। एक बार फिर से नदियों के जलस्तर में वृद्धि से इन गांव के लोग सहमे हुए हैं। लगातार हो रही भारी बारिश के कारण सर्वाधिक परेशानी किसानों को झेलनी पड़ रही है। सीओ सुधीर कुमार ने बताया कि नदियों के जलस्तर पर प्रशासन की पैनी नजर बनी हुई है। किसी भी स्थिति से निपटने के लिए प्रखंड प्रशासन अलर्ट मोड़ में है। जिले के मधवापुर में घौंस नदी, ब्रह्मपुरी में यमुनी नदी और पिरौखर में रातो नदी का तेजी से बढ़ रहा जलस्तर। पिछले माह आई बाढ़ में अंदौली और बसवरिया में टूटा था धौंस नदी का सुरक्षा तटबंध। फिर से अगर बाढ़ आई तो साहरघाट, बसवरिया, पिहवारा, उतरा, बैंगरा, सलेमपुर सहित करीब दर्जनों गांव में मचाएगी तबाही।

कोई टिप्पणी नहीं: