बीएसएफ ने गश्ती दल पर हमले के बाद बीजीबी के समक्ष ‘कड़ा विरोध’ दर्ज कराया - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 30 अगस्त 2021

बीएसएफ ने गश्ती दल पर हमले के बाद बीजीबी के समक्ष ‘कड़ा विरोध’ दर्ज कराया

bsf-oppose-bgb
नयी दिल्ली, 30 अगस्त, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने पश्चिम बंगाल में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास अपने गश्ती दल पर तस्करों के हमले के बाद बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के समक्ष ‘कड़ा विरोध’ दर्ज कराया है। गश्ती दल के जवानों की जवाबी कार्रवाई में दो बांग्लादेशी तस्कर मारे गए। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। यह घटना रविवार तड़के (लगभग 3:35 बजे) पश्चिम बंगाल के कूचबिहार जिले में चंगरबंधा सीमा चौकी के पास हुई। बीएसएफ के नॉर्थ बंगाल फ्रंटियर ने एक बयान में कहा, ‘‘सीमा पर गश्त के दौरान 18-20 बांग्लादेशी तस्करों ने जवानों को घेर लिया। जवानों ने उन्हें वहां से जाने के लिए कहा। हालांकि, उन्होंने ध्यान नहीं दिया और जवानों पर हमला किया जिसके परिणामस्वरूप सीमा सुरक्षा बल के कर्मियों को गंभीर चोटें आईं। आसन्न खतरे को भांपते हुए तथा कोई अन्य विकल्प न बचने पर जवानों ने आत्मरक्षा में गोलीबारी की।’’ सीमा सुरक्षा बल का नॉर्थ बंगाल फ्रंटियर देश के पूर्वी हिस्से में भारत-बांग्लादेश के बीच 4,096 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा के 932 किलोमीटर से अधिक क्षेत्र की रक्षा करता है और इसका मुख्यालय कदमतला, सिलीगुड़ी में है। बयान में कहा गया कि घटनास्थल पर तलाश के बाद भारतीय क्षेत्र में ‘‘करीब 100 मीटर अंदर’’ दो ‘‘बांग्लादेशी तस्करों’’ के शव मिले। इसमें कहा गया, ‘‘बीजीबी को सूचित किया गया और घटना के संबंध में कड़ा विरोध दर्ज कराया गया।’’

कोई टिप्पणी नहीं: