बीएसएफ ने गश्ती दल पर हमले के बाद बीजीबी के समक्ष ‘कड़ा विरोध’ दर्ज कराया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 30 अगस्त 2021

बीएसएफ ने गश्ती दल पर हमले के बाद बीजीबी के समक्ष ‘कड़ा विरोध’ दर्ज कराया

bsf-oppose-bgb
नयी दिल्ली, 30 अगस्त, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने पश्चिम बंगाल में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास अपने गश्ती दल पर तस्करों के हमले के बाद बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के समक्ष ‘कड़ा विरोध’ दर्ज कराया है। गश्ती दल के जवानों की जवाबी कार्रवाई में दो बांग्लादेशी तस्कर मारे गए। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। यह घटना रविवार तड़के (लगभग 3:35 बजे) पश्चिम बंगाल के कूचबिहार जिले में चंगरबंधा सीमा चौकी के पास हुई। बीएसएफ के नॉर्थ बंगाल फ्रंटियर ने एक बयान में कहा, ‘‘सीमा पर गश्त के दौरान 18-20 बांग्लादेशी तस्करों ने जवानों को घेर लिया। जवानों ने उन्हें वहां से जाने के लिए कहा। हालांकि, उन्होंने ध्यान नहीं दिया और जवानों पर हमला किया जिसके परिणामस्वरूप सीमा सुरक्षा बल के कर्मियों को गंभीर चोटें आईं। आसन्न खतरे को भांपते हुए तथा कोई अन्य विकल्प न बचने पर जवानों ने आत्मरक्षा में गोलीबारी की।’’ सीमा सुरक्षा बल का नॉर्थ बंगाल फ्रंटियर देश के पूर्वी हिस्से में भारत-बांग्लादेश के बीच 4,096 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा के 932 किलोमीटर से अधिक क्षेत्र की रक्षा करता है और इसका मुख्यालय कदमतला, सिलीगुड़ी में है। बयान में कहा गया कि घटनास्थल पर तलाश के बाद भारतीय क्षेत्र में ‘‘करीब 100 मीटर अंदर’’ दो ‘‘बांग्लादेशी तस्करों’’ के शव मिले। इसमें कहा गया, ‘‘बीजीबी को सूचित किया गया और घटना के संबंध में कड़ा विरोध दर्ज कराया गया।’’

कोई टिप्पणी नहीं: