सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 19 अगस्त - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 19 अगस्त 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 19 अगस्त

राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ ने मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन, किसानों की विभिन्न मांगे पूरी करने की मांग


sehore news
सीहोर। राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम अनुविभागीय अधिकारी कार्यालय पहुंचकर तहसीलदार को ज्ञापन दिया। किसान नेताओं ने कहा कि किसान बहुत परेशान है क्योकि वर्ष 2019 खरीफ का बीमा सोसायटीओं द्वारा नहीं दिया गया है और वर्ष 2020 का भी बीमा नहीं दिया गया है इस कमी को झेलते हुये इस वर्ष 2021 की खरीफ फसलों जैसे सोयाबीन व मक्का मे पुनः कीट व्याधियों द्वारा फसलों में अफसलन जैसी स्थिति बन गई है । इस स्थिति से किसान बहुत परेशाहाल में है । किसान को तत्काल बीमा दिलवाया जाय एवं वर्तमान में खड़ी फसलों का तत्काल सर्वे कराकर राहत राशि व बीमा दिलवाया जाय अन्यथा किसान उग्र आन्दोलन करेगा । ज्ञापन सौंपने वालों में राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के पदाधिकारी- संभागीय अध्यक्ष विक्रम पटेल ,मंत्री पहलाद भगत जिला मंत्री बलराम मुकाती, ब्लॉक अध्यक्ष देवकरण मेवाड़ा, जिला उपाध्यक्ष जयसत मेवाड़ा, बाबूलाल पटेल, ब्लॉक मंत्री कचरूमल परमार, सुखराम, लाल सिंह परमार ,शंकर लाल परमार,मदन सिंह पटेल ,दिलीप सिंह ,संतोष सगवालिया,कोषाध्यक्ष राजेंद्र गोर,महेंद्र सिसोदिया सहित बड़ी संख्या में किसान सम्मिलित रहे

एनएसयूआई सेवा दिवस के रूप में मनाएगी पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी जी की जयंती, कांग्रेस कार्यालय में होगा रक्तदान 


सीहोर/ आधुनिक भारत के निर्माता, आईटी के जनक और युवा देश का सपना संजोकर भारत को आगे बढ़ाने वाले पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी के जन्म दिवस के अवसर पर जिला भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन सेवा दिवस के रूप में मनाएगा एनएसयूआई जिलाध्यक्ष ठाकुर ने बताया की स्थानीय  जिला कांग्रेस कार्यालय बस स्टैंड सीहोर में जिले भर के एनएसयूआई कार्यकर्ता रक्तदान करेंगे। स्व राजीव गांधी जी की जयंती के अवसर पर आयोजित होने वाले रक्तदान शिविर में जिला भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन के अध्यक्ष देवेंद्र ठाकुर ने सभी एनएसयूआई कार्यकर्ताओं सहित वरिष्ट कांग्रेसजनों से शिविर मे दिनांक 20/08/21 को 11 बजे शामिल होकर रक्तदान करने की अपील की है।


कुलदीप सेठी को किया याद


sehore news
सीहोर। गुरुवार को वरिष्ठ कांग्रेस नेता और समाजसेवी रहे स्वर्गीय कुलदीप सिंह सेठी की जयंती पर पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष राकेश राय के कार्यालय में मनाई गई। इस मौके पर श्री राय ने उन्हें श्रृद्धा सुमन अर्पित करते हुए याद किया। श्री राय ने कहा कि सेठी कांग्रेस के सच्चे सिपाही थे जिन्होंने हमेशा कांग्रेस की मजबूती के लिए काम किया। पार्टी को उनके अनुभवों का लाभ मिला। बडे पदों पर रहते हुए भी आमजन और कांग्रेसियों कार्यकर्ताओं से सदैव उनका जुडाव रहा। इस अवसर पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष राकेश राय, धर्मेन्द्र यादव, अशफाक खान, एआर शेख मुंशी, घनश्याम यादव, नवेद जाफरी, राजेन्द्र नागर, मुनव्वर खान, सानू बमनिया सहित बडी संख्या में आमजन और समाजसेवी उपस्थित रहे। 

मध्यप्रदेश स्थाई कर्मी कल्याण संघ ने सौंपा ज्ञापन, सालों से नहीं किया गया नियमित


sehore news
सीहोर। लंबे समय से मध्यप्रदेश स्थाई कर्मी कल्याण संघ अपनी दो सूत्रीय मांगों को लेकर संघर्ष कर रहा है। अपनी मांगों को लेकर गुरुवार को कलेक्टर और संघ के संरक्षक गौरव सन्नी महाजन को एक ज्ञापन सौंपा गया है। इस संबंध में संघ के जिलाध्यक्ष गजराज सिंह गेहलोत ने बताया कि सीहोर जिले के अंतर्गत समस्त विभागों में कार्यरत दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को मध्यप्रदेश सामान्य प्रशासन विभाग ज्ञापन क्रमांक एफ 5-11 2013/1/3 भोपाल सात अक्टूबर 2016 के अनुसार स्थाई कर्मियों के बना दिया, जबकि विनियमित  किया गया परंतु उपरोक्त परिपत्र के अनुसार दैनिक वेतन भोगी से स्थाई कर्मी के पद पर भी विनियमित किए गए स्थाई कर्मचारियों को जिले में चतुर्थ श्रेणी के रिक्त पदों पर नियमित किया जाना था लेकिन चार वर्ष बीत जाने के बाद भी आज दिनांक तक उक्त आदेश के परिपालन में सीहोर जिले में पात्र स्थाई कर्मियों को चतुर्थ श्रेणी के रिक्त पदों पर नियमितीकरण का लाभ नहीं दिया गया, जबकि उक्त आदेश के परिपालन में अन्य जिलों में व छिंदवाड़ा जिले में पात्र स्थाई कर्मियों को वर्ष 2017 में चतुर्थ श्रेणी के रिक्त पदों पर नियमित किया जा चुका है, लेकिन प्रदेश के मुख्यमंत्री के जिले में कार्यरत समस्त स्थाई कर्मियों को चतुर्थ श्रेणी के रिक्त पदों पर नियमित नहीं किए जाने से निचले तबके के छोटे कर्मचारियों का आर्थिक एवं मानसिक रूप से क्षति हो रही है। इसके अलावा जिन स्थाई कर्मचारियों को 12 वर्ष पूर्ण हो चुके है उन कर्मचारियों को लोक निर्माण विभाग एवं वन विभाग में कुशल की पात्रता दी जा रही है, जबकि अन्य विभागों में अकुशल एवं अद्र्धकुशल का वेतन दिया जा रहा है। समस्त विभागों में कुशल की पात्रता दी जाए। मांगे पूरी नहीं होने से समस्त स्थाई कर्मियों में शासन और प्रशासन के प्रति काफी रोष व्याप्त है। उन्होंने मांग की है कि हमारी दो सूत्रीय मांगों का निराकरण शीघ्र किया जाए। मांग करने वालों में हरिप्रसाद राठौर, अशोक कुमार सोनी, रामसिंह इंदोरिया, शेषनारायण शर्मा, घासीराम वर्मा, शिवनारायण सोनी, शंकर लाल यादव, लखन लाल शर्मा, विष्णु कुशवाहा, केवल राम सोनिया, ओम प्रकाश सोनी, पुष्पा राय, स्वदेश विश्वकर्मा आदि शामिल है। 

महाविद्यालयीन जनभागीदारी कर्मचारियों ने विधायक सुदेश राय को सौंपा ज्ञापन


sehore news
सीहोर। प्रदेश के शासकीय महाविद्यालयो में कई वर्षो से जनभागीदारी निधि से कार्यरत कर्मचारियों ने विधायक सुदेश राय को संघ की एकमात्र स्थायी कर्मी हेतु ज्ञापन सौपा। इस संबंध में जानकारी देते हुए जनभागीदारी कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष रजिया सिद्धिकी ने जानकारी देते हुए बताया कि स्थायी कर्मी योजना अन्तर्गत आयुक्त उच्च शिक्षा स्तर से आदेश प्रसारित हो चुके है किन्तु उच्च शिक्षा विभाग द्वारा प्रदेश के जनभागीदारी कर्मचारियो से भेदभाव करते हुए जनभागीदारी के नाम का पत्र में उल्लेख नही किया है। जिससे प्रदेश के जनभागीदारी कर्मचारी शासन की स्थायीकर्मी योजना लाभ से वंचित हो रहे है। जिसे जल्द ही कर्मचारी हित में संशोधित किया जाये जिससे सभी लाभान्वित हो सके। जनभागीदारी कर्मचारियों के ज्ञापन पर विधायक श्री राय द्वारा कर्मचारियों की मांग एवं समस्या का निराकरण की बात कही है। ज्ञापन सौपने वालों में जिलाध्यक्ष रजिया सिद्धकी, उपाध्यक्ष, सचिव परवेज अंसारी, सदस्य नरेश सेन, अभिषेक बग्वैया, राधेश्याम जाटव, सुनील मीना, कमल कुशवाह, अजब मालवीय, अरुण कुमार, राजू केवट आदि शामिल थे। 

संस्कृतभारती कार्यकताओं ने तिलक लगाकर संस्कृत सप्ताह की शुरुआत की


सीहोर-: 19 अगस्त से 25 अगस्त तक संस्कृतभारती द्धारा संस्कृत सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है , इस परिप्रेक्ष्य में आज संस्कृतभारती कार्यकताओं ने लोगों को तिलक लगाकर संस्कृत सप्ताह की बधाई  दी । संस्कृत भारती जिलआध्यक्ष पं. पृथ्वीवल्लभ दुबे ने बताया कि सप्ताह भर सभी शैक्षणिक  संस्थाओ , महाविद्यालय व सामाजिक  क्षेत्र में विभिन्न   कार्यक्रम होगें , आज से  इस की शुरुआत हो ग ई है । जिसमेंं   वेदपूजन व पारायण भी सम्मिलत   है । सीहोर स्थित श्री गणेश मंदिर परिसर में आज संस्कृतभारती कार्यकताओं सुरेन्द्र सिंह यादव, लखनलाल माहेश्वरी , जितेन्द्र राठौर ने तिलक लगाकर लोगों को संस्कृत सप्ताह की शुभकामनाएँ दी ।


जिले में अब तक 629.3 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज, बीते 24 घंटे में 12.9 मिलीमीटर औसत वर्षा


जिले में 01 जून से 19 अगस्त 2021 तक 629.3 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। जो कि गत वर्ष  इसी अवधि में औसत वर्षा 619.2 मिलीमीटर थी। गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष 10.1 मिलीमीटर औसत वर्षा अधिक हुई है। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1148.4 मिलीमीटर है। अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 01 जून से 19 अगस्त 2021 तक जिले के वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 644.1 मिलीमीटर,  श्यामपुर में 633.9, आष्टा में 557.0 जावर में 521.0, इछावर में 617.3, नसरूल्लागंज में 613.0,  बुधनी में 806.0, रेहटी में 642.0 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।


बीते 24 घंटे में 12.9 मिलीमीटर औसत वर्षा

जिले में बीते 24 घंटे में प्रात: 08 बजे तक 24.5 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 10.2 मिलीमीटर, श्यामपुर में 3.0, आष्टा में 4.0 जावर में 0.0, इछावर में 14.0, नसरूल्लागंज में 24.0, बुधनी में 56.0, रेहटी में 84.4 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।


सद्भावना दिवस के अवसर पर शपथ


सद्भावना दिवस के अवसर पर अपर कलेक्टर श्रीमती गुंचा सनोबर ने कलेक्ट्रेट के सभी अधिकारी कर्मचारियों को एकता, अखण्डता और सदभावना की  शपथ दिलाई। इस अवसर पर डिप्टी कलेक्टर आदित्य जैन और प्रगति वर्मा भी उपस्थित थे।           


23 तक पद्म पुरस्कारों के लिए आवेदन आमंत्रित


पद्म पुरस्कार वर्ष 2022 हेतु नामांकन विभागीय पोर्टल www.padmawards.mp.gov.in पर ऑन लाईन आंमत्रित किये गये है। पूर्व में इस की तिथि 7 अगस्त, 2021 थी जिसे बढाकर अब 23 अगस्त, 2021 तक किया गया है।


महेश के परिवार के लिए देवदूत बना राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत 6 दिन के शिशु के हृदय का हुआ सफल ऑपरेशन


sehore news
किसी भी परिवार में बच्चें के जन्म पर खुशियां मनाई जाती है, लेकिन जन्म के बाद पता लगे कि बच्चा बीमारी से ग्रसित है तो परिजन चिंतित हो जाते है। सरकार का राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य  कार्यक्रम एक ऐसे ही परिवार के लिए देवदूत बन गया। बुदनी विकासखंड के रेहटी निवासी श्री महेश चौहान की पत्नि ने होशंगाबाद के एक अस्पताल में बच्चें को जन्म दिया। बच्चें को सांस लेने में परेशानी हो रही थी। जिसकी जानकारी स्वास्थ्य विभाग को मिलने के बाद बच्चें का मुम्बई के एसआरसीसी चिल्ड्रन अस्पताल में शासकीय खर्च पर उपचार किया। अब बच्चा पूरी तरह स्वस्थ है। इस पर बच्चें के पिता श्री महेश चौहान ने चिकित्सकों तथा मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान को धन्य‍वाद देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश सरकार द्वारा संचालित योजनाओं से हर जरूरतमंद व्यक्ति को स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ मिल रहा है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि 2 जुलाई को जिला आरबीएसके यूनिट द्वारा ऑपरेशन के लिए जिला स्तरीय विशेषज्ञ समिति की तत्काल बैठक कर  ऑपरेशन की अनुशंसा की गई। सफल ऑपरेशन से पूरे परिवार में खुशी है। ऑपरेशन पर एक लाख 85 हजार रूपये का खर्च राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत शासकीय खर्च पर किया गया।

पॉलिटेक्निक डिप्लोमा कोर्स के लिए प्रवेश 24 अगस्त तक होगा


शासकीय पॉलिटेक्निक महाविद्यालय में संचालित त्रि-वर्षीय डिप्लोमा पाठ्यक्रम में शैक्षणिक सत्र 2021-22 हेतु संस्था में संचालित इलेक्ट्रिकल इंजी., इलेक्ट्रोनिक्स एवं टेलीकम्यूनिकेशन, मैकेनिकल इंजी. एवं कप्यूटर साइंस ब्रांचों की 60-60 सीटों पर कक्षा 10वीं उर्त्तीण के आधार पर प्रवेश हेतु ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन प्रारंभ है।  विद्यार्थी प्रथम चरण में 24 अगस्त तक ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन एवं चाइस फिलिंग करा सकते है। विस्तृत समय सारणी और मार्गदर्शिका वेबसाइट https://www.dte.mponline.gov.in पर उपलब्ध है।


मत्स्य संपदा योजना - आवेदन 30 सितंबर तक


मत्स्य पालन से जुड़े कृषकों तथा मत्स्य पालन करने के इच्छुक व्यक्तियों के लिए वित्तीय वर्ष 2022-23 मे भारत सरकार द्वारा संचालित प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना अंतर्गत विभिन्न योजनाओं का लाभ लेने हेतु कार्यालय सहायक संचालक मत्स्योद्योग में आवेदन आमंत्रित किये गये है। सहायक संचालक मत्स्योद्योग ने बताया कि इच्छुक मत्स्य पालक, व्यक्ति मत्स्य विभाग में संपर्क कर विभिन्न योजनाएं जैसे मत्स्य बीज उत्पादन हेतु हैचरी निर्माण, संवर्धन पोंड निर्माण, नवीन तालाब निर्माण, मत्स्य पालन हेतु इनपुट्स की व्यवस्था, जलाशय में मत्स्य बीज फिंगरलिंग संचयन, रंगीन मछलियों की रियरिंग एवं ब्रीडिंग ईकाई स्थापना, मत्स्य मार्केटिंग हेतु क्योस्क, मोटरसाईकिल विथ आईस बाक्स, साईकिल विथ आईस बाक्स, रेफ्रीजरेटर व्हीकल, इंसुलेटेड व्हीकल, जलाशय में केज, पेज स्थापना, फिश फीड मिल प्लांट, आईस प्लांट, बायोफ्लोक प्लांट, आर.ए.एस. यूनिट, इत्यादि योजनाओं का लाभ ले सकते है। उन्होंने बताया कि इन योजना में सम्मिलित गतिविधियों का लाभ लेने हेतु इच्छुक व्यक्ति, मत्स्य समिति, समूह कार्यालय सहायक संचालक मत्स्योद्योग में 30 सितंबर 2021 तक आवेदन कर सकते है। क्लस्टर आधारित तथा पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर हितग्राहियों को चयन में प्राथमिकता दी जाएगी।


ओपन बुक परीक्षार्थियों को आंसर सीट जमा करने का आखिरी मौका


म.प्र.शासन उच्च शिक्षा विभाग के नवीन निर्देशानुसार स्नातक प्रथम, द्वितीय, तृतीय तथा स्नातकोत्तर द्वितीय व चतुर्थ सेमेस्टर के ऐसे स्वशासी प्रणाली के नियमित छात्र, छात्राऐं जो ओपन बुक पद्वति से अपनी उत्तर पुस्तिकाऐं जमा करने से वंचित रह गये हैं उनको एक अंतिम अवसर दिया जा रहा है उक्त कक्षाओं के स्वशासी प्रणाली के नियमित छात्र जिनने परीक्षा शुल्क नहीं भरा है वह अपनी प्रवेश शुल्क की रसीदों तथा परिचय पत्र व आवेदन के साथ स्वशासी प्रकोष्ठ में उपस्थित होकर 20 अगस्त 2021 तक ऑफलाइन परीक्षा शुल्क भरेंगे। उक्त कक्षाओं की उत्तरपुस्तिकाऐं महाविद्यालय में प्रतिदिन 12:00 से 4:00 बजे तक जमा होंगी। बी.एससी., बी.कॉम., बी.ए.तृतीय वर्ष 23 अगस्त 2021 को, बी.एससी., बी.कॉम., बी.ए. द्वितीय वर्ष की  24 अगस्त 2021 को, बी.एससी., बी.कॉम., बी.ए.प्रथम वर्ष की 25 अगस्त 2021 को व स्नातकोत्तर द्वितीय, चतुर्थ सेमेस्टर 26 अगस्त 2021 को जमा होंगी। महाविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक ने जानकारी देते हुए बताया कि उक्त कक्षाओं के प्रश्नपत्र महाविद्यालय की वेबसाइट www.govtpgcdatia.ac.in से डाउनलॉड करके उत्तर पुस्तिका में लिखेंगे। स्नातक स्तर की उत्तर पुस्तिकाओं के साथ परीक्षा प्रवेश पत्र की फोटो प्रति तथा परीक्षा शुल्क रसीद की फोटो प्रति संलग्न करना आवश्यक है जबकि स्नातकोत्तर कक्षाओं के छात्र, छात्राओं को पिछली कक्षा के उत्तीर्ण अंकसूची की प्रति व परीक्षा शुल्क की रसीद तथा साथ में सीसीई, प्रोजेक्ट वर्क, प्रायोगिक असाइनमेंट में (जहां लागू है) जमा करना आवश्यक है।


20 अगस्त को मनाया जायेगा विश्व मच्छर दिवस


बारिश का मौसम कई बीमारियों के लिए खतरा बनता है, जिनमें मच्छरों से होने वाली बीमारियां प्रमुख हैं। बारिश के मौसम में पानी के जमा होने एवं गंदगी होने के कारण मच्छरों का पनपना आसान होता है। मच्छरों के काटने से डेंगू, मलेरिया, चिकिनगुनिया जैसी बीमारियां होती हैं जो कि कई बार गंभीर भी हो सकती हैं। 20 अगस्त 1897 को डॉ. रोनाल्ड रॉस द्वारा इस बात का पता लगाया गया था कि मलेरिया रोग मच्छर के काटने से होता है। तब से इस दिन को मच्छर दिवस के रूप में मनाया जाता है।  मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि मच्छरजनित बीमारियों में मलेरिया सबसे प्रचलित बीमारी है। यह बीमारी मादा एनाफिलीज़ मच्छर के काटने से होती है। ठंड लगकर बुखार आना मलेरिया का प्रमुख लक्षण हैं। मलेरिया की जांच एवं दवाईयां सभी शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में निःशुल्क प्रदान की जाती है। साथ ही आशा कार्यकर्ताओं से संपर्क कर भी जांच करवाई जा सकती है। मलेरिया के इलाज हेतु प्रमाणिक एवं सुरक्षित दवाएं उपलब्ध हैं। मच्छरों से होने वाली बीमारी डेंगू की पहचान सही समय पर ना किये जाने पर घातक रूप ले सकती है। यह बीमारी एडीज मच्छर के काटने से फेलती है। जब कोई एडीज मच्छर डेंगू के किसी रोगी को काटता है तो वह उस रोगी का खून चूसता है। खून के साथ डेंगू वायरस भी मच्छर के शरीर में प्रवेश कर जाता है। मच्छर के शरीर में डेंगू वायरस का कुछ और दिनों तक विकास होता है। जब डेंगू वायरस युक्त मच्छर किसी अन्य स्वस्थ व्यक्ति को काटता है तो वह डेंगू वायरस को उस व्यक्ति के शरीर में पहुँचा देता है । इस प्रकार वह व्यक्ति डेंगू वायरस से संक्रमित हो जाता है तथा कुछ दिनों के बाद उसमें डेंगू बुखार रोग के लक्षण प्रकट हो सकते हैं। जिस दिन डेंगू वायरस से संक्रमित कोई मच्छर किसी व्यक्ति को काटता है तो उसके लगभग 3-5 दिनों बाद ऐसे व्यक्ति में डेंगू बुखार के लक्षण प्रकट हो सकते हैं। यह संक्रामक काल 3-10 दिनों तक भी हो सकता है। 


डेंगू बुखार के लक्षण

लक्षण इस बात पर निर्भर करेंगे कि डेंगू बुखार किस प्रकार का है। डेंगू बुखार तीन प्रकार के होते हैं। साधारण डेंगू बुखार, डेंगू हेनरेजिक बुखार,  डेंगू शॉक सिन्ड्रोम, यदि डेंगू हेमरेजिक बुखार, डेंगू शॉक सिन्ड्रोम का तुरन्त उपचार शुरू नहीं किया जाता है तो वे जानलेवा सिद्ध हो सकते हैं। चिकिनगुनिया भी एडिज मच्छर से होने वाली बीमारी है। इस बीमारी का पहला केस 1953 में पाया गया था। इस बीमारी के लिए लाक्षणिक उपचार प्रदान किया जाता है। मच्छर को पनपने से रोकना एवं मच्छरों से स्वयं को बचाना इन बीमारियों से बचने का सबसे आसान उपाय है। पानी के भराव को रोकना, आसपास के परिवेश में स्वच्छता का निर्माण, मच्छरदानी का उपयोग इत्यादि बेहद सरल उपाय हैं जो कि मच्छरों से एवं उनसे होने वाली बीमारियों से बचाव कर सकता है।


ओपन बुक परीक्षार्थियों को आंसर सीट जमा करने का आखिरी मौका


म.प्र.शासन उच्च शिक्षा विभाग के नवीन निर्देशानुसार स्नातक प्रथम, द्वितीय, तृतीय तथा स्नातकोत्तर द्वितीय व चतुर्थ सेमेस्टर के ऐसे स्वशासी प्रणाली के नियमित छात्र, छात्राऐं जो ओपन बुक पद्वति से अपनी उत्तर पुस्तिकाऐं जमा करने से वंचित रह गये हैं उनको एक अंतिम अवसर दिया जा रहा है उक्त कक्षाओं के स्वशासी प्रणाली के नियमित छात्र जिनने परीक्षा शुल्क नहीं भरा है वह अपनी प्रवेश शुल्क की रसीदों तथा परिचय पत्र व आवेदन के साथ स्वशासी प्रकोष्ठ में उपस्थित होकर 20 अगस्त 2021 तक ऑफलाइन परीक्षा शुल्क भरेंगे। उक्त कक्षाओं की उत्तरपुस्तिकाऐं महाविद्यालय में प्रतिदिन 12:00 से 4:00 बजे तक जमा होंगी। बी.एससी., बी.कॉम., बी.ए.तृतीय वर्ष 23 अगस्त 2021 को, बी.एससी., बी.कॉम., बी.ए. द्वितीय वर्ष की  24 अगस्त 2021 को, बी.एससी., बी.कॉम., बी.ए.प्रथम वर्ष की 25 अगस्त 2021 को व स्नातकोत्तर द्वितीय, चतुर्थ सेमेस्टर 26 अगस्त 2021 को जमा होंगी। महाविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक ने जानकारी देते हुए बताया कि उक्त कक्षाओं के प्रश्नपत्र महाविद्यालय की वेबसाइट www.govtpgcdatia.ac.in से डाउनलॉड करके उत्तर पुस्तिका में लिखेंगे। स्नातक स्तर की उत्तर पुस्तिकाओं के साथ परीक्षा प्रवेश पत्र की फोटो प्रति तथा परीक्षा शुल्क रसीद की फोटो प्रति संलग्न करना आवश्यक है जबकि स्नातकोत्तर कक्षाओं के छात्र, छात्राओं को पिछली कक्षा के उत्तीर्ण अंकसूची की प्रति व परीक्षा शुल्क की रसीद तथा साथ में सीसीई, प्रोजेक्ट वर्क, प्रायोगिक असाइनमेंट में (जहां लागू है) जमा करना आवश्यक है।


कृषि स्नातक प्रवेश परीक्षा - 20 अगस्त तक ऑनलाइन आवेदन


भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) की कृषि स्नातक प्रवेश परीक्षा के लिए आनलाईन आवेदन आगामी 20 अगस्त 2021 को शाम 05 बजे तक जमा किये जा सकते है। देश के प्रतिष्ठित संस्थानों से कृषि स्नातक करने के इच्छुक कक्षा 12 वीं पास कर चुके छात्र-छात्रायें इसके लिए वेबसाईट https://icar.nta.ac.in या https://www.nta.ac.in/   पर सम्पर्क कर सकते है।   प्रवेश परीक्षा में शामिल होने के लिए अनारक्षित वर्ग के छात्र-छात्राओं को 770 रुपये, अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्र-छात्राओं को 750 रुपये एवं अनुसूचित जाति, जनजाति के छात्र-छात्राओं को 375 रुपये शुल्क आनलाईन जमा कराना होगा। आवेदक छात्र-छात्राएं 23 से 26 अगस्त तक अपने आवेदन में सुधार या संशोधन कर सकते है। 150 मिनट की प्रवेश परीक्षा आगामी 07, 08 एवं 13 सितम्बर 2021 को निर्धारित परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की जायेगी। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) की इस प्रवेश परीक्षा के माध्यम से चयनित छात्र-छात्रायें को देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में बागवानी, पशु विज्ञान, कृषि विज्ञान, मत्स्य विज्ञान, वित्त प्रबंधन एवं कृषि से जुड़े अन्य विषयों में स्नातक कक्षाओं में प्रवेश लेने का अवसर मिलेगा।


प्रदेश में 25 एवं 26 अगस्त को चलेगा वैक्सीनेशन महाअभियान

  • जन-जन तक पहुँचाये टीकाकरण के महत्व का संदेश : मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में दो दिवसीय कोविड-19 वैक्सीनेशन महाअभियान का द्वितीय चरण 25 एवं 26 अगस्त को चलाया जाएगा। महाअभियान प्रदेश के सभी जिलों में संचालित होगा। इसके लिए अभियान को तीव्र किया जाएगा। वृहद जन-जागृति के उद्देश्य से विभिन्न मीडिया के माध्यम से टीकों के लाभ, द्वितीय डोज़ की अनिवार्यता एवं उपयोगिता का संदेश प्रचार-प्रसार विषय-विशेषज्ञों के माध्यम से जन-जन तक पहुँचाया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज शाम निवास पर वैक्सीनेशन कार्य की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश के समस्त धार्मिक, सामाजिक, राजनैतिक, शासकीय, अशासकीय, स्वयंसेवी संगठनों आदि संस्थाओं का सहयोग प्राप्त कर वातावरण निर्माण किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जन-जन तक टीकाकरण के महत्व की बात पहुँचाई जाए। दूसरी लहर के नियंत्रित होने के पश्चात आमजन में कोरोना से बचाव की सावधानी में कमी आई है। वैक्सीनेशन के प्रति भी उदासीनता का भाव देखा जा रहा है। जागरूकता के स्तर पर कोई कमी नहीं होना चाहिए। प्रथम डोज़ लगवाने के बाद द्वितीय डोज़ लगवाना बहुत आवश्यक है। अभियान के माध्यम से आमजन तक यह संदेश पहुँचाया जाए। साथ ही दो दिवसीय टीकाकरण अभियान को सुचारू रूप से संपादित किया जाए। चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सारंग ने कहा कि क्राइसिस मैनेजमेंट सदस्यों के सक्रिय सहयोग से प्रदेश के प्रत्येक गाँव एवं वार्ड में महाअभियान की सफलता के लिए जोरदार प्रयास किए जाएंगे। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस ने कहा कि समस्त कलेक्टर 21 जून को पूर्व में आयोजित महाअभियान के अनुभवों एवं नवाचारों का उपयोग करते हुए कोविड-19 वैक्सीन के प्राप्त सभी डोज़ का समुचित उपयोग सुनिश्चित करते हुए अभियान पूर्व समस्त तैयारियाँ समय-सीमा में पूरी करेंगे। अपर मुख्य सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्री मोहम्मद सुलेमान ने जानकारी दी कि अभियान को सार्थक एप एवं अन्य तकनीक का उपयोग करते हुए द्वितीय डोज़ से छूटे हुए व्यक्तियों को एस.एम.एस., टेलीफोन, ऑडियो मैसेज के माध्यम से संदेश पहुँचाए जाएंगे। यह कार्य एक लाख कोरोना वॉलेंटियर्स के साथ राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के 32 हजार से अधिक साथियो एवं पौने चार लाख ब्रिगेड मेम्बर के मोबालाइजेशन द्वारा किया जाएगा। प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री मनीष रस्तोगी, स्वास्थ्य आयुक्त श्री आकाश त्रिपाठी, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संचालक श्रीमती छवि भारद्वाज, आयुक्त जनसंपर्क डॉ. सुदाम खाड़े, संचालक टीकाकरण डॉ. संतोष शुक्ला एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


प्रदेश में अब तक 3 करोड़ 90 लाख 58 हजार से अधिक को लगी वैक्सीन डोज, बुधवार शाम तक 5 लाख 68 हजार 414 का टीकाकरण


कोरोना टीकाकरण महा-अभियान में कोविड-19 टीकाकरण लगातार प्रगति पर है। अब तक प्रदेश में 3 करोड़ 90 लाख 58 हजार 215 व्यक्तियों को कोविड-19 टीके लगाये जा चुके हैं। बुधवार 18 अगस्त को शाम तक 5 लाख 68 हजार 414 व्यक्तियों को टीके लगाये गये। संचालक, एनएचएम (टीकाकरण) डॉ. संतोष शुक्ला ने बताया कि कोविड-19 टीकाकरण के साथ कोविड की जाँच भी निरंतर की जा रही है। कोविड महामारी पर नियंत्रण प्राप्त करने में कामयाब हुए हैं। प्रदेश में वर्तमान में कुल 93 एक्टिव प्रकरण हैं। बुधवार 18 अगस्त को 72 हजार 86 सेम्पल की जाँच में इंदौर में 3, भोपाल में 2, जबलपुर, पन्ना और सागर में एक-एक नया कोरोना पॉजिटिव प्रकरण पाये गये हैं। आज अस्पतालों से स्वस्थ होकर 11 कोरोना मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए हैं। प्रदेश की पॉजिविटी दर .01 प्रतिशत है। संचालक डॉ. शुक्ला ने कहा कि कोविड-19 महामारी के बचाव और रोकथाम के लिये सोशल डिस्टेंसिंग, घर से बाहर निकलने पर मास्क लगाना और साबुन से हाथ धोना अथवा सेनेटाइजर से बार-बार सेनेटाइज करने को हर आदमी को अपने व्यवहार में कोरोना पूरी तरह खत्म होने तक अपनाये रखना है। उन्होंने कहा कि टीकाकरण कोरोना महामारी की रोकथाम और बचाव के लिये बहुत जरूरी है। हर आदमी को कोविड टीकाकरण करवाना चाहिये।


बाल देखरेख संस्थानों में निवासरतों की पहचान सार्वजनिक करना अपराध, छः माह की कैद और 2 लाख रूपये तक जुर्माना का दंड


बाल देखरेख संस्थानों में निवासरत बच्चों की पहचान सार्वजनिक नहीं करें। बच्चों की पहचान सार्वजनिक करने वाले व्यक्ति या व्यक्तियों को 6 माह की जेल और 2 लाख रूपये तक के जुर्माने का अधिनियम में प्रावधान है। किशोर न्याय (बालकों के देखरेख एवं संरक्षण) अधिनियम 2015 की धारा 41 (2) के तहत बाल देखरेख संप्रेक्षण गृह संचालित किये जा रहे है। किशोर न्याय (बालकों के देखरेख एवं संरक्षण) अधिनियम 2015 की धारा 74 के अन्तर्गत बाल देखरेख संस्थानों में निवासरत बालकों की पहचान सार्वजनिक न की जाये। धारा 74 के अनुसार किसी जांच या अन्वेषण या न्यायिक प्रक्रिया के संबंध में किसी समाचार पत्र,  पत्रिका,  न्यू-सीट या श्रव्य-दृश्य माध्यम या संचार के किसी अन्य रूप में किसी रिपोर्ट में ऐसा नाम,  पते या विद्यालय या किसी अन्य विशिष्ट को प्रकट न करें। जिससे कि विधि के विरोध में किसी बालक या देखरेख और संरक्षण की आवश्यकता में किसी बालक या बाल पीड़ित व्यक्ति या किसी साक्षी,  जो तत्समय प्रवृत्त किसी अन्य विधि के अधीन ऐसे मामले में शामिल है न ही पहचान प्रकट हो सकती है और न ही ऐसे बालक का कोई चित्र प्रकाशित किया जाये। उपधारा (1) के उपबन्धों का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति को छः मास तक का कारावास हो सकेगा एवं दो लाख रूपये तक का जुर्माना या दोनों से, दण्डित किया जायेगा। किशोर न्याय (बालकों के देखरेख एवं संरक्षण) अधिनियम 2015 की धारा 74 के परिपालन में बाल देखरेख संस्थानों में निवासरत बालकों की पहचान सार्वजनिक न किया जायें।


ईको पर्यटन स्थलों का निजी संस्थानों द्वारा किया जाएगा संचालन

  • वनवासियों को मिलेगा अतिरिक्त रोजगार, अन्‍य जिलों के साथ सीहोर भी शामिल

प्रदेश के आरक्षित वनों में ईको पर्यटन की संभावनाओं वाले वन क्षेत्रों की पहचान कर उन्हें मनोरंजन और वन्य-प्राणी अनुभव क्षेत्र के रूप में विकसित कराया जा रहा है। इस तरह के 29 ईको पर्यटन स्थलों पर ईको पर्यटन गतिविधियों के संचालन, प्रबंधन एवं रख-रखाव के मकसद से निजी व्यवसायी के चयन के लिए निविदा जारी की जायेगी। ईकों पर्यटन विकास बोर्ड के सीईओ श्री सत्यानंद ने बताया कि ईको पर्यटन के वास्ते 29 स्थलों को संचालन, प्रबंधन और रख रखाव के लिए निजी संस्थानों को 10 साल की अवधि के लिए दिया जाएगा। इन क्षेत्रों में आधारभूत संरचनाएँ विकसित कराई जाकर ईको पर्यटन विकास के नए आयाम गढ़े जायेंगे। ईको पर्यटन गतिविधियों के संचालन से ऐसे वन क्षेत्रों के समीप रहने वाले वनवासियों को अतिरिक्त रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। इस व्यवस्था के पूर्ण होने पर पर्यटकों को प्रकृति के समीप जाकर उसके विभिन्न घटकों और इन घटकों के बीच परस्पर क्रियाओं को समझने का अवसर भी मिलेगा।


ईको पर्यटन के गन्तव्य स्थल

ईको पर्यटन के लिए बांधवगढ़ टाईगर रिजर्व के पास स्थित पनपथा और पेंच टाईगर रिजर्व के पास स्थित दुधिया तालाब और बाइसन हाइवे रिट्रीट की सभी कार्रवाई पूरी होने के बाद एजेन्सी का चयन किया जा चुका है। शेष स्थलों की निविदा जारी करने की शीघ्र कार्रवाई की जाएगी। इनमें भोपाल वन मंडल में रामगढ़, केरवा, समर्धा, बगोनिया, सीहोर में कठौतिया, डिगम्बर जल प्रपात, अमरगढ़ जल प्रपात, खण्डवा में धारि कोटला, बोरिया माल, गुंजारी, दक्षिण सिवनी वन मंडल में अमोंदागढ़, अम्मामाई, शारदा मंदिर पहाड़ी, महादेव गुफा और फरीद बाबा, लामाजोती तालाब, जंगल काटेज हिनौता, रायसेन में तितली पार्क, जिप लाईन खरबई, सतधारा जंगल केम्प, कूनो पालपुर में सेसईपुरा, पश्चिम मण्डला में रत्नाई पहाड़, गिदली घुघरा, बोकुर दाहर, डिन्डौरी में खुरखरी दादर, बड़वाह चिड़िया भड़क, दक्षिण बालाघाट में गांगुलपारा जलाशय, दक्षिण छिन्दवाड़ा में देवगढ़, टीकमगढ़ में नोटघाट, बुरहानपुर और दक्षिण बैतूल वन मण्डल के अंतर्गत क्रमश: झांझर डेम और सापना के गंतव्य स्थल शामिल हैं।


बच्चों के समग्र विकास के लिए स्कूल का शैक्षणिक वातावरण रचनात्मक हो - श्री ठाकुर

  • केन्द्रीय विद्यालय प्रबंधन समिति की बैठक आयोजित

sehore news
केन्द्रीय विद्यालय की जिला प्रबंधन समिति की बैठक कलेक्टर एवं समिति के अध्यक्ष श्री चन्द्र मोहन ठाकुर की अध्यक्षता में आयोजित की गई। कलेक्टर श्री ठाकुर ने कहा कि बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए स्कूल का शैक्षणिक वातावरण रूचिकर तथा रचनात्मक होना चाहिए। श्री ठाकुर ने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ नियमित खेलकूद,  सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं आयोजित की जानी चाहिए। इसके साथ ही छात्रों का नियमित मेडिकली चैकअप भी होना चाहिए। उन्होंने बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिये जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा जारी कोविड के दिशा निर्देशों के अनुरूप गतिविधियों को संचालित की जाएं। श्री ठाकुर ने विद्यालय की उपलब्धियों और गतिविधियों की सराहना की। केन्द्रीय विद्यालय के प्राचार्य श्री जीवन वर्मा ने स्कूल की समस्त गतिविधियों के बारे विस्तार से अवगत कराया। बैठक के बाद कलेक्टर श्री ठाकुर ने स्कूल परिसर में पौधरोपण किया। बैठक में समिति के सदस्य उपस्थित थे।


जिला चिकित्सालय में विधायक श्री राय ने किया सेंट्रल लैब का शुभारंभ, जिला चिकित्सालय में होगी 101 प्रकार की नि:शुल्क जांचे


sehore news
जिला चिकित्सालय में स्थित 118 नंबर कक्ष में अत्याधुनिक सेंट्रल लैब का शुभारंभ विधायक श्री सुदेश राय ने किया। लेब में 6 मशीनों से 101 तरह की जांचे निशुल्क की जायेगी। विधायक श्री सुदेश राय ने कहा कि जिला चिकित्सालय में इन मशीनों से हर एक जरूरतमंद व्यक्ति को लाभ मिल सकेगा। अस्पताल में बेहतर चिकित्सा सुविधाएं प्रदान करने के प्रयास किये जा रहे है।


लैब में होंगी यह जांचे

सिविल सर्जन डॉ. अशोक कुमार मांझी ने बताया कि 6 प्रकार की मशीनों से कोविड-19 प्रोफाइल, लिपिड प्रोफाईल, कम्पलीट एमोग्राम, लीवर फंक्शन टेस्ट, किडनी फंग्‍शन टेस्ट, कॅम्लीट ब्लड पिक्चर, कम्पलीट यूरिन टेस्ट, बायोकेमिस्ट्री टेस्ट, सहित करीब 101 प्रकार की निशुल्क जांचे अब जिला चिकित्सालय में हो सकेंगी। इन मशीनों में 12 लाख की लागत की सेल काउंटर मशीन, थायराइड से संबंधित समस्त जांचों के लिए 1 करोड़ 20 लाख की लागत की मशीन, बायो सिस्टम लीवर प्रोफाईल की समस्त जांचों के लिए 85 लाख रूपए की लागत की मशीन, खून की समस्त प्रकार की जांचों के लिए 47 लाख 50 हजार कीमत की डी-डॉयमर मशीन, शुगर की सभी जांचों के लिए करीब 19 लाख रूपए की लागत की तथा यूरीन की समस्त प्रकार की जांचों के लिए यूरिन एनालाइजर मशीन करीब 11 लाख 50 हजार की लागत की मशीनें लगाई गई है। लेब शुभारंभ कार्यक्रम में आरएमओ डॉ. नवीन मेहर, पैथोलॉजी प्रभारी डॉ. पीएस आरमो, श्री सीताराम यादव, श्री प्रिंस राठौर सहित जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक, अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।


जिले में होंगे रोजगार मेलों का आयोजन


जिले में कलेक्‍टर श्री चन्‍द्र मोहन ठाकुर के निर्देंश पर रोजगार मेलें आयोजित किये जायेंगे। 24 अगस्‍त को शासकीय कन्‍या महाविद्यालय सीहोर, 25 अगस्‍त को शासकीय महाविद्यालय इछावर, 26 अगस्‍त को शासकीय महाविद्यालय लाड़कुई, 27 अगस्‍त को शासकीय महाविद्यालय आष्‍टा तथा  31 अगस्‍त को चन्‍द्रशेखर आजाद शासकीय स्‍नातकोत्‍तर अग्रणी महाविद्यालय सीहोर में प्रातः 12 बजे से 4 बजे तक आयोजित किये जायेंगे है। मेले में विभिन्न कंपनियों के प्रतिनिधि द्वारा उपस्थित आवेदकों का साक्षात्कार लेकर रोजगार के अवसर प्रदान किये जायेंगे। जिले के युवा अपने समस्त प्रमाण पत्र शैक्षणिक योग्यता लेकर मेले में पहुंचे। मेले में रोजगार के चयन के लिए शैक्षणिक योग्यता दसवीं और आयु 18 वर्ष से 30 वर्ष अनिवार्य है। मेले में भारतीय जीवन बीमा, वेल्‍सन इंडिया लिमिअेड, हर्बल लाइफ सीहोर, द एजुकेट टेक्‍नोलॉजी साफ़टवेयर ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट, सेल मैन्युफैक्चरिंग कंपनी,वाल्‍सन सर्विसेस प्राइवेट लिमिटेड भोपाल, ट्राइडेंट ग्रुप बुदनी कंपनियां शामिल होगी।


जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला, वर्तमान में कोरोना एक्टिव पॉजिटिव की संख्या शून्य


पिछले 24 घंटे के दौरान प्राप्त रिपोर्ट में जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में अब तक कुल कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या 10142 है। वर्तमान में एक्टिव पॉजिटिव शून्य हो गई हैं। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 10020 हैं। आज 1075 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 284, श्यामपुर से 192, विकासखंड नसरुल्लागंज से 116, आष्टा से 239,  बुधनी से 92 तथा इछावर से 152 सेंपल लिए गए हैं। अभी तक कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 236002 हैं। जिनमें से 224400  सैंपलों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। आज 1528 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1389 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथोलॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है।


टीकाकरण महाअभियान के तहत 5 बजे तक 11438 लोगों ने लगवाया कोविड टीका


sehore news
जिले में कोविड टीकाकरण महाअभियान के तहत 11438 लोगों को कोविड का टीकाकरण किया गया। सीएमएचओ श्री सुधीर डेहरिया ने बताया कि जिले में गुरूवार को 5 बजे तक 11438 लोगों को कोविड का टीका लगाया गया। सुबह 08 बजे से ही लोग कोविड का टीका लगवाने के लिए टीकाकरण केन्द्र पहुंचे।


जिले में जनपदवार टीकाकरण की स्थिति

जिले में कुल 11438 नागरिकों का टीकाकरण किया गया। जिले में कुल 77 टीकाकरण सत्र आयोजित किए गए। आष्टा में 6506, बुधनी में 596, इछावर में 432, नसरूल्लागंज में 416, श्यामपुर में 2344 तथा सीहोर शहरी क्षेत्र में 1144 नागरिकों का टीकाकरण किया किया गया। 

कोई टिप्पणी नहीं: