बिहार : जनसंख्या कानून आपस का मामला है सुलझा लेंगे : शाहनवाज - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 11 अगस्त 2021

बिहार : जनसंख्या कानून आपस का मामला है सुलझा लेंगे : शाहनवाज

shahnawaz-attack-opposition
पटना : जातीय जनगणना को लेकर बिहार की राजनीति अधिक तेज हो गई है। इसको लेकर जहां बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पीएम मोदी को पत्र लिख मिलने के लिए समय की मांग की है, तो वहीं, नेता विपक्ष तेजस्वी यादव ने नीतीश पर तंज भी किया है। इसी बीच अब इस द्वंद में बिहार सरकार के मंत्री शाहनवाज हुसैन ने भी हमला बोला है। बिहार सरकार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। जिस पर खुद पीएम मोदी फैसला लेंगे। इस मामले में किसी भी दूसरे व्यक्ति को बयानबाजी करने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि राजद क्या कहता है इससे अब किसी को कोई मतलब नहीं है। राजद कहे ये सूर्य है और ये चांद है तो कोई उनकी बात थोड़े न मान लेगा। वहीं, जब शाहनवाज हुसैन से जब पूछा गया कि जातीय जनगणना पर तेजस्वी यादव के सुर में सुर मिलाकर क्या नीतीश कुमार भाजपा के लिए मुसीबत नहीं पैदा कर रहे हैं? तो उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार एनडीए के नेता हैं और उनका तेजस्वी यादव के साथ मिलने का सवाल ही नहीं उठता।


उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव तो नीतीश कुमार के लिए लगातार अपशब्द कहते हैं। वे उन्हें पलटू चाचा तक कहते हैं। इससे न सिर्फ जदयू बल्कि भाजपा को भी दुख होता है। उन्होंने कहा नीतीश कुमार रूठे नहीं हैं कि उन्हें मनाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार एनडीए के नेता हैं और वो एक इज्जतदार व्यक्ति हैं। उनको कोई कुछ बोलता है तो हमें भी दुख होता है। जातीय जनगणना को लेकर नाराजगी की बात को भी शाहनवाज ने खारिज किया। कहा- कोई रूठा हो तो मना लेंगे, लेकिन जब कोई रूठा ही नहीं हो तो फिर क्या करेंगे। भ्रम पैदा करने की बात नहीं होनी चाहिए। मुख्यमंत्री जितना ध्यान जदयू के मंत्रियों का रखते हैं उतना ही ध्यान भाजपा के मंत्रियों का भी रखते हैं। कहीं कोई कंफ्यूजन नहीं है।

कोई टिप्पणी नहीं: