बिहार : पांचवे दिन भी हड़ताल जारी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 12 सितंबर 2021

बिहार : पांचवे दिन भी हड़ताल जारी

strike-in-patna-municiple-continue
पटना. ग्रुप घ के पदों को पुनर्जीवित करना, 10 वर्ष की सेवा पूरी करने वाले दैनिक मजदूरों का नियमितिकरण, दैनिक कर्मियों को समान काम का समान वेतन अथवा न्यूनतम 18000 से 21000 का वेतनमान हो, राज्य के नगर निकाय कर्मियों को सातवां वेतनमान देने, पेंशन एवं आजीवन पारिवारिक पेंशन की सुविधा, प्रभारी कर्मियों का समायोजन उनके कार्यरत वर्तमान पद पर करने, नगर निकायों के ग्रुप ग एवं ग्रुप घ कर्मियों की नियुक्ति, स्थानांतरण एवं अन्य सेवा शर्तों में परिवर्तन, अनुकंपा पर बहाली को जारी रखने एवं सेवा निवृत कर्मियों के बकाये राशि का भुगतान आदि को लेकर नगर निकायों में हड़ताल पांचवें दिन भी जारी है. बिहार के ज्यादातर शहरों और नगर निकायों में सफाई कार्य ठप है.  राज्य के सभी नगर निकायों के कर्मचारी हड़ताल पर रहे. बिहार लोकल बॉडी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा ने चेतावनी दी है कि मांगें पूरी होने तक अनिश्चतकालीन हड़ताल जारी रखेंगे. दैनिक मजदूरों के नियमितिकरण, ग्रुप घ के पदों को पुनर्जीवित करने सहित 12 मांगों को लेकर राज्य के नगर निकायों के सफाई कर्मी हड़ताल पर चले गए हैं. इनकी मांगों का समर्थन करते हुए संविदा पर कार्यरत अन्य कर्मी भी हड़ताल पर हैं. पटना नगर निगम के करीब सात हजार कर्मी और सफाई मजदूर हड़ताल के समर्थन में हैं.इसके कारण पहले दिन से ही सातवें दिन भी डोर टू डोर कचरा उठाव की सुविधा पूरी तरह से ठप है. वहीं, अंचल कार्यालयों में दैनिक फाइल निपटाने का काम भी ठप है. अंचल कार्यालय में सन्नाटा पसरा हुआ है. अपनी 12 सूत्री मांगों को लेकर निकाय कर्मी हड़ताल पर चले गए हैं.बिहार लोकल बॉडी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा एवं पटना नगर निगम संयुक्त कर्मचारी समन्वय समिति के अध्यक्ष चंद्रप्रकाश सिंह ने कहा कि बिहार के सभी नगर निकायों के विभिन्न अंचलों में हड़ताल पूरी तरह से सफल रही। जबतक मांगों को नहीं माना जाएगा तबतक हड़ताल जारी रहेगी।  ग्रुप घ के पदों को पुनर्जीवित करना, 10 वर्ष की सेवा पूरी करने वाले दैनिक मजदूरों का नियमितिकरण, दैनिक कर्मियों को समान काम का समान वेतन अथवा न्यूनतम 18000 से 21000 का वेतनमान हो, राज्य के नगर निकाय कर्मियों को सातवां वेतनमान देने, पेंशन एवं आजीवन पारिवारिक पेंशन की सुविधा, प्रभारी कर्मियों का समायोजन उनके कार्यरत वर्तमान पद पर करने, नगर निकायों के ग्रुप ग एवं ग्रुप घ कर्मियों की नियुक्ति, स्थानांतरण एवं अन्य सेवा शर्तों में परिवर्तन, अनुकंपा पर बहाली को जारी रखने एवं सेवा निवृत कर्मियों के बकाये राशि का भुगतान आदि.

कोई टिप्पणी नहीं: