केरल सरकार ने 12,076 मकान बेघर लोगों को सौंपे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 19 सितंबर 2021

केरल सरकार ने 12,076 मकान बेघर लोगों को सौंपे

12076-house-distributed-to-homeless-in-keral
तिरुवनंतपुरम, 18 सितंबर, केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने वाम सरकार की जीवन मिशन योजना के तहत राज्यभर में निर्मित 12,067 मकान शनिवार को लाभार्थियों को सौंप दिए। विजयन ने कहा कि वाम सरकार ने लोगों से किया अपना वादा निभाया है। उन्होंने कहा कि अगले पांच साल में पांच लाख मकानों का निर्माण किया जाएगा। विजयन ने कहा, 'राज्य सरकार के 100-दिवसीय कार्यक्रम के तहत, हमने 12,067 मकानों का निर्माण किया है। इसमें से 10,058 मकान राज्य में स्थानीय स्व-सरकारी निकायों की जीवन मिशन और अन्य योजनाओं, जबकि 2,009 मकान प्रधानमंत्री शहरी आवास परियोजना के तहत आते हैं।' इनमें से 7,832 मकान सामान्य समुदायों के बेघर लोगों, जबकि 3,964 मकान अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति समुदायों के लाभार्थियों के लिए हैं तथा 271 मकान मछुआरा समुदायों के बेघर लोगों के लिए हैं। विजयन ने कहा, "जीवन मिशन के तहत किए गए पहले सर्वेक्षण में राज्य में 3.5 लाख भूमिहीन और बेघर परिवारों की पहचान की गई थी। उनमें से ज्यादातर गरीब थे। उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि वे एक मकान का मालिक होने के सपने को साकार कर सकते हैं। हालांकि, पिछली सरकार ने उस सपने को पूरा किया।" उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों में 2,62,131 मकान बनाए गए और परियोजना के लिए 8,903 करोड़ रुपये खर्च किए गए, जिसमें राज्य निधि, केंद्रीय निधि, स्थानीय निकायों के शेयर और हुडको ऋण शामिल हैं। विजयन ने कहा कि 36 आवास परिसरों के तहत 2,207 मकान निर्माणाधीन हैं और 17 अन्य परिसरों का निर्माण जल्द ही शुरू हो जाएगा। उन्होंने एक ऑनलाइन कार्यक्रम के दौरान कहा, "अगले पांच वर्षों में, हम पांच लाख मकानों का निर्माण करेंगे। हमारा लक्ष्य केरल को ऐसी जगह बनाना है जहां कोई भूमिहीन या बेघर लोग न हो। जो पात्र हैं, उन्हें लाभ मिलेगा।"

कोई टिप्पणी नहीं: