बिहार : प्रदेश कांग्रेस व्यवसायिक प्रकोष्ठ की बैठक 11 सितंबर को - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

गुरुवार, 9 सितंबर 2021

बिहार : प्रदेश कांग्रेस व्यवसायिक प्रकोष्ठ की बैठक 11 सितंबर को

bihar-congress-meeting-on-11th
पटना, 9 सितम्बर। बिहार प्रदेश कांग्रेस व्यवसायिक प्रकोष्ठ की नवगठित कमेटी की पहली प्रदेश स्तरीय बैठक आगामी 11 सितंबर को आयोजित की गई है। यह बैठक प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम में होगी।  इसकी जानकारी देते हुए कांग्रेस व्यवसायिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष बिनोद पाठक ने बताया कि बैठक का उद्देश्य राज्य की आर्थिक स्थितियों पर गंभीरतापूर्वक मंथन करना और अर्थव्यवस्था की चुनौतियों से निपटने की तैयारी करना है। राज्य की जनता भीषण गरीबी की तरफ धकेली जा रही है और युवा बेरोजगारी की तरफ धकेले जा रहे हैं। ऐसे में जिम्मेदार व्यापारियों की यह जिम्मेदारी बनती है कि वह आगे बढ़कर इन चुनौतियों का सामना करें। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद आर्थिक जगत में आई मंदी से पैदा हुई बेरोजगारी और आर्थिक तबाही से कैसे उबरा जाए यह इस समय की सबसे बड़ी चुनौती है। व्यापार किसी भी अर्थव्यवस्था की रीढ़ होता है। व्यापार मंदा पड़ने का मतलब है अर्थव्यवस्था में मंदी आना।  आगे उन्होंने कहा कि बिहार सरकार का आर्थिक कुप्रबंधन और केंद्र सरकार द्वारा अर्थव्यवस्था पर लगातार हो रहे हमलों को देखते हुए राज्य के व्यापारी बेहद परेशान और चिंतित हैं। बर्बाद हो चुकी राज्य की अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए बिहार प्रदेश कांग्रेस व्यवसायिक प्रकोष्ठ की नवगठित कमेटी की पहली प्रदेश स्तरीय बैठक आगामी 11 सितंबर को आयोजित की गई है। यह बैठक प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम में होगी।  बिहार प्रदेश कांग्रेस व्यवसायिक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा व्यापारियों, बेरोजगारों और गरीबों की चिंता की है और उनके लिए काम किया है। आज जब स्थितियां विपरीत हो चुकी हैं तो ऐसे में कांग्रेस व्यवसायिक प्रकोष्ठ की जिम्मेदारियां बढ़ीं हैं और राज्य का एक-एक एक व्यापारी अपनी जिम्मेदारियों को समझते हुए आगे बढ़कर राज्य का भविष्य बचाने की कोशिश कर रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: