ओवैसी की जनसभा के लिये लगे पोस्टर पर विवाद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 23 सितंबर 2021

ओवैसी की जनसभा के लिये लगे पोस्टर पर विवाद

controversy-on-owesi-poster-sambhal
संभल (उत्तर प्रदेश), 22 सितंबर, संभल जिले में आल इंडिया मजलिस—ए—इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष सांसद असदउद्दीन ओवैसी की जनसभा के लिये लगे पोस्टर में संभल को 'गाजियों की धरती' बताये जाने पर विवाद खड़ा हो गया है। संभल जिले के सिरसी में बुधवार को होने वाली ओवैसी की जनसभा के लिये लगाये गये पोस्टरों में संभल को 'गाजियों की धरती' (इस्लाम के वीर योद्धाओं की धरती) लिखा गया है। इस पर विवाद उत्पन्न हो गया है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इन पोस्टरों पर कड़ा ऐतराज जताया है, जिसके चलते वे पोस्टर हटा दिए गए हैं। भाजपा के पश्चिमी उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय उपाध्यक्ष राजेश सिंघल ने इन पोस्टरों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा, 'संभल कभी गाजियों की धरती नहीं रहा। यह ओवैसी का चुनावी स्टंट है। हम उनके मंसूबों को कामयाब नहीं होने देंगे। हिन्दुस्तान का कोई भी शहर गाजियों का नहीं रहा है और ना ही हम होने देंगे।' उन्होंने कहा 'संभल एक पौराणिक शहर है। पुराणों में संभल को लेकर कल्कि अवतार का उल्लेख है लेकिन अगर कुरान में संभल को गाजियों की धरती बताया गया हो तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा।' गौरतलब है कि ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम पहली बार उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव मैदान में उतरने जा रही है। पार्टी ने राज्य की 100 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है। इसके लिये पार्टी प्रमुख असदउद्दीन ओवैसी खासे सक्रिय हैं और प्रदेश में जगह-जगह जनसभाएं कर रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: