बिहार : सेंट जेवियर्स कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी में हिंदी दिवस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 14 सितंबर 2021

बिहार : सेंट जेवियर्स कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी में हिंदी दिवस

hindi-diwas-in-st-xevier-college-patna
पटना। कवि और फिल्म समीक्षक कुमार विमलेन्दु सिंह ने मंगलवार को कहा कि हिंदी सिनेमा में कविता अब उस तरह यात्रा नहीं कर रही, जिस तरह वह बीते जमाने की फिल्मों में करती थी. श्री सिंह, जो हिंदी दिवस के अवसर पर सेंट जेवियर्स कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी (एसएक्ससीएमटी), पटना में 'कविता और फिल्में' विषय पर बोल रहे थे, ने डब फिल्मों के उद्भव पर इस प्रवृत्ति को दोषी ठहराया। हिंदी में डब किए गए सिनेमा या तो अंडर-एक्सप्रेशन या ओवर-एक्सप्रेशन से प्रभावित हैं, जहां कविता के लिए कोई जगह नहीं है । “कविता आज हिंदी सिनेमा में यात्रा नहीं कर रही है क्योंकि मुख्य पात्रों में आमतौर पर नकारात्मक गुण होते हैं। जब पात्र फिर से उच्च नैतिक मूल्यों को प्रतिबिंबित करने लगेंगे, तो कविता भी यात्रा करना शुरू कर देगी, ” उन्होंने कहा। भारतीय सिनेमा के इतिहास का जिक्र करते हुए श्री सिंह ने कहा कि दादा साहब फाल्के  की फिल्म 'राजा हरिश्चंद्र' के दिनों से लेकर अब तक यह काफी लंबा सफर तय कर चुका है। उन्होंने कहा, "आज का सिनेमा विभिन्न कला रूपों का मिश्रण है।" इससे पहले, कॉलेज के छात्रों- कृति, सृष्टि, रितु, ईशा सोलोमन, अंजलि रॉय, अभय कुमार सिंह और अंशुमान आर्य- ने महिलाओं की स्थिति, दहेज और देशभक्ति जैसे विषयों पर अपनी स्वरचित कविताओं का पाठ किया। कार्यक्रम का आयोजन जेवियर पोएट्री क्लब की ओर से किया गया था। इस अवसर पर कार्यवाहक रेक्टर फादर मार्टिन पोरस एसजे, प्रिंसिपल फादर टी निशांत एसजे, फैकल्टी के सदस्य और छात्र मौजूद रहे।कार्यक्रम का संचालन विकास कुमार सिंह और प्रांजलि ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं: