महंत नरेन्द्र गिरि के मौत के मामले की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 23 सितंबर 2021

महंत नरेन्द्र गिरि के मौत के मामले की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश

recomend-cbi-probe-in-mahanth-narendra-giri-death
लखनऊ 22 सितम्बर, उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि की संदेहास्पद परिस्थितियों में हुयी मृत्यु के मामले की जांच केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की सिफारिश की है। गृह विभाग के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से सरकार के फैसले की जानकारी बुधवार देर रात दी गयी जिसमें कहा गया है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश पर महंत नरेन्द्र गिरि की मृत्यु के मामले की जांच सीबीआई से कराने की संस्तुति केन्द्र सरकार से की गयी है। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और प्रसिद्ध बाघम्बरी पीठ के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि का शव सोमवार को उनके कमरे में मिला था। पुलिस को सूचना देने से पहले मठ के सेवादारों ने शव को फंदे से उतार लिया था और पुलिस के पहुंचने से पहले वहां अनुयायियों की भीड़ एकत्र हो चुकी थी। शव के पास पुलिस को 12 पन्ने का सुसाइड नोट मिला था जिसके अनुसार महंत ने आत्महत्या की थी। इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महंत नरेन्द्र गिरि की मृत्यु पर दुख व्यक्त करते हुये पूरे मामले की जांच के लिये एसआईटी का गठन किया था। महंत गिरि के पास मिले सुसाइड नोट में लिखा था “ आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और उनके पुत्र संदीप तिवारी ने मिलकर मेरे साथ विश्वासघात किया। प्रयागराज के सभी पुलिस अधिकारी एवं प्रशासनिक अधिकारियों से अनुरोध करता हूं। मेरे आत्महत्या के जिम्मेदार उपरोक्त लोगों पर कानूनी कार्रवाई की जाए। ” पुलिस ने महंत की संदिग्ध मौत के मामले में उनके शिष्य आनंद गिरि और बड़े हनुमान मंदिर के पुजारी अद्या तिवारी और उसके पुत्र संदीप तिवारी को हिरासत में ले लिया। सुसाइड नोट में इन तीनों को आत्महत्या के लिये उकसाने का जिम्मेदार ठहराया गया है। एसआईटी ने बुधवार शाम चार बजे आनंद और अद्या को अदालत में पेश किया, सीजेएम हरेन्द्र तिवारी ने आरोपियों के उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

कोई टिप्पणी नहीं: