बिहार : कांग्रेस अध्यक्ष के सुरक्षा पर बड़ी आपराधिक साजिश का अंदेशा : राठौड़ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 1 अक्तूबर 2021

बिहार : कांग्रेस अध्यक्ष के सुरक्षा पर बड़ी आपराधिक साजिश का अंदेशा : राठौड़

  • बिहार कांग्रेस अध्यक्ष के घर केवल चोरी नहीं बल्कि बड़ी साजिश का अंदेशा

bihar-congress-president-security-issue
पटना। बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा के घर पर चोरी की हुई घटना से बिहार के सुशासन की सरकार की पुलिस की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। ये बातें बिहार कांग्रेस के मीडिया विभाग के चेयरमैन राजेश राठौड़ ने कही। उन्होंने कहा कि चोरी ऐसे समय में हुई है जब सभी को पता था कि अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा दिल्ली से वापस आने वाले हैं। जिस प्रकार से खिड़की के ग्रिल को तोड़ा गया है ये वाई श्रेणी सुरक्षा प्राप्त किसी गणमान्य व्यक्ति के जान पर खतरे की कोशिश का मामला बनता दिख रहा है। ऐसे में जब कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष उस आवास में स्वयं ज्यादा वक्त गुजारते हैं और कई कीमती सामान वहां उनके हैं फिर भी पुलिसिया शिथिलता यह बताने को काफी है कि पुलिस व्यवस्था राजधानी पटना में भी चरमरा गई है। बिहार कांग्रेस के मीडिया विभाग के चेयरमैन राजेश राठौड़ ने कहा कि नीतीश कुमार के सुशासन के दांवों की पोल खोलती यह घटना बड़े राजनीतिक साजिश की ओर इशारा कर रही है और राज्य के पुलिस व्यवस्था की कलई खोल रही है। उन्होंने कहा कि वाई श्रेणी सुरक्षा प्राप्त कांग्रेस के अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा का घर यदि सुरक्षित नहीं है तो फिर राज्य के आम नागरिक भगवान भरोसे ही है। सबसे बड़ी बात ये है कि जब सभी को पता था कि वें दिल्ली से वापस पटना आने वाले हैं बावजूद इसके इस तरह की घटना का होना उनके ऊपर जानलेवा हमले की ओर इशारा कर रही है। नीतीश कुमार को अपनी पुलिस व्यवस्था पर ध्यान देने की जरूरत है और उनके झूठे सुशासन का ढ़ोल नगाड़ा बजाना बन्द कर बिहार के लोगों की सुरक्षा का ख्याल रखना चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं: