मधुबनी : डूबने से तीन बच्चों की मौत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 17 अक्तूबर 2021

मधुबनी : डूबने से तीन बच्चों की मौत

three--children-died-in-madhubani
मधुबनी : जिले के बिस्फी प्रखंड क्षेत्र के जगवन पश्चिमी पंचायत स्थित हीरोपट्टी गांव में तीन बच्चों की मौत पानी में डूबने से लोगों में शोक की लहर दौड़ गई। जानकारी के मुताबिक पर्व त्यौहार होने के नाते मृतक ने मिट्टी लाने के लिए हीरोपट्टी गांव स्थित मेला गांछी मैदान के पास बरसात का पानी जमा गड्डे में से मिट्टी लेने के लिए पहुंचा, जहां बच्चे ने मिट्टी काटने के दौरान पैर फिसलने से एक बच्चे पानी में चले गए। उसके बाद एक दूसरे को बचाते हुए चार बच्चे पानी के गहरे में गड्ढे में चले गए, तीन बच्चों की मौत हो गई। जबकि एक बच्चे किसी तरह निकलकर गांव में हल्ला मचाने लगा। गांव के लोग जब तक आते 40 मिनट का समय समाप्त हो चुका था। लोगों ने गहरे गड्ढे पानी में 50 मिनट तक खोजबीन के बाद बच्चों को पानी से निकाला, तब तक तीन बच्चों की मौत हो चुकी थी। जिसमें प्रियंका कुमारी, उम्र-14 वर्ष, पिता-अनिल कमती, सचिन कुमार, उम्र-9 वर्ष ,पिता-सुनील कमती, मनीषा कुमारी, उम्र-10 वर्ष, पिता-शत्रुघ्न दास, ग्राम पंचायत राज जगबन पश्चिम वार्ड 6 हिरोपट्टी शामिल है। घटना की सूचना मिलते ही सीओ श्रीकांत सिन्हा बिस्फी थाना अध्यक्ष संजय कुमार सीआई बसंत झा, एएसआई सुरेश चौधरी, रबिन्द्र चौधरी सहित दलबल के साथ घटना स्थल पर पहुंच शव को अपने कब्जे में लिया। वही स्थानीय विधायक हरि भूषण ठाकुर बचोल, भाजपा के जगवन मण्डल अध्यक्ष राज किशोर मिश्र, बुलेट आदर्श श्रीवास्तव सहित अन्य कई समाजसेवी घटना स्थल पर पहुंच परिजनों को सांत्वना देने देते हुए आगे की कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया। वहीं, परिजनों ने पोस्टमार्टम कराने से यह कहते हुए इंकार कर दिया कि पंचायत में कितने लोगों की मौत पानी में डूबने सहित अन्य घटना से हो चुकी है, लेकिन सरकार के द्वारा साल दो साल बीतने के बाद भी मुआवजा नहीं मिल सका। इसीलिए मैं पोस्टमार्टम नहीं करूगा, क्योंकि इसके बाद कार्यालय का चक्कर मुझे नहीं लगाना और मुझे मुआवजा भी नहीं चाहिए। जबकि इस घटना से पूरे क्षेत्र में कोहराम मच गया है। परिजनों को रो-रो कर बुरा हाल है। लोग सांत्वना देने के लिए पहुंच रहे है।

कोई टिप्पणी नहीं: