भाजपा के शासन में किसान हुआ सर्वाधिक प्रताड़ित : प्रियंका गांधी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 29 अक्तूबर 2021

भाजपा के शासन में किसान हुआ सर्वाधिक प्रताड़ित : प्रियंका गांधी

farmers-were-the-most-harassed-under-bjp-rule-priyanka-gandhi
लखनऊ 28 अक्टूबर, प्रतिज्ञा यात्राओं के जरिये मतदाताओं के साथ सीधा संवाद करने का प्रयास कर रही कांग्रेस की महासचिव एवं उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि आजादी के बाद से अभी तक किसान सबसे ज्यादा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के शासनकाल में प्रताड़ित किया गया है। प्रियंका से गुरुवार को पार्टी प्रदेश कार्यालय में संवाददाताओं को बताया कि केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकारें सिर्फ उद्योगपतियों के हित में काम कर रही हैं और इनके शासन काल में किसान मजदूर युवा और महिलायें प्रताड़ित महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसान सिर्फ खाद ही नहीं बल्कि बीज, डीजल और खेती के अन्य संसाधनों को लेकर सरकार की नीतियों से परेशान हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्र और राज्य में भाजपा सरकारे उत्तर प्रदेश में चुनाव नजदीक देखकर विभिन्न योजनाओं की ताबड़तोड़ घोषणायें कर रही हैं। जबकि पिछले पांच साल से सरकार सोई हुयी थी। अगर ये घोषणायें पहले की होती तो किसानों और अन्य तबकों की परेशानी ही पैदा नहीं होती। इससे पहले उन्होंने प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की और कोरोना काल के दौरान चुनाव ड्यूटी के दौरान मृत शिक्षकों के हक की आवाज उठाने के लिए धन्यवाद दिया। पार्टी सूत्रों ने बताया कि प्रतिनिधिमंडल ने कर्मचारियों, शिक्षकों, शिक्षामित्रों, अनुदेशकों, आंगनबाड़ी, आशा बहनों एवं रसोइयों के हितों की मांगों को प्रियंका के सामने रखा। प्रियंका ने प्रतिनिधिमंडल को बताया कि शिक्षकों-कर्मचारियों की कई मांगों पर जल्द ही वे घोषणा करेंगी। उन्होने कहा कि कांग्रेस पार्टी कर्मचारियों, शिक्षकों, शिक्षामित्रों, अनुदेशकों, आंगनबाड़ी, आशा बहनों एवं रसोइयों के हितों को लेकर पूरी तरह प्रतिबद्ध है।

कोई टिप्पणी नहीं: