मिसिसिपी डेल्टा क्षेत्र के अमेरिकी शहर में महात्मा गांधी की प्रतिमा स्थापित होगी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 8 अक्तूबर 2021

मिसिसिपी डेल्टा क्षेत्र के अमेरिकी शहर में महात्मा गांधी की प्रतिमा स्थापित होगी

gandhi-statue-in-misisipi-delta
वाशिंगटन, आठ अक्टूबर, मिसिसिपी डेल्टा क्षेत्र के मध्य में स्थित एक अमेरिकी शहर जिसकी आर्थिक स्थिति हाल में एक भारतवंशी द्वारा स्थापित कम्पनी के कारण पुनर्जीवित हुई, वहां अब महात्मा गांधी की कांस्य की आवक्ष प्रतिमा स्थापित की जाएगी। आवक्ष प्रतिमा का अनावरण शुक्रवार को क्लार्कसडेल में एक समारोह में किया जाएगा। इसे भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद ने दिया है और प्रसिद्ध मूर्तिकार राम सुतार ने इसे डिजाइन किया है। क्लार्कसडेल के मेयर चक एस्पी ने कहा, ‘‘हम यह उपहार पाकर खुश हैं। गांधी सबसे साहसी और आध्यात्मिक पुरुषों में एक थे। उन्होंने अपने देश को बंदूकों से नहीं बल्कि सादगी, दृढ़ संकल्प, सत्य और अहिंसा के साथ स्वतंत्रता कराया। उनके प्रयासों ने दुनिया को प्रेरित किया, जिसमें हमारे अपने देश के नागरिक अधिकार आंदोलन के नेता जैसे डॉ. किंग (मार्टिन लूथर किंग जूनियर) और सांसद जॉन लुईस शामिल हैं।’’ प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि अटलांटा में भारत की महावाणिज्यदूत डॉ. स्वाति कुलकर्णी औपचारिक रूप से शहर को यह मूर्ति भेंट करेंगी। भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के जश्न के तहत और गांधी जयंती के सप्ताह में इस कार्यक्रम को आयोजित किया जा रहा है। बयान के अनुसार, क्लार्कसडेल और कोआहोमा काउंटी, मिसिसिपी डेल्टा क्षेत्र के मध्य में स्थित हैं। इस क्षेत्र में हाल के दशकों में रोजगार की काफी कमी थी, लेकिन पिछले चार वर्षों में नौकरी के अवसरों में बढ़ोतरी हुई है। भारतीय-अमेरिकी समुदाय ने इस प्रगति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। ‘क्रॉसरोड्स इकनॉमिक पार्टनरशिप’ के कार्यकारी निदेशक जॉन लेविंगस्टन ने कहा, ‘‘भारतीय-अमेरिकी मुरली वल्लगंती द्वारा स्थापित क्लार्क्सडेल के ‘पीपुलशोर्स’ (कम्पनी) में आने के बाद मैंने, कर्मचारियों को न केवल तकनीकी कौशल के साथ बल्कि सबसे महत्वपूर्ण, आवश्यक जीवन कौशल के साथ प्रशिक्षित करने की उनकी प्रतिबद्धता को देखा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘कर्मचारियों को नए शैक्षिक अवसर प्रदान करने के विचार ने दशकों से हमारे क्षेत्र को जकड़े गरीबी के चक्र को तोड़ने में मदद की है।’’

कोई टिप्पणी नहीं: