विशेष : कृषि क्षेत्र का पुनर्जीवन एवं किसानों का सशक्तिकरण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 1 अक्तूबर 2021

विशेष : कृषि क्षेत्र का पुनर्जीवन एवं किसानों का सशक्तिकरण

revive-agriculture-and-farmers
कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। हमारे देश का लगभग 44 फीसदी श्रमबल खेती और इससे जुड़े कामधंधों से रोजगार प्राप्त करता है, या यूं भी कहा जा सकता है कि देश की 70 फीसदी आबादी खेती पर ही निर्भर है। इतनी बड़ी आबादी के कृषिकार्य से जुड़े होने के बावजूद चिंता का विषय यह है कि इस क्षेत्र का देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में योगदान सिर्फ 18 फीसदी ही है। इस क्षेत्र का महत्व इसलिए भी है कि सतत विकास के लक्ष्य-जीरो हंगर को पूर्ण करने एवं पोषण संबंधी जरूरतों की प्रतिपूर्ति को कृषि क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव करके ही हासिल किया जा सकता है।  आजादी के बाद देश में कई क्षेत्रों में सुधार एवं उन्नयन की जरूरत महसूस की जाती रही है। कुछ दिशाओं में सुधार के कदम उठाए गए, किंतु अधिकांश में सात दशक तक पुराने ढर्रे पर ही काम चलता रहा। सरकारों ने अपने राजनीतिक लाभ अथवा पॉलिसी पैरालिसिस की जकड़न में कृषि क्षेत्र को किसानों के भरोसे ही छोड़ दिया और हालात ये हुए कि किसान की आय उसकी लागत से भी कम नजर आने लगी।  कृषि क्षेत्र का पुनर्जीवन कर इसे मुख्यधारा में लाने के कई अहम प्रयास विगत सात वर्षों में हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में सरकार द्वारा किए गए हैं। साहस के साथ कृषि क्षेत्र में किए गए सुधारों के सकारात्मक परिणाम दृष्टिगोचर होने लगे हैं। कृषि उत्पादन में वृद्धि से लेकर किसानों की आर्थिक स्थिति में हुए सुधार यह स्थापित करते हैं कि हमारे ध्येयपूर्ण परिश्रम के परिणाम आने लगे हैं। भारतीय कृषि का आने वाला कल सुखद है।  कृषि सुधार कानूनों के माध्यशम से भारतीय कृषि के एक सुखद एवं समृद्ध भविष्ये की नींव माननीय प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व  में रखी गई है। कृषक उपज व्याापार तथा वाणिज्यन (संवर्धन एवं सुविधा ) अधिनियम, 2020 के माध्य म से किसानों की मंडी में ही अपनी उपज बेचने की बाध्यंता से मुक्ति मिली है। देश में हर निर्माता अपना उत्पावद कहीं पर भी बेच सकता है, लेकिन किसानों पर यह बंधन था कि वे अपने क्षेत्र की मंडी में ही उपज बेच सकते थे। सरकार का यह कदम कृषि के क्षेत्र में ‘एक देश-एक बाजार’ की संकल्पेना को पूर्ण करता है। किसानों के पास मंडी में अपनी उपज बेचने का‍ विकल्प  पूर्ववत है, और हमनें मंडियों के सशक्तिकरण की दिशा में भी कार्य किया है। 


किसानों के सामने एक संकट यह भी रहा है कि उन्हेंक यह आश्वलस्ति नहीं रहती थी कि वे जो खेत में बो रहे हैं उसके उचित दाम मिलेंगे भी या औने-पौने दाम में बिकने के बाद लागत से भी कम पूंजी हाथ में आएगी। बुवाई से पहले ही उचित मूल्यप की गारंटी दिलाने के उद्देश्यभ से ही कृष ( सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वटसन और कृषि सेवा पर करार अधिनियम, 2020 का प्रावधान किया गया है। संविदा खेती के माध्यदम से किसानों को खेती के लिए आधुनिक संसाधन एवं सहयोग भी प्राप्तय हो सकेगा। यहां मैं फिर से स्प ष्टं कर देना चाहता हूं कि संविदा खेती में करार सिर्फ उपज का होता है, जमीन का नहीं । इसलिए जमीन पर से किसानों का मालिकाना हक कोई नहीं छीन सकता है।  कृषि क्षेत्र के उत्थान के लिए सबसे आवश्यक यह था कि सरकार इसका बजट बढ़ाए, ताकि अधिक से अधिक संसाधनों के माध्यम से खेती किसानी की दशा और दिशा में बदलाव किए जा सकें। कृषि विभाग के बजट में सात साल में साढ़े पांच गुना की वृद्धि हुई है। 2013-14 में भारत सरकार के कृषि विभाग का बजट सिर्फ 21933.50 करोड़ रूपए था जो कि 2021-22 में बढ़कर 1 लाख 23 हजार करोड़ रूपए हो गया।  कृषि में आवश्यकता थी एक ऐसी रणनीति कि जो किसान को मौजूदा हालात से उबरने में तात्कालिक रूप से तो मदद करे ही भविष्य की जरूरतों को देखते हुए भी कुछ ठोस काम किया जाए। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व सरकार इन दोनों पहलुओं को ध्यान में रखकर ही लगातार काम कर रही है। किसानों की आय सुधारने के विषय में सबसे पहला सवाल यही उठता रहा है कि उसे उपज के उचित और लाभकारी दाम नहीं मिलते। सरकार ने रबी, खरीफ तथा अन्य व्यावसायिक फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में ऐतिहासिक बढ़ोत्तरी की है। 2018-19 से उत्पादन लागत पर कम से कम 50 प्रतिशत मुनाफा जोड़कर एमएसपी तय की जा रही है। इससे प्रत्यक्ष लाभ तो एमएसपी पर उपज बेचने वाले किसानों को हुआ ही, बाजार में भी तुलनात्मक रूप से दाम बढ़े हैं और किसानों को लाभ पहुंचा है। वर्ष 2013-14 से 2021-22 की तुलना में धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 48 प्रतिशत से ज्यानदा तो गेहूं के समर्थन मूल्ये में लगभग 44 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। दलहन-तिलहन का रकबा बढ़ाना हमारा प्राथमिक उद्देश्य  है और इसीलिए दलहन-तिलहन के समर्थन मूल्यह पर उपार्जन में रिकार्ड वृद्धि कर किसानों को लाभ पहुंचाया गया है। विगत पांच वर्षों में दलहन की खरीद पर 56,798 करोड़ रुपए का व्योय किया गया जो यूपीए शासनकाल से 88 गुना ज्या्दा है, इसी तरह तिलहन की खरीद पर 25,503 करोड़ रुपए किसानों के खाते में डाले गए जो यूपीए शासनकाल से 18.23 गुना ज्या5दा है। ‘ एक राष्ट्र , एक एमएसपी, एक डीबीटी’ की अवधारणा ने किसानों के सशक्तिकरण की दिशा में अहम भूमिका का निर्वहन किया है। 


किसानों को आर्थिक रूप से सशक्ति करने की दिशा में प्रधानमंत्री किसान सम्माटन निधि भी एक सराहनीय एवं उल्लेशखनीय प्रयत्नं है। प्रतिवर्ष किसानो को तीन समान किश्तोंन में कुल छह हजार रूपए की सम्मालन निधि देने का उद्देश्य  यह है कि वे समय पर खाद, बीज, सिंचाई जैसी आवश्यपकताओं को पूर्ण करने के साथ ही परिवार की जरूरतें भी पूरी कर पाएं। 2019 से प्रारंभ हुए इस अभियान के तहत अब तक 11.36 करोड़ किसान परिवारों को 1,58,527 करोड़ रुपए प्रदान किए जा चुके हैं। भारत में किसान अमूमन मानसून पर निर्भर रहता है। बेहतर मानसून एक ओर जहां किसनों के अन्न  भंडार भर देता है तो कई बार अतिवृष्टि या सूखे के चलते कम उत्पांदन का संकट भी खड़ा हो जाता है। खेती में इस अनिश्चि तता के जोखिम को दूर करने के लिए किसानों को एक सुरक्षा कवच के दायरे में लाना अत्य‍धिक आवश्य क रहा है। तत्काललीन फसल बीमा योजनाओं की विसंगतिवयों को दूर करते हुए ‘वन नेशन-वन स्कीतम’ की अवधारणा को मूर्त रूप देते हुए माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रह मोदी जी ने 13 जनवरी 2016 को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के रूप में एक ऐसा अभेद छत्र किसानों को दिया है, जिसने खेती के कई जोखिमों को दूर कर दिया है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में किसानों ने अब तक 21 हजार 484 करोड़ रुपए का प्रीमियम भरा है, जबकि उन्हें  दावों के रूप में 99.04 हजार करोड़ रुपए का भुगतान किया गया है।  किसान की एक बड़ी समस्याभ कृषि में लगने वाली लागत एवं समय पर धनराशि की व्यावस्थाम न हो पाना रही है। ऐसे में किसान बाजार से कर्ज लेकर सूदखोरी के जाल में फंसता रहा है। विगत 7 वर्ष में सरकार ने इस समस्या  को समाप्त  करने कार्य किया है। भारत सरकार किसानों को फसल ऋण पर 5 प्रतिशत की ब्या ज सहायता देती है, किसानों को सिर्फ 4 प्रतिशत ब्या ज ही देना पड़ता है। वर्ष 2007 से 2014 के मध्य  कुल कृषि ऋण प्रवाह 32.57 लाख करोड़ रुपए था जो 2014 से 2021 के दौरान 150 प्रतिशत की वृद्धि के बाद 81. 57 लाख करोड़ रुपए हो गया। वर्ष 2020-21 तक कुल 6.60 करोड़ किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड प्रदान किए जा चुके हैं। 


भारत में किसानों की जोत छोटी है। यहां लगभग 86 फीसदी किसान ऐसे हैं जो 2 हेक्टेयर या उससे कम जमीन पर खेती करके अपनी आजीविका चलाते हैं। छोटे किसान संसाधनों की कमी चलते न तो उन्नतत खेती कर पाते हैं और ना वे मार्केट लिंक से जुड़कर बेहतर लाभ अर्जित कर पाते हैं। कृषक उत्पा‍दक संगठन (एफपीओ) इस दिशा में एक अभिनव एवं ठोस प्रयास है। देश में 10 हजार नए एफपीओ का गठन करके उनके माध्येम से छोटे किसानों को जोड़कर उनके सशक्तिकरण का संकल्पे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र  मोदी जी ने लिया है जो किसानों के उज्व्न  ल भविष्यज की नींव रख रहा है। सरकार इन एफपीओ के गठन एवं उन्हें  आगे बढ़ाने के लिए 6865 करोड़ रुपए खर्च कर रही है। देशभर से ऐसे नवाचार सामने आ रहे हैं जहां छोटे किसानों ने एफपीओ के माध्युम से उन्न त कृषि की नई मिसाल कायम की है।  वेयर हाउस, कोल्ड स्टो रेज, प्रोसेसिंग यूनिट जैसे जरूरी इंफ्रोस्ट्र क्चउर का किसानों की पहुंच से दूर होना किसानों की उपज मूल्य, संवर्धन में आड़े आता है। प्रधानमंत्री जी ने आत्मचनिर्भर भारत अभियान के तहत एक लाख करोड़ रुपए के कृषि अवसंरचना कोष की स्थाचपना कर इस दिशा में एक ऐतिहासिक कदम उठाया है। इस कोष के माध्य म से गांवों में फसलोपरांत प्रबंधन अवसंरचना एवं सामुदायिक कृषि परिसंपत्तियों के निर्माण पर 2 करोड़ रुपए तक के ऋण पर 3 प्रतिशत ब्या ज छूट और कृषि गांरटी सहायता प्रदान की जा रही है। कृषि अवसंरचना कोष की स्था पना के एक साल के भीतर ही देश में अब तक साढ़े 6 हजार परियोजनाओं के लिए 4500 करोड़ रुपए का ऋण स्वीेकृत किया जा चुका है। गांवों में बनने वाले एग्री इंफ्रास्ट्ररक्चोर से जहां ‘फार्म टू फोर्क’ की अवधारणा मूर्त रूप ले रही है वहीं किसानों को उपज के सं‍वर्धित दाम के साथ-साथ स्थासनीय स्तफर पर रोजगार के संसाधन विकसित होने के अवसर भी सृजित हो रहे हैं। यह अभिनव प्रयास भविष्य‍ में भारतीय कृषि में एक नया अध्यासय जोड़ेगा, ऐसा मेरा प्रबल विश्वाशस है। 


भारत की कृषि विविधता और किस्मोंक की प्रचुरता भी हमारी एक बड़ी शक्ति है। समदृष्टि रखकर हमने राष्ट्रस के हर कोने में कृषि संसाधनों को सशक्ति करने का कार्य किया है। जम्मू्-कश्मीोर में सैफरन पार्क की स्थांपना ने घाटी के किसानों की आय को दोगुना करने का काम किया है तो पॉम आयल मिशन के माध्य म से 11,040 करोड़ रुपए के परिव्येय के साथ पूर्वोत्तरर के राज्योंॉ एवं अंडमान क्षेत्र में किसानों को लाभ पहुंचाने के साथ ही खाद्य तेलों के मामले में आत्महनिर्भरता लाने का कदम उठाया गया है। मोटे अनाज की खेती को प्राथमिकता प्रदान करके जनजातीय क्षेत्रो में किसानों की आय का संवर्धन किया जा रहा है। मध्यकप्रदेश के ग्वाालियर-चंबल एवं दक्षिण भारतीय राज्योंर में मधुमक्खी  पालन के जरिए किसानों की आय संवर्धन का कार्य किया जा रहा है।  अर्थशास्त्र के विशेषज्ञों का प्रबल मत है कि भारत में कृषि क्षेत्र में सिर्फ 1 प्रतिशत की दर से की गई वृद्धि, गैर कृषि क्षेत्रों के मुकाबले 3 गुना ज्यादा लाभदायक साबित होती है। यह वह समय है जब भारतीय कृषि नव परिवर्तन के दौर से गुजर रही है। दुनिया में हर नौंवा कृषि तकनीकी आधारित र्स्टानटअप भारतीय है। विगत एक दशक में कृषि एवं इससे जुड़े तकनीकी एवं एग्री बिजनेस की ओर देश के युवाओं का तेजी से रूझान बढ़ा है।खेती से एक बार फिर नौजवान जुड़ रहे हैं, क्योंाकि अब इसमें जोखिम कम और लाभ ज्याफदा नजर आ रहा है। सात दशकों से जिन कृषि सुधारों की सिर्फ बातें की जाती रहीं थीं, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र  मोदी जी की दृढ़ संकल्पृशक्ति ने उन्हें  जमीन पर उतारा है। किसान की आय बढ़े, वो बिचौलियों से मुक्ति पाए और भारतीय खेती को वैश्विक स्तरर पर स्थायपित हो पाए यही संकल्पं लेकर हम आगे बढ़े हैं। कृषि और किसान दोनों आत्मिनिर्भर बनें यही राष्‍ट्र का संकल्पय है।





नरेन्द्र  सिंह तोमर

मंत्री, कृषि एवं किसान कल्या ण

भारत सरकार

कोई टिप्पणी नहीं: