सुप्रीम कोर्ट ने आठ लाख की सीमा पर किया सवाल - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 8 अक्तूबर 2021

सुप्रीम कोर्ट ने आठ लाख की सीमा पर किया सवाल

sc-raise-question-on-neet-quota
नयी दिल्ली 07 अक्टूबर, उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को केंद्र सरकार से सवाल किया कि मेडिकल की स्नातकोत्तर कक्षाओं में वर्तमान सत्र में दाखिले के लिए अन्य पिछड़ी जातियों (ओबीसी) के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) के लिए सालाना आठ लाख रुपए तक की आमदनी की सीमा किस आधार पर निर्धारित की गई है। न्यायमूर्ति डी.वाई. चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने एक याचिका की सुनवाई के दौरान सरकार से सवाल किया कि आखिर ओबीसी के लिए ईडब्ल्यूएस कोटे के तहत नीट-ऑल इंडिया कोटे के लिए आठ लाख रुपए की ही सीमा क्यों रखी गई है। अदालत ने इसका आधार बताने के लिए कहा। शीर्ष अदालत में केंद्र सरकार की ओर से 29 जुलाई को जारी की गई उस अधिसूचना को चुनौती दी गई है, जिसमें देशभर के ओबीसी ईडब्ल्यूएस के लिए एक समान आठ लाख रुपए वार्षिक आमदनी की सीमा तय की गई है। शीर्ष अदालत ने कहा कि मुंबई , बेंगलुरु जैसे महानगरों तथा उत्तर प्रदेश के सुदूर इलाकों में लोगों की सालाना आमदनी का आधार एक कैसे हो सकता है। न्यायालय इस मामले में अगली सुनवाई 20 अक्टूबर को करेगा। 

कोई टिप्पणी नहीं: