सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 07 अक्टूबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 7 अक्तूबर 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 07 अक्टूबर

रानी मोहल्ला गंज में होगा चार दिवसीय गरबा महोत्सव


सीहोर। रानी मोहल्ला गंज में जय श्री महाकाल दुर्गा उत्सव समिति के द्वारा प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी भव्य दुर्गा उत्सव मनाया जा रहा है। समिति के द्वारा नवरात्रा के दौरान विभिन्न आकर्षक धार्मिक रंगारंग कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाएगा। गरबा प्रशिक्षक स्वाति चौहान के नेतृत्व में गरबा महोत्सव मनाया जाएगा। गरबा आयोजन मैं पहले दिन महाराष्ट्रीय दूसरे दिन राजस्थानी तीसरे दिन बंगाली, चौथे दिन गुजराती गरबा का आयोजन होगा। गरबा महोत्सव में शामिल होने की अपील नागरिकों से जय श्री महाकाल दुर्गा उत्सव समिति सदस्य मानसी चौरसिया, वैशाली राजपूत, परी अरोड़ा, सोनाली सोनावाली, गुडिय़ा चौहान, मेघा महानिया, इशिका महोनिया, रूपाली राजपूत, टिंकल नंदा, अदिति सूर्यवंशी, खुशी राठौर, अनीता चक्रधर, पूजा पवार, देवयानी आर्य, अनीता शर्मा, कुमकुम आर्य, पिंकी नामदेव, राधिका जोगी, मोनिका गढ़वाल सहित अन्य सदस्यों श्रद्धालुओं ने की है। 


ऐतिहासिक मानव श्रृंखला देगी नशा मुक्ति का संदेश आज

  • 200 से अधिक एक दूसरे का हाथ थामकर नशा मुक्ति का लेंगे शपथ-केन्द्र संचालक राहुल सिंह

sehore news
सीहोर। पिछले कई दिनों से सामाजिक न्याय विभाग और संकल्प नशा मुक्ति के संयुक्त प्रयासों से भारत सरकार के अंतर्गत आने वाले मद्य निषेध सप्ताह का समापन शुक्रवार को दोपहर तीन बजे शहर के सैकड़ाखेड़ी स्थित केन्द्र के विशाल परिसर में सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ मानव श्रृंखला बनाकर नशा से मुक्त होने के संकल्प के साथ किया जाएगा। इस मौके पर मुख्य रूप से सामाजिक न्याय विभाग के उपसंचालक श्रवण कुमार पचौरी, वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीमती शोभना सन्नी महाजन, समाजसेविका श्रीमती अंजू अजय अग्रवाल, नीतू मुकेश अग्रवाल आदि शािमल रहेंगे। अंतिम दिन संकल्प नशा मुक्ति केंद्र द्वारा नशा मुक्ति के पक्ष में तथा नशे के खिलाफ शहर में बनाई जाएगी सबसे बड़ी ऐतिहासिक मानव श्रृंखला जिसमें लगभग 200 लोगों से अधिक लोग एक दूसरे के हाथ थाम के नशा मुक्ति का संदेश देंगे मानव श्रृंखला का यह कार्यक्रम संकल्प खेल परिसर में श्री पचौरी के नेतृत्व में किया जावेगा इस मानव श्रृंखला में वृद्धजन भी सम्मिलित होने के लिए उत्साहित हैं इस मानव श्रृंखला को संचालक राहुल सिंह नशाबंदी की शपथ दिलाएंगे गुरुवार को संकल्प नशा मुक्ति केन्द्र के संचालक राहुल सिंह द्वारा आधा दर्जन से अधिक पौधों का रोपण किया गया। श्री सिंह ने कहा कि यदि पेड़-पौधे नहीं होंगे तो जीवन पर संकट गहराएगा। आज जिस तरह से शहर का तापमान बढ़ता जा रहा है। उससे आने वाले समय में और भी अधिक समस्या होगी। इसके साथ ही शुद्ध हवा भी मिलेगी। इसको पौधारोपण से संतुलित किया जा सकता है कार्बन डाइऑक्साइड का प्रभाव. भागम भाग भरी जिंदगी में जहां देश विकास की दिशा में अग्रसर है। वहीं उद्योग क्रांति वन हानि बिजली से चलित मशीनों से निकलने वाला कार्बन डाइऑक्साइड ने पर्यावरण को दूषित कर रखा है इसके कारण धरती का तापमान बढ़ता जा रहा है इसी वजह से मौसम में बदलाव आने लगे हैं बढ़ती गर्मी, बे मौसम बारिश, सूखे और बाढ़ का प्रकोप और प्राकृतिक आपदा का कहर बढ़ता जा रहा है। हर नागरिक को चाहिए कि वह सुरक्षित जगह में पौधा राोपण करें तथा उसका पालन करें अगर हर व्यक्ति एक पौधा लगाए तो धरती पुन: हरियाली से परिपूर्ण हो सकती है।  कार्यक्रम के दौरान केंद्र के प्रभारी नटवर कुशवाहा, वार्ड परामर्शदाता आनंद व्यास, सरवन संधू रितेश माहेश्वरी धर्मेन्द्र शर्मा, बाबू सिंह संधू, राजा पटेल दीपक वृद्धोंजनों में लकी अग्रवाल चुन्नी काका जो पर्यावरण को लेकर सजग रहते है। इन वृद्धजनों के साथ पौधारोपण किया गया था। वहीं शुक्रवार दोपहर तीन बजे मानव श्रृंखला आदि कार्यक्रमों का आयोजन मद्य निषेध सप्ताह के अंतर्गत किया जाएगा। 


अग्रसेन महाराज के गूंजे जयकारे, शोभायात्रा में उमड़े समाजजन


sehore news
सीहोर। अग्रवाल समाज के आराध्य देव महाराजा अग्रसेन की जयंती गुरुवार को धूमधाम से मनाई गई। इस अवसर पर जहां शाम को निकली भव्य शोभायात्रा में समाजजन अग्रसेन महाराज के जयकारे लगाते हुए भजनों पर झूूमते गाते चल रहे थे। शहर के जिस मार्ग से भव्य शोभायात्रा निकली, विभिन्न संगठनों द्वारा पुष्पवर्षा कर भव्य स्वागत किया गया। अग्रसेन जयंती महोत्सव में पिछले कई दिनों से उत्साह का माहौल था। इस मौके पर शहर के बड़ा बाजार स्थित अग्रवाल धर्मशाला में आयोजन चल रहे थे। इसका समापन गुरुवार को किया गया। इस मौके पर सुबह घर-घर जयंती के अवसर पर पूजा अर्चना की गई। इसके अलावा शाम को चार बजे शहर के बड़ा बाजार स्थित सत्यनारायण मंदिर में आरती के पश्चात शोभा यात्रा निकाली गई जो छावनी के प्रमुख मार्गों से होते हुए कार्यक्रम स्थल पर पहुंची इस मौके पर सम्मान कार्यक्रम और पुरस्कार वितरण कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। अग्रसेन जयंती महोत्सव पिछले कई दिनों से धूमधाम से मनाया जा रहा था, शहर के छावनी स्थित बड़ा बाजार में हर दिन विभिन्न खेलकूद और सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन हुआ, जिसमें बेहतर प्रदर्शन करने वाले समाजजनों का गुरुवार को पुरस्कार प्रदान कर सम्मान किया गया। इससे पूर्व शोभा यात्रा भी निकाली गई थी। जिसमें शामिल समाजजन महाराजा अग्रसेन के जयकारे लगाते हुए चल रहे थे। चल समारोह प्रभारी हरीश चंद्र अग्रवाल ने बताया कि गुरुवार को पूरी आस्था और उत्साह के साथ अग्रवाल समाज के तत्वाधान में भव्य चल समारोह निकाला गया। इस मौके पर शोभा यात्रा में शामिल श्रद्धालुओं ने जयकारों के साथ जयंती महोत्सव मनाया। वहीं देर रात्रि तक शहर के बड़ा बाजार स्थित अग्रवाल धर्मशाला में कार्यक्रम के सभी विजेताओं को सम्मानित भी किया गया। जयंती महोत्सव के पहले दिन श्री सुंदरकांड पाठ से शुभारंभ किया गया था। इसके पश्चात स्वस्थ्य शिशु प्रतियोगिता, लक्की गेम, सामूहिक गेम, वृन्दावन धाम झांकी गौशाला सहित, माइंड गेम प्रतियोगिता, लाक डाउन काल पति के साथ, फूल पत्तियों की रंगोली प्रतियोगिता, चेयर रेस, फैन्सी ड्रेस बच्चों की, आनंद मेला, बचपन से पचपन, फिल्मी ड्युएट डांस, तारे जमीन पर, पर्यावरण बचाओ प्रतियोगिता, ब्रेड के व्यंजन बनाओ, पार्सल टू पार्सल फनी गेम और नुक्कड नाटक कामेडी आदि कार्यक्रमों का आयोजन किया गया था। समापन अवसर पर पुरस्कार वितरण किया गया।


प्राचीन मरी माता मंदिर में लगातार नौ दिन मनाई जाएगी नवरात्रि
  • मरी माता का विशेष श्रृंगार किया गया, श्रद्धालुओं के साथ दी जा रही हवन में आहुतियां


sehore news
सीहोर। गुरुवार को नवरात्रि के पहले दिन शहर के विश्रामघाट मां चौसट योगिनी मरी माता मंदिर पर माता का विशेष श्रृंगार किया गया। इस मौके पर मंदिर समिति द्वारा पंडित उमेश शर्मा, ज्योतिषाचार्य पंडित गणेश शर्मा और मनोज दीक्षित मामा सहित अन्य ब्राह्मणों के द्वारा यहां पर आरंभ हुए सादगीपूर्ण दिव्य हवन में श्रद्धालुओं ने देवी माता के मंत्रों के साथ आहुतियां दी। हवन के दौरान मंदिर के व्यवस्थापक गोविंद सिंह मेवाड़ा, रोहित मेवाड़ा, जिला संस्कार मंच के हीरु बेलानी, पंकज  झंवर, हृदेश राठौर, राजेश कुशवाहा, राजू भारती, नीरज मेवाड़ा, अखिलेश माहेश्वरी, आशीष माहेश्वरी, रामू सोनी, कृष्णकांत, सुभाष कुशवाहा, चिन्टू मेवाड़ा, परवेश, सोनू और मोनू आदि शामिल थे। इस संबंध में जानकारी देते हुए मंदिर समिति के रोहित मेवाड़ा ने बताया कि सादगी के साथ नवरात्रि का पर्व मनाया जा रहा है। उन्होंने सभी श्रद्धालुओं से मास्क पहनकर दर्शन करने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की है। नवरात्रि के पहले दिन माता मंदिर में बड़ी संख्या में कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। वहीं जिला संस्कार मंच के संस्थापक श्री दीक्षित ने इस दौरान कहा कि नवरात्रि पर्व स्त्री की शक्ति और सम्मान का प्रतीक है। नवरात्रि में हम नौ शक्तियों की उपासना करते हैं। नवरात्र यूं तो पवित्र रात्रि का प्रतीक है, ऐसी रात्रि जो पाप रूपी अंधेरे का शमन कर जीवन में नई रोशनी का संचार करती है। प्रतीकात्मक तौर पर नवरात्रि पाप पर पुण्य की विजय का प्रतीक है। अपितु नौ दिनों तक नौ देवियों की पूजा कर जीवन के समस्त बवंडरों से मुक्ति पाने की कामना भी इसमें विशेष स्थान रखती है। देवी दुर्गा जो स्त्री का प्रतीक है, जो शक्ति और सम्मान कहलाती है उसकी पूजा की जाती है, जीवन के समस्त दुखों-पापों, अंधेरों का नाश कर इसमें खुशी और सौंदर्य के रूप में नव ऊर्जा के संचार की कामना-प्रार्थना के साथ। उन्होंने सभी श्रद्धालुओं से सादगी के साथ हवन में आहुतियां देने की अपील की है। यहां पर सुबह आरती साढ़े आठ बजे की जाती है और इसके अलावा रात्रि साढ़े सात बजे की जाती है। उन्होंने बताया कि नवरात्रि के पहले दिन मां दुर्गा के प्रथम स्वरूप शैलपुत्री की पूजा की जाती है। सफेद वस्त्र धारण किए मां शैलपुत्री के दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल शोभायमान है। मां के माथे पर चंद्रमा सुशोभित है। यह नंदी बैल पर सवार संपूर्ण हिमालय पर विराजमान हैं। शैलपुत्री मां को वृषोरूढ़ा और उमा के नामों से भी जाना जाता है। मान्यता है की मां शैलपुत्री का जन्म पर्वत राज हिमालय के घर में हुआ था, जिसके कारण उनका नाम शैलपुत्री पड़ा। देवी के इस रूप को करुणा और स्नेह का प्रतीक माना गया है। घोर तपस्या करने वाली मां शैलपुत्री सभी जीव-जंतुओं की रक्षक मानी जाती हैं।

14 अक्टूबर को होगी महानिशा की पूजा अर्चना
मरी माता मंदिर में नौ दिन आस्था के साथ मनाया जाएगा इस मौके पर आगामी 14 अक्टूबर को महाष्टमी का पर्व मनाया जाएगा और परम्परा के अनुसार महानिशा की देर रात्रि को आरती और पूजा अर्चना की जाएगी। इसके अलावा शुक्रवार को मां ब्रह्मचारिणी की पूजा नवरात्रि के दूसरे दिन की जाती है। माता को शक्कर प्रिय है अत: उन्हें शक्कर से बना प्रसाद भोग में अर्पित करें। शक्कर के साथ पंचामृत का भी भोग लगाएं। इससे माता सभी जीवों को दीर्घायु होने का आशीर्वाद देतीं हैं।

हर रोज किया जाएगा विशेष श्रृंगार और लगाया जाएगा विभिन्न भोग
मां चौसट योगिनी मरी माता मंदिर लाखों श्रद्धालुओं की आस्था का केन्द्र है हर रोज यहां पर देवी दर्शन को लेकर श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। माता रानी का विशेष श्रृंगार और हर रोज विभिन्न प्रकार का भोग भी लगाया जाएगा। मंदिर के व्यवस्थापक गोविंद सिंह मेवाड़ा ने बताया कि यहां पर ब्राह्मणों के द्वारा दिव्य हवन का आयोजन किया जा रहा है, जो पूरे नौ दिन तक आयोजित किया जाएगा, इसके अलावा कन्या पूजन, प्रतीकात्मक रूप से चुनरी यात्रा और गरबा आदि की आराधना भी आस्था और सादगी के साथ की जाएगी। 



हितग्राही मूलक योजनाओं का लाभ सभी पात्र हितग्राहियों को मिले - प्रधान जिला न्यायाधीश श्री चंद

  • मानपुरा में 11 अक्टूबर को होगा वृहद मेले का आयोजन

  • अनेक योजनाओं के पात्र हितग्राहियों को किया जाएगा लाभांवित

sehore news
राष्ट्रीय एवं राज्य सेवा विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार आजादी के अमृत महोत्सव के अन्तर्गत 11 अक्टूबर को मानपुरा में वृहद जागरूकता मेले का आयोजन किया जा रहा है। मेले के आयोजन के संबंध में प्रधान जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री आरएन चंद ने अधिकारियों की बैठक आयोजित कर अधिक से अधिक पात्र हितग्राहियों को लाभांवित करने के निर्देश दिए। बैठक में प्रधान न्यायाधीश श्री चंद ने कहा कि इस मेले का उददेश्य उन पात्र हितग्राहियों को शासन की योजनाओं से लाभांवित करना है, जो लाभ पाने से वंचित रह गये है। उन्होंने सभी विभागों के अधिकारियों को उनके विभाग द्वारा चलाई जा रही हितग्राहीमूलक योजनाओं की मेले में जानकारी देने के साथ ही ऐसे हितग्राहियों की सूची तैयार कर उन्हें लाभांवित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि हम सभी का उददेश्य है, कि लोगों की समस्याओं का त्वरित निराकरण हो तथा उन्हें पात्रता के अनुसार लाभ मिल सकें। मेले में दिव्यांगजनों को ट्रायसिकल एवं सहायक उपकरण वितरित करने, लाडली लक्ष्मी योजना के हितग्राही को लाभांवित करने, किसान भू-स्वामी को ऋण पुस्तिका वितरित करने, सामाजिक सुरक्षा पेंशन के हितग्राहियों को लाभांवित करने, पात्रता पर्ची जारी करने तथा पात्र व्यक्ति के नाम जोडने, श्रमिकों के श्रमिक कार्ड एवं श्रमिक विभाग की योजनाओं से लाभांवित करने, विद्युत समस्या के निराकरण करने, विद्यार्थियों एवं आमजनों के लर्निग लाइसेंस के लिए कैम्प लगाने, कृषि विभाग की योजना सहित अनेक विभागों द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ पात्र हितग्राहियों देने के निर्देश दिए है। बैठक में श्री चंद ने मेले में आने वाले लोगों की समस्याओं एवं शिकायतों का समुचित निराकरण करने के निर्देश दिए। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को मेले की बेहतर व्यवस्था करने के निर्देश दिए। बैठक में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री मुकेश कुमार दांगी ने इस मेले के आयोजन के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। बैठक में विशेष न्यायाधीश सुरेश सिंह, एसडीएम श्री बृजेश सक्सेना, डिप्टी कलेक्टर श्रीमती प्रगति वर्मा सहित समस्त विभागों के जिलाधिकारी उपस्थित थे।



संरक्षित बच्चे के पोषण का पूरा ध्यान रखेंगे अधिकारी


भोपाल संभागायुक्त के निर्देशानुसार कुपोषण मुक्ति अभियान तथा ब्लाक स्तरीय अधिकारियों की बैठक में लिये गये निर्णय अनुसार अधिकारियों की आपसी सहमति एवं सामाजिक नैतिक कर्तव्य मानते हुए अतिगंभीर कुपोषित बच्चों को अपने संरक्षण में लिया गया है। कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने अधिकारी पोष्टिक आहार के रूप में कैलोरी, प्रोटीन, कार्बाहाइड्रेट तरल पदार्थ खनिज और विटामिन युक्त खाद्यान पैकेट उपलब्ध कराने के लिए कहा है, ताकि कुपोषित बच्चे को प्रति दिन ये आहार मिल सके। साथ ही अधिकारी अपने भ्रमण में संरक्षण में लिये बच्चों की सतत् निगरानी के दौरान साफ स्वच्छता आहार संबंधी समझाइस इनके परिजनों को दें जिससे कुपोषण मुक्त अभियान को सफल बनाया जा सके। पौष्टिक आहार पैकेट को अधिकारी स्वयं की स्वेच्छा से सीधे ही कुपोषित बच्चों को दे सकते है अथवा महिला एवं बाल विकास के माध्यम से भी उपलब्ध करा सकते है।


जिले में आज कोई भी व्‍यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला, वर्तमान में कोरोना एक्टिव पॉजिटिव की संख्या शून्य


पिछले 24 घंटे के दौरान प्राप्त रिपोर्ट में जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में अब तक कुल कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या 10142 है। वर्तमान में एक्टिव पॉजिटिव शून्य हो गई हैं। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 10020 हैं। आज 630 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 165,  श्यामपुर से 165,  नसरूल्‍लागंज 48, आष्टा से 207,  बुधनी से 45 सेंपल लिए गए हैं। अभी तक कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 274768 हैं। जिनमें से 262920 सैंपलों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। आज 654 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1635 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथोलॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है।


अन्न महोत्सव में जनप्रतिनिधियों ने हितग्राहियों को सम्मान के साथ सौंपा राशन

  • सबको राशन सम्मान के साथ यही अन्न उत्सव का लक्ष्य

sehore news
जिले की सभी उचित मूल्य की दुकान पर अन्न महोत्सव में हितग्राहियों को राशन वितरित किया गया। अन्नोत्सव कार्यक्रम में स्थानीय जनप्रतिनिधियों से हितग्राहियों को थैले में सम्मान से राशन वितरित किया। शाहगंज शासकीय उचित मूल्य दुकान पर मुख्य अतिथि  सांसद श्री रमाकांत भार्गव सहित अन्य जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में राशन वितरित किया गया। अनुविभाग बुदनी अंतर्गत आने वाली जोनतला शासकीय उचित मूल्य दुकान पर खाद्य आयोग सदस्य श्री वीरसिंह चौहान सहित अन्य जनप्रतिनिधियों की उपस्थिती में राशन वितरित किया गया। बुदनी नगर की शासकीय उचित मूल्य दुकान पर पूर्व विधायक श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत एवं नगर परिषद अध्यक्ष श्री विजय सिंह राजपूत तथा जनप्रतिनिधियों ने राशन वितरित किया। इछावर के ग्राम पंचायत झालकी में शासकीय उचित मूल्य दुकान पर विधायक श्री करणसिंह वर्मा सहित जनप्रतिनिधियों की उपस्थिती में राशन वितरित किया गया। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर प्रदेश में प्रत्येक माह की 7 तारीख को अन्न उत्सव कार्यक्रम उचित मूल्य की दुकानों पर आयोजित किया जा रहा है। सीहोर जिले में 375 दुकानों पर आज यह कार्यक्रम संपन्न हुआ। जिले में 28 श्रेणी के लोगों को राशन उपलब्ध कराया जा रहा है। अन्न महोत्सव में जन प्रतिनिधियों के साथ अधिकारी-कर्मचारी भी सम्मिलित हुए।


सिंचाई जलाशयों को मछली पालन एवं मत्स्यखेट के लिए आवेदन आंमत्रित


मध्यप्रदेश शासन मछली पालन विभाग द्वारा पंचायत को कर्तव्यों एवं कार्यक्रमों का विकेन्द्रीकरण कर जनपद पंचायतों को 10 हेक्टेयर से अधिक एवं 100 हेक्टेयर औसत जलक्षेत्र के जलाशयों को मत्स्यपालन मत्स्याखेट के लिये पट्टे पर देने के अधिकारों के तहत जनपद पंचायत सीहोर के अधिनस्थ सिंचाई जलाशय सीलखेड़ा जलाशय ग्राम पंचायत सीलखेड़ा तहसील श्यामपुर, सातनवाड़ी जलाशय ग्राम पंचायत सातनवाडी तहसील श्यामपुर को पट्टे पर देने के लिए निर्णय लिया है।

 

यह कर सकते है आवेदन

पंजीकृत मछुआ सहकारी समितियां, वंशानुगत मछुआ, अ.जा.,अ.ज.जा.,पि.वर्ग, सामान्य वर्ग की पंजीकृत सहकारी मछुआ समितिया,  मछुआसमूह (स्वसहायता समूह) वंशानुगत मछुआ / अ.जा./अ.ज.जा./ पि.वर्ग / सामान्य वर्ग वर्ग की पंजीकृता, पूर्व बकायादारों के आवेदन मान्य नहीं होगें।, आवेदन पत्र मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत सीहोर के कार्यालय में दिनांक 21 अक्टूबर को सांय 05 बजे तक अवकाश को छोड़कर प्रस्तुत करना होगा। विलम्ब से प्राप्त आवेदन पत्र मान्य नहीं किये जायेगें।, सिंचाई जलाशयों को मछली पालन एवं मत्स्यखेट के लिए 10 वर्ष की अवधि के लिए दिया जाना है। यह अवधि तभी मान्य होगी जब प्राधिकृत अधिकारी व्दारा इसकी अनुमति दी गई हो। जलाशय की पट्टा राशि का निर्धारण परिशिष्ट एक के अनुसार विन्दु क-2 एवं 4.3 के अनुसार किया जावेगा।, पंजीबद्ध मछुआ सहकारी समितियों का आवेदन के साथ पंजीयन प्रमाण-पत्र, विगत एक वर्ष की आडिट रिपोर्ट एंव सदस्य सूची संलग्न करना होगी। किन्तु नई गठित पंजीबद्ध सहाकारी समितियों को आडिट रिपोर्ट संलग्न करने में छूट रहेगी। मछुआ स्वसहायता समूह को सदस्यों के निवास एवं जाति प्रमाण-पत्र आय प्रमाण पत्र तथा उनका समूह कब पंजीबद्द हुआ है कि जानकारी प्रस्तुत करना होगी। विशेष जानकारी के लिए जनपद पंचायत सीहोर कार्यालय में कार्यालयीन समय में सम्पर्क किया जा सकता है। तालाब जलाशय का पट्टा शासन के द्वारा निर्धारित निर्देशों एवं शर्तो पर प्राथमिकता अनुसार ही दिया जाएगा। पट्टा दिये जाने के संबंध जनपद पंचायत सीहोर का निर्णय अंतिम होगा।



टाउन हॉल में पोषण-पालक सम्मेलन आज, सम्मेलन में शामिल होंगे संभागायुक्त श्री कियावत



जिले को कुपोषण से मुक्ति दिलाने के लिए भोपाल संभाग आयुक्त श्री कविन्द्र कियावत निर्देशानुसार जिले में विशेष अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत जिले को 14 नवंबर तक कुपोषण से मुक्त किया जाना है। इस संबंध में 8 अक्टूबर को प्रातः 9:00 बजे टाउन हॉल बस स्टैंड के पास सीहोर में आयोजित पालक पोषण सम्मेलन में शामिल होंगे। वे सेम बच्चों के अभिभावक एवं पोषण पालक अधिकारी के सम्मेलन को संबोधित करेंगे। उल्लेखनीय है, कि कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर द्वारा अधिकारियों की सहमति से बच्चों के समुचित पोषण के लिए दायित्व सौंपा गया है। श्री ठाकुर ने अधिकारी पोष्टिक आहार के रूप में कैलोरी, प्रोटीन, कार्बाहाइड्रेट तरल पदार्थ खनिज और विटामिन युक्त खाद्यान पैकेट उपलब्ध कराने के लिए कहा है, ताकि कुपोषित बच्चे को प्रति दिन ये आहार मिल सके। साथ ही अधिकारी अपने भ्रमण में संरक्षण में लिये बच्चों की सतत् निगरानी के दौरान साफ स्वच्छता आहार संबंधी समझाइस इनके परिजनों को दें जिससे कुपोषण मुक्त अभियान को सफल बनाया जा सके। पौष्टिक आहार पैकेट को अधिकारी स्वयं की स्वेच्छा से सीधे ही कुपोषित बच्चों को दे सकते है अथवा महिला एवं बाल विकास के माध्यम से भी उपलब्ध करा सकते है।


कोविड अनुकम्पा नियुक्ति के तहत नियुक्ति पत्र जारी


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मिन्टों हॉल भोपाल में सामान्य प्रशासन, महिला एवं बाल विकास,लोक सेवा प्रबंधन व नागरिक आपूर्ति विभाग तथा पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के कोविड बाल सेवा योजना के लाभांवित बच्चों से भेट, कोविड अनुकम्पा नियुक्ति योजना में नियुक्ति पत्र वितरण, अन्न उत्सव के सभी पात्र हितग्राहियों को राशन वितरण, सीएम जनसेवा तथा मोबाइल गर्वनेंस सेवाओं का विस्तार, प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत निर्मित आवास गृह प्रवेश, पंचायत भवनों का भूमि पूजन  कार्यक्रम में शामिल हुए। वर्चुअल कार्यक्रम के दौरान कलेक्ट्रेट के एनआईसी कक्ष में नेहा केवट, श्री अंकुर शर्मा, श्री शिखरदेवसिंह परिहार, श्री गगन वर्मा को पुलिस विभाग में श्री मयंक बाघडे, श्री जगदीश जायसवाल पशु पालन विभाग में, श्री लोकेन्द्र करंजिया, श्री वंदना धुर्वे को स्कूल शिक्षा विभाग में अनुकम्पा नियुक्ति मिली है। इस अवसर पर डिप्टी कलेक्टर श्रीमती प्रगति वर्मा सहित संबंधित विभाग के जिलाधिकारी उपस्थित थे।


सांसद श्री भार्गव ने किया उप लोक सेवा केन्द्र का लोकार्पण


शाहगंज में सांसद श्री रमाकांत भार्गव ने उप लोक सेवा केन्द्र का लोकार्पण किया। सांसद श्री भार्गव ने कहा कि लोक सेवा केन्द्र से खुलने से अनेक विभागों द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ सहित दस्तावेज एक ही स्थान से उपलब्ध होंगे। नागरिकों को इससे कही दूसरे शहर नही जाना पडेगा। जिससे पैसे और समय दोनों की बचत होगी। इस अवसर पर अन्य जनप्रतिनिधी भी उपस्थित थे।



वित्तीय अनियमितताये करने पर सचिव को किया निलंबित


बुधनी जनपद पंचायत की ग्राम पंचायत माजरकुई में प्रधान श्रीमति नजमुन एवं सचिव श्री संजय दुबे  द्वारा 4 लाख 75 हजार 837 की वित्तीय अनियमितताये किये जाने एवं पर्याप्त समयावधि दिये जाने के पश्चात वसूली राशि जमा नहीं करने पर सचिव श्री संजय दुबे को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। निलंबन अवधि में श्री दुबे का मुख्यालय जनपद पंचायत बुदनी रहेगा। नियमानुसार जीवन निर्वाह की पात्रता होगी।


कार्य में घोर लापरवाही बरतने पर सचिव निलंबित


जनपद पंचायत आष्टा की ग्राम पंचायत ग्वाला के सचिव श्री हीरालाल आंवले को मनरेगा कार्यों में प्रगति नही लाने, लेवर नियोजन अत्यंन्त कम होने, सीएम हेल्पलाइन की शिकायत के निराकरण में रूचि नही लेने तथा भ्रमण के दौरान पंचायत कार्यालय से बिना किसी सूचना के अनुपस्थित पाये जाने के कारण श्री हीरालाल आंवले सचिव को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाता है। निलंबन अवधि में श्री आंवले का मुख्यालय जनपद पंचायत आष्टा रहेगा। इन्हें नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता होगी ।


जिले में अब तक 973.7 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज , बीते 24 घंटे में 0.1 मिलीमीटर औसत वर्षा



जिले में 01 जून से 07 अक्टूबर  2021 तक  973.7 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। जो कि गत वर्ष इसी अवधि में औसत वर्षा 1433.2 मिलीमीटर थी। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1148.4 मिलीमीटर है। अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 01 जून से 07 अक्टूबर 2021 तक जिले के वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 909.9 मिलीमीटर,  श्यामपुर में 944.9, आष्टा में 911.0,  जावर में 849.0,  इछावर में 984.3, नसरूल्लागंज में 965.0,  बुधनी में 1115.0, रेहटी में 1110.4 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।

बीते 24 घंटे में 5.5 मिलीमीटर औसत वर्षा
जिले में बीते 24 घंटे में प्रात: 08 बजे तक 0.0 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 0.0 मिलीमीटर, श्यामपुर में 0.0, आष्टा में 0.0,  जावर में 0.0,  इछावर में 0.0, नसरूल्लागंज में 1.0,  बुधनी में 0.0, रेहटी में 0.0 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।


क्यूआर कोड एप - मतदाता जान सकेंगे कई तरह की जानकारी


वोटर हेल्प लाइन एप मतदाताओं के लिये मतदाता सूची में अपना नाम खोजने, मतदाता पंजीकरण और संशोधन के लिये फार्म जमा करने, उनकी डिजिटल मतदाता पर्ची डाउनलोड करने, शिकायत करने, चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के बारे में विवरण खोजने और सबसे महत्वपूर्ण चुनाव के समय परिणाम देखने के लिये व्यापक एप है। वोटर हेल्पलाइन एप भारत के चुनाव आयोग का सबसे महत्वपूर्ण मोबाईल एप है। एप में क्यूआर कोड के जरिए मतदान केन्द्रों की तलाशी काफी आसान और तेज हो गई है। फोटो मतदाता पर्ची में क्यूआर कोड होता है। जिसमें मतदान अधिकारियों द्वारा मतदान केन्द्र में स्केन किया जाता है। अब मतदाता अपनी डिजिटल फोटो, मतदाता पर्ची वोटर हेल्पलाइन मोबाईल एप से भी डाउनलोड कर सकते है। डिजिटल फोटो मतदाता पर्ची को भौतिक मतदाता पर्ची के बजाय मतदान केन्द्र पर दिखाया जा सकता है। संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को निर्देश दिए है कि वे स्थानीय स्तर पर प्रेस विज्ञप्ति जारी कर जिलों के प्रत्येक मतदाता को भारत निर्वाचन आयोग के मोबाईल एप वोटर हेल्पलाइन डाउनलोड करने के लिये व्यापक प्रचार-प्रसार करें।



छात्रवृत्ति पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 08 अक्टूबर



शिक्षा सत्र 2020-21 में छात्रवृत्ति पोर्टल पर छात्रवृत्ति के लिये आवेदन करने से वंचित विद्यार्थियों के लिए पुन: पोर्टल खोला जा रहा है। अनुसूचित जाति तथा जनजाति विभाग द्वारा ऑनलाइन आवेदन प्राप्त कर पात्र विद्यार्थियों को उनके बैंक खाते में छात्रवृत्ति की राशि जारी की जाती है। पात्र वंचित विद्यार्थी अब 08 अक्टूबर तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। अनुसूचित जाति एवं जनजाति कार्य विभाग ने सभी शिक्षण संस्थाओं के प्राचार्यों एवं छात्रवृत्ति के नोडल अधिकारियों को छूटे हुये विद्यार्थियों को इस संबंध में जानकारी देकर उनके आवेदन दर्ज कराने के निर्देश दिये हैं।



पर्यावरण प्रबंधन पी.जी. डिप्लोमा कोर्स के लिए आवेदन आमंत्रित


एप्को इंस्टीट्यूट ऑफ एनवायरमेंटल स्टडीज द्वारा एक वर्षीय पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन एनवायरमेंट मैनेजमेंट पाठ्यक्रम 2021-22 के लिये 25 अक्टूबर, 2021 तक आवेदन आमंत्रित किये गये हैं। सामान्य श्रेणी के आवेदक का स्नातक स्तर पर 50 प्रतिशत और आरक्षित वर्ग का 45 प्रतिशत के साथ उत्तीर्ण होना आवश्यक है। आवेदक की आयु 31 दिसम्बर, 2021 तक 45 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिये। सामान्य वर्ग के आवेदक के लिये पाठ्यक्रम शुल्क 25 हजार और आरक्षित वर्ग के लिये 15 हजार निर्धारित की गई है। आवेदन-पत्र के साथ एक हजार रुपये का शुल्क जमा कराना होगा। पाठ्यक्रम की विस्तृत जानकारी के लिये www.epco.mp.gov.in या www.climatechange.mp.gov.in पर विजिट कर सकते हैं।



दिव्यांग छात्रवृत्ति के लिये कर सकते हैं आनलाइन पंजीयन


जिले के शत-प्रतिशत दिव्यांग छात्र, छात्राओं को भारत सरकार की दिव्यांग छात्रवृत्ति की योजना से लाभान्वित किये जाने का लक्ष्य अनुरूप आनलाइन आवेदन प्रक्रिया प्रारम्भ हो गई है। संयुक्त संचालक, सामाजिक न्याय ने बताया कि सत्र 2021-22 हेतु जिले के समस्त शासकीय, अशासकीय विद्यालयों एवं महाविद्यालयों में अध्ययनरत दिव्यांग छात्र, छात्राओं को प्राप्त होने वाली प्री-मैट्रिक (कक्षा 9वीं एवं 10वीं), पोस्ट  मैट्रिक (कक्षा 11वीं एवं 12वीं) एवं स्नातक, स्नातकोत्तर एंव अन्य सभी उच्च शिक्षा पाठयक्रम के छात्र, छात्राऐं के छात्रवृत्ति आवेदन  के लिए ऑनलाइन पंजीयन गत 18 अगस्त 2021 से प्रांरभ कर दिये गये है। आवेदक एवं शैक्षणिक संस्थाओं द्वारा भारत सरकार सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्रालय के राष्ट्रीय छात्रवृत्ति के http:www.scholarships.gov.in  पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन किये जाने की अंतिम तिथि प्री-मैट्रिक हेतु 15 नवम्बर 2021 तथा पोस्ट मैट्रिक एवं स्नातक, स्नातकोत्तर एंव अन्य सभी उच्च शिक्षा पाठयक्रम हेतु 30 नवम्बर 2021 निर्धारित की गई है। संबंधित संस्था द्वारा ऑनलाइन आवेदन सत्यापन करने की अंतिम तिथि 15 दिसम्बर 2021 निर्धारित है।


अस्थाई कनेक्शन लेकर ही झांकी-पंडाल की सज्जा करें, अस्थाई कनेक्शन के लिये लागू घरेलू दर पर मिलेगा कनेक्शन


दुर्गोत्सव त्यौहार तथा अन्य त्यौहारों में पंडालों को अस्थायी कनेक्शन देने के लिए मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने माकूल प्रबंध किए हैं। कंपनी ने धार्मिक उत्सव समितियों और बिजली उपभोक्ताओं से अपील की है कि वे दुर्गोत्सव के दौरान धार्मिक पण्डालों एवं झॉंकियों में बिजली साज-सज्जा, नियमानुसार अस्थाई कनेक्शन लेकर ही करें। अस्थाई कनेक्शन लेने के लिये कंपनी की वेबसाइट portal.mpcz.in अथवा  UPAY App  के माध्यम से सही, संयोजित विद्युत भार को दर्शाते हुए ऑनलाइन आवेदन करें। लायसेंसी विद्युत ठेकेदार की टेस्ट रिपोर्ट आवेदन में संलग्न करें एवं वायरिंग इत्यादि लायसेंसधारी विद्युत ठेकेदार से ही करवाएं। आवेदन में दर्शाए अनुसार विद्युत भार के अनुरूप सुरक्षा निधि एवं अनुमानित विद्युत उपभोग की राशि अग्रिम जमा कराकर बिजली कंपनी से अस्थाई कनेक्शन की रसीद अवश्य लें। रसीद की लेमीनेटेड प्रति अनिवार्य रूप से पंडाल/झॉंकी के सामने लगाएं। आवेदित विद्युत भार से अधिक भार का उपयोग विद्युत साज-सज्जा के लिए न करें। विद्युत कनेक्शन मीटरीकृत होगा एवं विद्युत देयक की बिलिंग नियमानुसार अस्थायी कनेक्शन हेतु लागू घरेलू दर पर की जाएगी। झांकियों के निर्माण एवं विद्युत साज-सज्जा में सुरक्षा नियमों का अनिवार्य रूप से पालन करें। अनधिकृत तरीके से विद्युत का उपयोग न करें।  

अस्थाई कनेक्शन न लेने से होने वाले नुकसान
अस्थाई कनेक्शन नहीं लेने के कारण अधिक भार से ट्रांसफार्मर के जलने की संभावना तथा दुर्घटना की आशंका रहती है। अनधिकृत विद्युत उपयोग करने पर इलेक्ट्रिसिटी एक्ट-2003 के तहत उपयोगकर्ता एवं जिस विद्युत ठेकेदार से कार्य कराया गया है, उनके विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जा सकती है।अनधिकृत विद्युत उपयोग की दशा में संबंधित विद्युत ठेकेदार के लायसेंस निरस्तीकरण की कार्यवाही।



बुखार आने पर तत्काल स्वास्थ्य केन्द्र में जांच कराएं , डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया से बचाव हेतु सावधानी बरतने की अपील


स्वास्थ्य विभाग द्वारा आमजनों से अपील की गई है कि मच्छरों से फैलने वाली बीमारियों से बचाव हेतु मच्छरों की वृद्धि रोकने अपने घर व आस-पास पानी इकट्ठा न होने दें। पात्रों में भरा पानी सप्ताह में एक बार अवश्य खाली करें, साथ ही मच्छरों से बचाव करें। सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें, इसके साथ ही पूरी अस्तीन के कपड़े पहने। मच्छर भगाने वाले साधन जैसे- क्रीम, क्वाइल, रिपलेन्ट इत्यादि का उपयोग करें। टायर, कबाड़ सामान ढंक्कर रखें इनमें पानी इकट्ठा नहीं होने दें। बुखार आने पर तत्काल स्वास्थ्य केन्द्र में जांच करायें। वर्षाकाल में जगह-जगह पानी इकट्ठा हो जाता है तथा हमारे घर व आसपास पानी के कन्टेनर व कबाड़ सामान, टायर, टंकी, गमले, मटके, गमले, कूलर आदि में जमा पानी में मच्छर अंडे देकर वृद्धि करते हैं। जिनके काटने से मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया बीमारी फैलने की संभावना होती है। ऐसे जलपात्रों में भरे पानी को सप्ताह में एक बार अवश्य खाली करें। ताकि इनमें पनप रहे मच्छर के लार्वा नष्ट हो जाए व मच्छरों की वृद्धि रुक जाए। मच्छर से फेलने वाले मलेरिया रोग में सामान्यतः बुखार, कमजोरी, हाथ पैर में दर्द, उल्टी आना जैसे लक्षण हो सकते है तथा डेंगू, चिकनगुनिया बीमारी संक्रमित व्यक्ति में सामान्यतः बुखार, सिर व आंखों में दर्द, हाथ पैर में दर्द, उल्टी आना, शरीर पर चकत्ते आना जैसे लक्षण हो सकते हैं। ऐसे में मरीज को तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में निःशुल्क खून जाँच व स्वास्थ्य परीक्षण कराना चाहिये तथा चिकित्सीय परामर्श से दवा का पूर्ण सेवन करना चाहिये। वर्षाकाल के दौरान मच्छरों से फेलने वाली वाहक जनित बीमारी मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया से बचाव के लिये फील्ड में कार्यरत अमला ग्राम में लार्वा सर्वे व बुखार के रोगियों की जांच कर रहा है एवं वाहक जनित रोग- मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया से बचाव व रोकथाम हेतु लोगों को जानकारी दे रहा है।


’डीएपी उर्वरक के विकल्पों का उपयोग करने की सलाह’


संभाग के कृषक बंधुओं से किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के संयुक्त संचालक ने आग्रह किया है कि किसान बंधु डीएपी उर्वरक पर निर्भर ना रहें। उसकी जगह अन्य विकल्पों का उपयोग करें। डीएपी (डायअमोनियम फास्फेट) उर्वरक एक महत्वपूर्ण उर्वरक है जिसमें 18 प्रतिशत नाइट्रोजन तथा 46 प्रतिशत फास्फोरस होता है। किसान भाई फसलों में नाइट्रोजन तथा फास्फोरस दोनो की पूर्ति हेतु उर्वरक का उपयोग कई बार से करते आ रहे है जिससे डीएपी उपयोग के आदी हो चुके है। भारत सरकार द्वारा 12 सौ रूपए प्रति बोरी की सब्सिडी दी जा रही है। डीएपी उर्वरक की अधिकतम मात्रा विदेशों से आयात की जाती है। किसान भाई अपनी फसलों के लिए आवश्यक पौषक तत्वों की पूर्ति डीएपी के स्थान पर अन्य उर्वरकों से करनी होगी। किसान भाई डीएपी के स्थान पर नाइट्रोजन एवं फास्फोरस की पूर्ति बाजार में उपलब्ध अन्य उर्वरकों जैसे यूरिया, सिंगल सुपर फास्फेट तथा एनपीके आदि उर्वरको से पूर्ति कर सकते है।

 
15 अक्टूबर से शत-प्रतिशत क्षमता से कोचिंग और प्रशिक्षण संस्थान संचालित किये जा सकेंगे
  • कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम और बचाव के लिये नये दिशा-निर्देश जारी
  • व्यावसायिक स्तर पर वृहद स्तर के गरबा आयोजित नहीं होंगे

अपर मुख्य सचिव, गृह डॉ. राजेश राजौरा ने 6 अक्टूबर को कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम और बचाव के लिये नवीन दिशा-निर्देश जारी किये हैं। उन्होंने बताया है कि लोकसभा एवं विधानसभा उप निर्वाचन से संबंधित 8 जिलों में भारत के निर्वाचन आयोग के निर्देशों के अनुरूप जारी दिशा-निर्देश 29 सितम्बर, 2021 यथावत जारी रहेंगे। नवीन दिशा-निर्देशानुसार कोरोना गाइड-लाइन का पालन करते हुए कुछ छूट दी गई है। एसीएस डॉ. राजौरा ने बताया है कि समस्त धार्मिक/पूजा स्थलों में 50 प्रतिशत की क्षमता की सीमा तक श्रद्धालु-अनुयायी उपस्थित रह सकेंगे। सोसायटियों, कॉलोनियों, मोहल्लों में आयोजन स्थल की क्षमता के 50 प्रतिशत की सीमा तक गरबा आयोजन किया जा सकेगा। इसकी सूचना कलेक्टर को देनी होगी। व्यावसायिक स्तर पर वृहद स्वरूप के गरबा आयोजनों की अनुमति नहीं होगी। रावण दहन के पूर्व परम्परागत श्रीराम चल-समारोह प्रतीकात्मक रूप से अनुमत्य होगा। रामलीला तथा रावण दहन कार्यक्रम खुले मैदान में फेसमॉस्क तथा सोशल डिस्टेंसिंग की शर्त पर कलेक्टर की पूर्व अनुमति से आयोजन समिति द्वारा किये जा सकेंगे। यहाँ मैदान की क्षमता के 50 प्रतिशत तक की अनुमति होगी। रावण दहन के वृहद आयोजन, जिसका स्वरूप मेले समान होता है, की अनुमति नहीं होगी। एसीएस डॉ. राजौरा ने बताया है कि समस्त कोचिंग एवं प्रशिक्षण संस्थान, जिम, फिटनेस सेंटर, योगा केन्द्र 15 अक्टूबर, 2021 से शत-प्रतिशत क्षमता के साथ संचालित हो सकेंगे। सिनेमाघर एवं थियेटर कुल क्षमता के 50 प्रतिशत की सीमा तक संचालित किये जा सकेंगे। आयोजकों को कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित कराना बंधनकारी होगा। उन्होंने बताया कि समस्त खेलकूद के स्टेडियम एवं स्वीमिंग पूल खुल सकेंगे तथा खेल आयोजनों में स्टेडियम दर्शक दीर्घा में क्षमता के 50 प्रतिशत दर्शक शामिल हो सकेंगे। समस्त रेस्टॉरेंट एवं क्लब 100 प्रतिशत क्षमता से कोविड-19 प्रोटोकॉल की शर्त का पालन करते हुए खुल सकेंगे। एसीएस डॉ. राजौरा ने बताया कि युवा आयोजनों में दोनों पक्षों के अधिकतम 300 अतिथि/व्यक्ति शामिल हो सकेंगे। कोरोना प्रोटोकॉल का पालन आयोजकों द्वारा सुनिश्चित कराया जायेगा। अंतिम संस्कार में अधिकतम 200 लोगों की उपस्थिति की अनुमति रहेगी। राज्य में तथा अंतर्राज्यीय आवागमन और परिवहन सेवाएँ निर्बाध जारी रहेंगी। डॉ. राजौरा ने बताया है कि समस्त प्रकार की दुकानें, व्यवसायिक प्रतिष्ठान, निजी कार्यालय, शॉपिंग मॉल, जिम अपने नियत समय तक खुल सकेंगे। समस्त वृहद, मध्यम, लघु एवं सूक्ष्म उद्योग अपनी पूर्ण क्षमता पर कार्य कर सकेंगे तथा निर्माण गतिविधियाँ सतत चल सकेंगी। पूरे प्रदेश के समस्त नगरीय क्षेत्रों में रात्रि 11 से प्रात: 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू जारी रहेगा। अनुमति प्राप्त आयोजनों, समारोह में डीजे, बैण्ड-बाजे की रात्रि 10 बजे तक सर्वोच्च न्यायालय के जारी आदेशों के अधीन उपयोग की अनुमति रहेगी। डॉ. राजौरा ने बताया है कि उक्त निर्देश तत्काल प्रभाव से आगामी आदेश तक प्रभावशील रहेंगे। उन्होंने सभी कलेक्टर्स को जिला आपदा प्रबंधन समिति से परामर्श कर आदेश जारी करने और निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराने को कहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: