बिहार : स्टार प्रचारक में मां और दीदी का नाम नहीं रहने पर भड़के तेजप्रताप - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 8 अक्तूबर 2021

बिहार : स्टार प्रचारक में मां और दीदी का नाम नहीं रहने पर भड़के तेजप्रताप

tejpratap-angry-on-star-caimpaner-list
पटना : लालू प्रसाद यादव की पार्टी राजद में उठी अंदरूनी आग कम होने का नाम नहीं ले रही है। लालू के दोनों बेटे एक दूसरे पर लगातार कड़ा प्राण हार्ड कर रहे हैं। जहां तेजस्वी यादव द्वारा तेजप्रताप को धीरे – धीरे किनारा किया जा रहा है, तो वहीं तेजप्रताप द्वारा भी इशारों – इशारों में पार्टी और छोटे भाई पर हमला बोला जा रहा है। इसी कड़ी में अब बड़े भाई द्वारा खुद को पार्टी के स्टार प्रचारकों की सूची से बाहर करने को लेकर हमला बोला गया है। राजद पार्टी के विधायक तेजप्रताप यादव ने ट्वीट कर पार्टी पर गहरा आरोप लगाया है, उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है कि “राजद के स्टार प्रचारकों की सूची में मेरा नाम रहता ना रहता मां और दीदी का नाम रहना चाहिए था… इस गलती के लिए बिहार की महिलाएं कभी माफ नहीं करेगीं, दशहरा में हम मां की ही अराधना करतें हैं ना जी…” इसके साथ ही उन्होंने अपने ट्वीट में एक कविता भी लिखा है, उन्होंने लिखा है-ऐ अँधेरे देख ले मुँह तेरा काला हो गया माँ ने आँखें खोल दीं घर में उजाला हो गया… हालंकि इस ट्वीट में उन्होंने अपने छोटे भाई का नाम नहीं लिया है लेकिन उन्होंने यह कविता किसेके लिए लिखा है ये हर कोई समझ रहा है।


गौरतलब है कि इससे पहले तेजप्रताप यादव तेजस्वी यादव की अध्यक्षता में बुलाए गए राजद विधायक की मीटिंग में भी शामिल नहीं हुए। राजद नेताओं द्वारा जब उनकी गैर मौजूदगी को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि वह बिहार से बाहर है अगले ही पल तेजप्रताप यादव पशुपति कुमार पारस द्वारा राजधानी पटना स्तिथ लोजपा कार्यालय में आयोजित रामविलास पासवान की श्रद्धांजलि सभा में मौजूद नजर आए। दरअसल, लालू परिवार में उठे इस अंदुरूणी कलह की मुख्य वजह तेजप्रताप द्वारा लालू को लेकर दिया गया बयान है जिसमें उन्होंने कहा था कि लालू यादव को दिल्‍ली में बंधक बनाकर रखा गया है। उन्होंने आरोप लगाया था कि राजद का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने का सपना देखने वाले लोग लालू यादव को दिल्ली से पटना वापस नहीं आने दे रहे हैं। उन्हें राष्‍ट्रीय राजधानी में ही कैद करके रखा गया है। पटना में लालू यादव जिस घर में रहते थे, उसके दरवाजे हमेशा खुले रहते थे। अब उस घर का दरवाजा हमेशा बंद रहता है। घर के बाहर रस्‍सी लगा दी जाती है। वहीं, तेजप्रताप के इस बयान के बाद राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा था कि तेजप्रताप खुद ही राजद से बाहर हो चुके हैं। तेजप्रताप यादव अपना संगठन बना चुके हैं औऱ इसलिए वे राजद से स्वतः निष्कासित हो चुके हैं। वहीं, शिवानंद तिवारी के इस बयान का राजद की ओर से कोई खंडन भी नहीं आया लिहाजा ये तय हो गया कि लालू-राबड़ी परिवार की लड़ाई निर्णायक मोड़ पर पहुंच गयी है।

कोई टिप्पणी नहीं: