अमेरिका में बच्चों के लिए फाइजर टीके की कम मात्रा में खुराक की अनुशंसा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 27 अक्तूबर 2021

अमेरिका में बच्चों के लिए फाइजर टीके की कम मात्रा में खुराक की अनुशंसा

usa-approve-pfize-vaccine-small-dose-for-children
वाशिंगटन, 27 अक्टूबर, अमेरिका लाखों बच्चों के कोविड-19 टीकाकरण की दिशा में एक कदम और आगे बढ़ गया है क्योंकि सरकार के सलाहकारों की एक समिति ने पांच से 11 साल के बच्चों के लिए फाइजर टीके की कम मात्रा की खुराक को मंगलवार को मंजूरी दे दी है। खाद्य और औषधि प्रशासन (एफडीए) की सलाहकार समिति ने सर्वसम्मति से टीके को मंजूरी दे दी। समिति का एक सदस्य बैठक में अनुपस्थित था। समिति ने कहा कि बच्चों में किसी खास तरह के खतरे की आशंका नहीं है और खुराक की मात्रा बढ़ाए जाने पर भी किशोरों में हृदय संबंधी दुष्प्रभाव के मामले बहुत दुर्लभ हैं। वयस्कों की तुलना में बच्चों को कोरोना वायरस के गंभीर संक्रमण का खतरा बहुत कम है लेकिन समिति के सदस्यों ने इसका निर्णय लेने का अधिकार अभिभावकों पर छोड़ने का फैसला किया कि क्या वे अपने बच्चों को टीका दिलवाना चाहते हैं। एफडीए के सलाहकार और अरकंसास विश्वविद्यालय से जुड़े जीनेट ली ने कहा, ‘‘वायरस कहीं नहीं जा रहा। हमें इसके साथ ही जीना होगा और मुझे लगता है कि टीके ने इसकी राह दिखाई है।’’ समिति के सलाहकार और हार्वर्ड विश्वविद्यालय से जुड़े डॉ एरिक रूबिन ने कहा कि यह कोई अंतिम निर्णय नहीं है। टीका दिए जाने पर ही पता चलेगा कि यह कितना सुरक्षित है। एफडीए, समिति की सिफारिशों को स्वीकार करने के लिए बाध्य नहीं है और संभावना है कि वह अगले कुछ दिनों में इस पर फैसला करेगा। एफडीए से बच्चों के लिए अनुकूल खुराक की अनुमति मिल जाने पर रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसीपी) टीके की अनुशंसा का फैसला करेगा। फाइजर-बायोएनटेक के टीके को 12 और उससे ज्यादा वर्ष के लोगों को दिए जाने की अनुमति पहले ही मिल चुकी है लेकिन लोगों का मानना है कि छोटे बच्चों का भी बचाव जरूरी है। कोरोना वायरस के डेल्टा स्वरूप के कारण भी बच्चों के संक्रमित होने की आाशंका है।

कोई टिप्पणी नहीं: