सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 20 नवम्बर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 20 नवंबर 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 20 नवम्बर

शोभा कलश यात्रा के साथ आज से शुरू होगा, पद्मकुंड यज्ञ, प्रतिमाओं की होगी प्राण प्रतिष्ठा

  • गीता मानस समिति के द्वारा आज निकाली जाएगी भव्य शोभा कलश यात्रा

sehore news
सीहोर। गीता मानस समिति के द्वारा रविवार को भव्य शोभा कलश यात्रा गीता भवन परिसर से सुबह शुरू की जाएगी। शोभा कलश यात्रा जयंती कॉलोनी, पल्टन ऐरिया, पार्वती कॉलोनी सहित प्रमुख मांर्गो से होती हूंई यज्ञशाला स्थल गीता भवन परिसर पहुंचेगी। कलश शोभा यात्रा का अनेक स्थानों पर श्रद्धालु नागरिकों के द्वारा पुष्प वर्षा कर स्वागत किए जाने की तैयारी की गई है। गीता मानस समिति के तत्वाधान में बस स्टेण्ड के पास स्थित गीता मानस परिसर में नव निर्मित राधा-कृष्ण मंदिर, शिव परिवार हनुमान जी शीतला माता की प्रतिमाओं की प्राण प्रतिष्ठा नवनिर्मित मंदिर में की जाएगी। नगर पुरोहित पं.पृथ्वी वल्लभ दुबे के मार्गदर्शन में ग्यारह बा्रहम्णों के द्वारा 25 नवम्बर तक विधिवत पूजा अर्चना की जाएगी। इसी दिन पूर्णाहुूति के साथ महाआरती एवं प्रसाद वितरण किया जाएगा। गीता मानस समिति अध्यक्ष प्रदीप बिजोरिया, विष्णु भरतिया, मोहन चौरसिया, बाबू भाई मिस्त्री, चद्रभान यादव, सत्यनारायण शर्मा, राजमल गेहलोत, शिवनारायण मेवाड़ा, जी.डी.उपाध्याय, गोपाल शर्मा, एस.डी.सक्सेना, कीर्तिपाल परमार, परलीकरजी, राजेन्द्र राठौर बल्लु पालीवाल हरिशचंद अग्रवाल, बाबू भाई मिस्त्री,गोपालदास अग्रवाल, रवि ठकराल, दशरथ लाल शर्मा, राजमल गेहलोत, प्रेमनारायण लोवानिया, वी. पी. तिवारी, सुरेशचंद वशिष्ट, रामेश्वर दयाल शर्मा, डॉ. कैलाश अग्रवाल, श्यामसुन्दर मोदी,अरविंद मरखेडकर,राजेन्द्र जायसवाल, नंदकिशोर जायसवाल, एस.पी.मालवीय, हरिओम उपाध्याय, कमल विजयवर्गीय, ओमदत्त मिश्रा, रामशरण ठकराल, एस. डी. सक्सेना राजू जायसवाल,कन्हैयालाल मालवीय विनय भटेले के द्वारा कलश शोभायात्रा में शामिल होने की अपील नागरिकों से की गई है।


सात दिवसीय दिव्य यज्ञ में श्रद्धालुओं ने दी आहुतियां और यजमानों ने  की परिक्रमा


sehore news
सीहोर। कार्तिक मास के पावन अवसर पर राधा कृष्ण महिला मंडल के तत्वाधान में जारी श्री अष्ट लक्ष्मी अर्चना एवं दिव्य यज्ञ में वैदिक मंत्रों के उच्चारण के साथ देवी- देवताओं का आह्वान व पूजन किया गया तथा आहुतियां दी गईं। यज्ञ में सपत्नीक यजमानों ने भाग लिया। श्रद्धालुओं ने यज्ञ शाला की परिक्रमा की। इस संबंध में जानकारी देते हुए पंडित मयंक शर्मा ने बताया कि हर साल की तरह इस साल भी कार्तिक मास में महिला मंडल के तत्वाधान में सात दिवसीय दिव्य अनुष्ठान कराया गया था। दिव्य आयोजन के पहले दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने कलश यात्रा से इसकी शुरूआत की थी। वहीं अंतिम दिन सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालुओं ने अंतिम दिन आहुतियां दी। इस मौके पर पंडित पवन व्यास और मनोहर शर्मा आदि उपस्थित थे। इस मौके पर श्री शर्मा ने कहा कि सुख-शांति एवं समृद्धि हेतु नियमित यज्ञ करना चाहिए, यज्ञ से उत्पन्न दिव्य ऊर्जा से शारीरिक व मानसिक व आत्मिक शुद्धि होती है। यह विज्ञान ने भी माना है यज्ञ से पर्यावरण पूरी तरह से शुद्ध होता है। यज्ञ ऊर्जा से हानिकारक व जहरीले बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं और संक्रमण जन्य रोगों से शीघ्र मुक्ति मिलती है। इससे प्राणवायु शुद्ध होती है, वायु शोधन हेतु यज्ञ अति आवश्यक है वसुदेव कुटुंबकम अर्थात समस्त पृथ्वी हमारा परिवार है, को मानते हुए हमें अपने-अपने घरों में हवन यज्ञ करने चाहिए। हवन यज्ञ संसार का मूल है। सर्वमान्य सर्वश्रेष्ठ माना गया है। पर्यावरण का उपचार यज्ञ द्वारा ही संभव है। यज्ञ से उत्पन्न ऊर्जा ऑक्सीजन से भी ज्यादा लाभकारी व स्वास्थ्यवर्धक है। यज्ञ से उत्पन्न दिव्य ऊर्जा नकारात्मक उर्जा नष्ट करती है और सकारात्मक ऊर्जा का उत्सर्जन होता है ब्रह्मांड की शुद्धता हेतु व जलवायु वनस्पति के शोधन में यज्ञ का महत्वपूर्ण स्थान है। क्षेत्र की सुख-समृद्धि के लिए मंदिर में महिला मंडल के तत्वाधान में आयोजन किया गया था। दिव्य कार्यक्रम की शुरूआत में कुमकुम अर्चना, उसके पश्चात विल्प पत्र से अर्चना, हल्दी गठान अर्चना, तुलसी अर्चना, द्रव्य अर्चना, पुष्प अर्चना और अंतिम दिवस कमल दल अर्चना के साथ की गई थी। मंदिर में छप्पन भोग लगाकर गिरिराज की पूजा अर्चना के पश्चात हवन का आयोजन भी किया गया। 


सिराली सनकोटा मार्ग बनने से 32 किलोमीटर की यात्रा कम हो जाएगी, व्यापार, व्यवसाय, स्वास्थ्य, शिक्षा का होगा विस्तार


sehore news
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्राम सिराली में सिराली-सनकोटा मार्ग का भूमिपूजन किया। यह मार्ग 13 करोड़ 5 लाख 91 हजार रूपये की लागत से बनेगा। इस मार्ग के बन जाने से सिराली और आसपास के लोगो को 32 किलोमीटर की यात्रा कम करनी पड़ेगी। जिला मुख्यालय से दूरी कम होने के कारण आवागमन सुगम होगा। पहले सिराली के लोगो को कोसमी पहुँचने के लिए पिपलानी, नयापुरा, सिंहपुर होते हुए 32 किलोमीटर की यात्रा अधिक करनी पड़ती थी। सिराली के लोगो की परेशानियों को दृष्टिगत रखते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस मार्ग को स्वीकृत किया। इस मार्ग के बन जाने के पश्चात व्यापार, व्यवसाय, शिक्षा के लिए लोगो का आना- जाना सुविधाजनक होगा। इसी तरह पिपलानी से आमलापानी सड़क बनने के बाद से इस क्षेत्र के लोगो को इसका लाभ मिलेगा।


गांव के हर घर,  हर खेत तक पहुंचाएंगे पानी - मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्राम सिरौली में 23 करोड़ 75 लाख रुपए के निर्माण कार्यों का किया भूमिपूजन  कई निर्माण कार्यों का किया भूमिपूजन

sehore news
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्राम सिराली में आयोजित कार्यक्रम में 23 करोड़ 75 लाख रूपये की लागत से अनेक निर्माण कार्यों का भूमिपूजन किया। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के साथ ही इस क्षेत्र के विकास कोई कोर-कसर नहीं छोडूंगा। उन्होनें कहा कि हमने कोरोनाकाल में लोगों के इलाज के लिए समुचित व्यवस्था की एवं मैंने पूरी कोशिश की कोविड से किसी की जान न जाएं। श्री चौहान ने कहा कि कोविड के काल के बाद प्रदेश के विकास को गति दी है। पूरे प्रदेश में सड़कें, सिंचाई, स्वास्थ्य, शिक्षा, पेयजल से जुड़ी अनेक योजनाओं पर काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि सिराली क्षेत्र के किसानों के खेतों तक पानी पहुँचाने की योजना पर भी काम चल रहा है। श्री चौहान ने कहा कि मेरा पूरा प्रयास है कि हर गाँव में सिचाई के लिए पानी पहुँचे और पेयजल योजनाओं के माध्यम से हर गाँव, हर घर तक नल से पानी पहुँचे। उन्होनें बताया कि किसानों को सिचाई के लिए बिजली बिल में राहत देने के लिए 53 हजार रूपये सरकार द्वारा भुगतान किया जाता है। जबकि किसान को केवल 3600 रूपये बिजली बिल जमा करना होता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमने किसानों के लिए किसान सम्मान निधि योजना बनाई जिसके तहत प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 6 हजार रूपये और प्रदेश सरकार द्वारा 4 हजार रूपये दिए जा रहे है। उन्होने कहा कि इस क्षेत्र के बच्चे पढ़ाई करे और आगे बढ़े इसके लिए मेडिकल एवं तकनीकी संस्थानों में प्रवेश लेने पर पूरी फीस प्रदेश सरकार देगी।  


इन निर्माण कार्यों का किया भूमिपूजन

उन्होंने सिराली गाँव के लिए सिराली से सनकोटा तक 7.5 किलोमीटर मार्ग के लिए 13 करोड़ 5 लाख 91 हजार रूपये स्वीकृत किए है। इसी तरह पिपलानी से आमलापानी तक 6 किलोमीटर मार्ग के लिए 9 करोड़ 96 लाख 92 हजार रूपये की राशि स्वीकृत की है। इन दोनों मार्गों के बन जाने से क्षेत्र के लोगो को आवागमन में सुविधा होगी और समय भी बचेगा। श्री चौहान ने कहा कि सिराली के निवासी अन्य सामाजिक, धार्मिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन कर सके इसके लिए सामुदायिक भवन का निर्माण 12 लाख रूपये की लागत से किया जाएगा। उन्होनें सिराली गाँव के बच्चों के खेलने के लिए 03 लाख 20 हजार रूपये खेल मैदान के लिए स्वीकृत किए। आँगनबाड़ी भवन के लिए 9 लाख 50 हजार रूपये की स्वीकृति दी। सिराली के किसानों के खेतों को समतल करने के लिए खेत, सड़क, मेढ़ बंधन के लिए 57 लाख 34 हजार रूपये की राशि स्वीकृत की। मिडिल स्कूल के नए भवन के लिए 24 लाख 72 हजार, प्राईमरी भवन के लिए 20 लाख 50 हजार रूपये, गाँव में पाइपलाइन द्वारा पेयजल के लिए 15 लाख रूपये स्वीकृत किए गए है।मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इन सब कामों के पूरा होने के बाद गाँव के लोगो को बेहतर सुविधाएँ मिलने लगेगी।


बारेला समुदाय के श्रीराम बारेला के घर मुख्यमंत्री ने किया भोजन

सिराली गाँव में जनजातीय समुदाय के श्रीराम बारेला के घर पहुँचकर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भोजन किया। श्रीराम बारेला ने कहा कि हम मुख्यमंत्री की सहजता और सरलता के  कायल हैं। वे हमें अपने परिवार के सदस्य की तरह ही लगे। सांसद श्री रमाकांत भार्गव, पूर्व जनपद अध्यक्ष निर्मला बारेला तथा प्रेम बारेला ने भी कार्यक्रम में संबोधित किया। कार्यक्रम में गुरु प्रसाद शर्मा, राजेंद्र सिंह राजपूत, महेश उपाध्याय, भाजपा जिला अध्यक्ष रवि मालवीय, सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला, वर्तमान में कोरोना एक्टिव पॉजिटिव की संख्या शून्य


पिछले 24 घंटे के दौरान प्राप्त रिपोर्ट में जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में अब तक कुल कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या 10143  है। वर्तमान में एक्टिव पॉजिटिव शून्य हो गई हैं। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 10021 हैं। आज 312 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 123, श्यामपुर से 81, नसरूल्लागंज 20, आष्टा से 80, तथा बुधनी से 08 सैंपल लिए गए हैं। अभी तक कुल जांच के लिए भेजे गए सैंपल 298325 हैं। जिनमें से 286538 सैंपलों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। आज434 सैंपलो की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1573 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथोलॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है।


कक्षा 10वीं एवं 12वीं की परीक्षाएं 12 फरवरी से                                                                                                                                                                    

माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा परीक्षा वर्ष 2021-22 के लिए 10वीं, 12वीं, व्यावसायिक विद्यालय पूर्व शिक्षा में डिप्लोमा (DPSE) और शारीरिक शिक्षा प्रशिक्षण पत्रोपाधि की सैद्धांतिक और प्रायोगिक परीक्षा 12 फरवरी 2022 से आयोजित की जायेगी। संयुक्त संचालक लोक शिक्षण ने बताया कि सैद्धांतिक परीक्षा 20 मार्च 2022 तक और प्रायोगिक परीक्षा 31 मार्च 2022 तक आयोजित की जायेगी। लोक स्वास्थ्य एवं लोकहित में वर्ष 2019 और 2020 में नोबल कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण के दृष्टिगत परीक्षाओं का आयोजन किया जा रहा है।


पीएम स्वनिधि योजना में 101.60 प्रतिशत उपलब्धि अर्जित कर मध्यप्रदेश देश में अव्वल


प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना में  101.60 प्रतिशत उपलब्धि अर्जित कर मध्यप्रदेश देश में अव्वल है। केन्द्रीय आवास और शहरी मंत्रालय द्वारा इस योजना में मध्यप्रदेश को वर्ष 2021-22 के लिए 4 लाख 5 हजार पथ-विक्रेताओं को लाभान्वित करने का लक्ष्य दिया गया था। लक्ष्य के विरूद्ध मध्यप्रदेश में 04 लाख 11 हजार 481 पथ-विक्रेताओं को 10-10 हजार रूपये ब्याज रहित ऋण वितरित किया जा चुका है। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा है कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के प्रथम चरण के साथ ही द्वितीय चरण में भी मध्यप्रदेश नंबर एक है। उन्होंने कहा है कि समय पर 10 हजार रुपये का ऋण चुकाने वाले पथ-विक्रेताओं को 20 हजार और फिर 50 हजार रूपये का ऋण स्वीकृत करने का प्रावधान योजना में है। आयुक्त नगरीय प्रशासन और विकास श्री निकुंज कुमार श्रीवास्तव ने बताया है कि प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के क्रियान्वयन में देश में तेलंगाना द्वितीय,  उत्तर प्रदेश तृतीय,  आंध्र प्रदेश चतुर्थ,  कर्नाटक पाँचवें और छत्तीसगढ़ छठवें स्थान पर है।


प्रदेश के सभी विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय में शैक्षणिक गतिविधियाँ प्रारंभ             


प्रदेश के समस्त विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में सत्र 2021-22 की शैक्षणिक गतिविधियाँ गुरुवार से विद्यार्थियों की भौतिक रूप से उपस्थिति के साथ प्रारंभ हो गई हैं। उच्च शिक्षा विभाग द्वारा इस संबंध में आदेश जारी किया गया है। विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों के पूरी क्षमता से खुलने पर ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन बंद होगा। ऑफलाइन कक्षाओं का संचालन कर शत-प्रतिशत क्षमता के साथ पुस्तकालय एवं स्नातक, स्नातकोत्तर सभी कक्षाओं के लिए छात्रावास और मेस की व्यवस्था भी सुचारु रुप से चालू होगी। कोरोना वायरस संक्रमण एवं बचाव के लिए विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों तथा छात्रावासों में 18 वर्ष से अधिक आयु के छात्र-छात्राओं एवं समस्त स्टाफ को वैक्सीन के दोनों डोज़ लगाना अनिवार्य होगा। केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा प्रथम चरण में प्रदेश के 45 से अधिक  और 18 से अधिक आयु वर्ग के नागरिकों को वैक्सीन लगवाने के निर्देश हैं। ऐसे शैक्षणिक कर्मचारी तथा छात्र-छात्राएं जिनके द्वारा दोनों टीके नहीं लगाए गए हैं, प्राचार्य द्वारा उन्हें दोनों टीके लगवाया जाना सुनिश्चित किया जाएगा। जो विद्यार्थी 18 नवंबर 2021 को 18 वर्ष की आयु पूर्ण नहीं किए, ऐसे विद्यार्थियों को टीकाकरण ना होने की स्थिति में महाविद्यालय आने की अनुमति होगी।


मध्यप्रदेश को जल जीवन मिशन में केन्द्र से मिले 1279 करोड़ रूपये, सेकन्ड ट्रेन्च लेने वाला पहला राज्य बना मध्यप्रदेश


भारत सरकार के जल-शक्ति मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय जल जीवन मिशन में मध्यप्रदेश को सेकन्ड ट्रेन्च में 1279 करोड़ 19 लाख रूपये आवंटित किए हैं। उल्लेखनीय है कि कार्य की प्रगति और धनराशि के उपयोग के आधार पर वित्तीय वर्ष 2021-22 में सेकन्ड ट्रेन्च में अनुदान प्राप्त करने वाला मध्यप्रदेश पहला राज्य है। देश के अन्य किसी राज्य को अभी तक जल जीवन मिशन में सेकन्ड ट्रेन्च राशि आवंटित नही हुई है। मई 2021 में प्राप्त फर्स्ट ट्रेन्च की राशि और राज्य सरकार द्वारा समान अंशदान सम्मिलित कर मिशन के कार्यों का संचालन किया जा रहा है। मध्यप्रदेश ने फर्स्ट ट्रेन्च और राज्य सरकार के समान अंशदान की 80 प्रतिशत राशि व्यय किए जाने के फलस्वरूप केन्द्र सरकार से सेकन्ड ट्रेन्च में राशि उपलब्ध हुई है। ग्रामीण आबादी के हर परिवार को नल कनेक्शन के माध्यम से जल उपलब्ध कराने के कार्य जल जीवन मिशन में किए जा रहे हैं। मध्यप्रदेश के लिए जल जीवन मिशन में केन्द्र सरकार से 5,117 करोड़ की राशि इस वित्तीय वर्ष में स्वीकृत हुई है। राज्य सरकार भी समान अंशदान शामिल कर मिशन के कार्यों को पूरा कर रही है।


खेती के क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन लाएँ : मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • किसानों की आय बढ़ाने के लिए जैविक खेती और दलहनी फसलों को बढ़ावा दें
  • आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के रोडमेप अंतर्गत अंतर्विभागीय मंत्री समूह की बैठक संपन्न

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में खेती के क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन लाने के लिए पूरी मुस्तैदी से कार्य करें। किसानों की आमदनी बढ़ाने और खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए योजनाबद्ध तरीके से प्रयास किए जाएँ। जैविक खेती एवं दलहनी फसलों के उत्पादन को बढ़ावा दिया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा  मंत्रालय में आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के रोडमेप अंतर्गत गठित मंत्री समूह की अंतर्विभागीय बैठक ली गई।


कृषि उत्पादों का अधिक निर्यात करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कृषि उत्पादों का अधिकाधिक निर्यात करने के लिए उत्पादन को बढ़ाएँ। जैविक खेती के लिए माहौल तैयार कर किसानों को प्रोत्साहित करें। फसलों के उत्पादन एवं विक्रय के लिए गंभीरता से प्रयास करें। फसलों के विविधीकरण एवं सामाजिक वानिकी जैसे माध्यमों से उत्पादन को बढ़ाया जाए।


खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए विशेषज्ञों की राय लें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए विशेषज्ञों की राय लेकर मंत्री समूह का प्रस्तुतिकरण तैयार करें। इसके बाद निर्धारित कार्य-योजना में किसानों को खेती करने के तरीकों की समझाइश दी जाए। उन्होंने कहा कि कृषि उत्पादन बढ़ाने के लिए किसानों को विकल्प उपलब्ध कराने की कार्य-योजना भी बनाई जाए। प्रदेश में सहकारी समितियों को फायदे में लाने के लिए कार्य-योजना बनाकर व्यवस्था में आवश्यक सुधार किए जाएं। सहकारी बैंकों में समिति प्रबंधकों आदि की पर्याप्त व्यवस्था की जाए। प्रदेश की इथेनॉल पॉलिसी की तरह कृषि के क्षेत्र में विभिन्न नीतियाँ तैयार कर नवाचार को बढ़ावा दिया जाए। किसान-कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल, उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण राज्य मंत्री श्री भारत सिंह कुशवाह, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।


उद्यमिता विकास केन्द्र ने निकाली 1141 वैकेंसी


मध्यप्रदेश सरकार के सूक्ष्म, लघु और मध्यम विभाग के अंतर्गत आने वाले उद्यमिता केन्द्र  के द्वारा राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान के लिए विभिन्न पदों के लिए 1141 वैकेंसी निकाली हैं। इनमें ब्लॉक, डिस्ट्रिक्ट और स्टेट लेवल के पद सम्मिलित हैं। इस वैकेंसी में उपलब्ध पदों को पाने के लिए ऑनलाइन आवेदन होना प्रारंभ हो गया है। आवेदन की अंतिम तिथि 30 नवम्बर है। ये वैकेंसी हायर सैकेंडरी, स्नातक, परास्नातक, सीए एवं सिविल इंजीनियर्स के लिए हैं। इसमें चयन की प्रक्रिया इंटरव्यू के आधार पर होगी।

कोई टिप्पणी नहीं: