आजादी का अमृत महोत्सव निबंध प्रतियोगिता के विजेताओं का सम्मान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 13 नवंबर 2021

आजादी का अमृत महोत्सव निबंध प्रतियोगिता के विजेताओं का सम्मान

amrit-mahotsav-essay-compitition
नई दिल्ली, 13 नवम्बर, लायंस क्लब नई दिल्ली अलकनंदा द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ विषयक हिंदी निबंध प्रतियोगिता के विजेताओं का सम्मान समारोह हाॅलमार्क बैंकट हाॅल में आयोजित हुआ। समारोह के मुख्य अतिथि रिजनल चेयरमैन लाॅयन इंद्रजीत सिंह ने कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव समूचे राष्ट्र के लिए गौरव की बात है। हमें इस अवसर को यादगार एवं जन-जन  की आस्था से जोड़ने की जरूरत है। लायंस क्लब नई दिल्ली अलकनंदा ने इसके लिए एक सार्थक पहल की है। लायंस क्लब नई दिल्ली अलकनंदा के अध्यक्ष लाॅयन ललित गर्ग, डिस्ट्रिक के उपाध्यक्ष द्वितीय लाॅयन प्रदीप सिंघल एवं प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कमेटी के प्रमुख लाॅयन नरेन्द्र छाबड़ा एवं लाॅयन इंद्रजीत सिंह ने इस निबंध प्रतियोगिता के विजेताओं को नकद राशि, प्रशस्ति पत्र एवं शील्ड प्रदत्त कर सम्मानित किया। विदित हो कि प्रतियोगिता में प्रथम-ऋतु मित्तल, द्वितीय-ऋचा जैन, तृतीय-प्रभात छापरिया एवं मीनाक्षी वर्मा रहे। प्रथम पुरस्कार के रूप में 5100 रुपये, द्वितीय 3100 रुपये एवं तृतीय 2100-2100 रूपये के चेक प्रदत्त किये गए। इन पुरस्कारों के प्रायोजक लाॅयन सुशील बियानी थे। क्लब के अध्यक्ष लाॅयन ललित गर्ग ने कहा कि हिंदी भाषा को प्रोत्साहन देने के लिए यह प्रतियोगिता आयोजित की गई थी। वर्तमान समय में हिंदी सबसे अधिक बोली जाने वाली दुनिया की तीसरी भाषा है। दुनिया में हिंदी भाषा की प्रतिष्ठा हो रही है जबकि देश में हिंदी की उपेक्षा देखने को मिलती है। वर्तमान सरकार से अपेक्षा है कि वह आजादी के अमृत महोत्सव पर हिंदी को राष्ट्रभाषा के रूप में प्रतिष्ठापित करे। कार्यक्रम का संयोजन लाॅयन मुनीष गुप्ता ने किया एवं आभार ज्ञापन सचिव लाॅयन अभिषेक जैन ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं: