मधुबनी : कोरोना वैक्सिनेशन ड्राइव पर डीएम ने चर्चा की - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 6 नवंबर 2021

मधुबनी : कोरोना वैक्सिनेशन ड्राइव पर डीएम ने चर्चा की

madhubani-dm-talk-on-vaccine
मधुबनी : आज दिनांक 06 नवंबर 2021 को श्री अमित कुमार, भा. प्र. से. जिला पदाधिकारी, मधुबनी के द्वारा जिले में चलाए जा रहे कोरोना वैक्सिनेशन ड्राइव को साफलीभूत करने के उद्देश्य से गूगल मीट के माध्यम से जिले के विभिन्न हिस्सों से आने वाले अल्पसंख्यक समुदाय के गणमान्य व्यक्तियों से चर्चा की गई। इस चर्चा का उद्देश्य आम जनों को कोरोना के वैक्सीन के प्रति जागरूक करना था। जिला पदाधिकारी द्वारा की गई इस पहल का उद्देश्य जिले में शत प्रतिशत वैक्सिनेशन का लक्ष्य हासिल करना है। इस कड़ी में यह देखा गया है कि जिले में नियमित रूप से टीकाकरण कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं, जिससे बड़ी संख्या में लोग वैक्सीनेट भी हुए हैं। परंतु कुछ तबका ऐसा भी है, जिसमें वैक्सिनेशन को लेकर आशंकाएं बनी हुई रहती है। इस मुद्दे पर गौर करते हुए जिलाधिकारी महोदय द्वारा यूनिसेफ जैसे संस्था की जिला इकाई को व्यापक स्तर पर जन जागरूकता अभियान चलाने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया में लक्षित समूह से संपर्क स्थापित कर उनकी आशंकाओं का समाधान करना एक कारगर विकल्प हो सकता है। जिससे वैक्सिनेशन के अभियान को सफल बनाया जा सके। इससे न केवल वैक्सीन लेने वाले व्यक्ति बल्कि पूरे परिवार और समाज की सुरक्षा की जा सकती है। जिलाधिकारी महोदय ने बताया कि जिला प्रशासन, मधुबनी जिले में पूर्ण वैक्सिनेशन का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। ऐसे में इस प्रकार के प्रयास आगे भी जारी रहेंगे और जिले के अलग अलग क्षेत्रों के लक्षित समूह अथवा टोलों से संपर्क स्थापित कर इस बात का जायजा लिया जाएगा कि उनके बीच वैक्सिनेशन की दर अपेक्षाकृत कम क्यों है। ऑनलाइन संचालित होनेवाले इस संपर्क कार्यक्रम में श्री प्रमोद कुमार झा, एस. एम. सी. यूनिसेफ द्वारा कार्यक्रम समन्वय का कार्य किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं: