दरभंगा : एम एल एकेडमी में छात्रवृत्ति एवं पारितोषिक वितरण समारोह आयोजित - - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 7 नवंबर 2021

दरभंगा : एम एल एकेडमी में छात्रवृत्ति एवं पारितोषिक वितरण समारोह आयोजित -

  • एलुमिनी मीट में पूर्ववर्ती छात्रों ने लिया विद्यालय की प्रतिष्ठा को फिर से बहाल करने का संकल्प

ml-academy-aluminy-award
लहेरियासराय/दरभंगा, एक जमाना था जब एम एल एकेडमी में दाखिला होने के बाद ना सिर्फ छात्र बल्कि उनके अभिभावक भी स्वयं को गौरवान्वित महसूस करते थे. इसके पीछे एकमात्र कारण था, यहां की उत्कृष्ट शिक्षण व्यवस्था और समय प्रबंधन के साथ कठोर अनुशासन के पालन की दीक्षा. लेकिन बदलते समय के साथ विद्यालय की गुणवत्ता में कमी आना चिंता का विषय है. यह बात एम एल एकेडमी के 1980 बैच के पूर्ववर्ती छात्र रहे बेनीपुर के विधायक डॉ विनय कुमार चौधरी ने रविवार को विद्यालय परिसर में आयोजित एम एल एकेडमी एलुमनी एसोसिएशन के तत्वावधान में आयोजित छात्रवृत्ति एवं पारितोषिक वितरण समारोह में कही. उन्होंने कहा कि इस विद्यालय का इतिहास प्रतिभा से भरा पूरा रहा है, लेकिन वर्तमान में इसकी गुणवत्ता में आई गिरावट की समीक्षा कर इसकी खोई प्रतिष्ठा को वापस दिलाने के लिए सभी को आगे आना समय की मांग है. उन्होंने स्कूल में बिताए अविस्मरणीय क्षणों को याद करते हुए शिक्षकों से अपील की कि वे लेसन प्लान आवश्यक रूप से तैयार कर बच्चों को शिक्षित करने के प्रति कृत संकल्प हों. विद्यालय के दूसरे पूर्ववर्ती छात्र रहे केवटी के विधायक डॉ मुरारी मोहन झा ने कहा कि कैरियर के विभिन्न क्षेत्रों में एम एल एकेडमी की अनेक पीढ़ियों के पूर्ववर्ती छात्रों को सफलता के शिखर पर देख कर


अद्भुत गौरव का एहसास होता है.

एसोसिएशन के अध्यक्ष एवं पूर्व प्रशासनिक पदाधिकारी अरुण कुमार की अध्यक्षता में दिव्यांग कलाकार राखी द्वारा प्रस्तुत 'जय जय भैरवी' गान से शुरू हुए कार्यक्रम का संचालन एसोसिएशन के महासचिव मेजर डॉ पुलिन वी वर्मा ने किया. अध्यक्षीय संबोधन में अरुण कुमार ने एसोसिएशन की गतिविधियों पर विस्तार से चर्चा करते हुए इसके गठन के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला. उन्होंने कहा कि अत्यंत आह्लाद पूर्ण है कि विद्यालय के पूर्ववर्ती छात्रों के प्रयास से न सिर्फ विद्यालय में आलीशान भवन का निर्माण संभव हो पाया है, बल्कि उनके प्रयास से ही यह विद्यालय सरकार की सूची में आदर्श विद्यालय का दर्जा हासिल करने में सफल हुआ है. उन्होंने इसके आदर्श स्वरूप को विकसित करने के लिए सभी को साथ मिलकर प्रयास करने का आह्वान किया. मौके पर प्रधानाचार्य डॉ विश्व भारती यादव ने अपने संबोधन में एसोसिएशन के क्रियाकलाप की प्रशंसा करते हुए परिसर में पूर्व प्रधानाचार्य प्रधानाध्यापक झिंगुर कुमार की प्रतिमा स्थापित किए जाने की दिशा में अद्यतन प्रगति की जानकारी दी. एलुमिनी मीट में सर्वसम्मति से डॉ जगदीश झा को एसोसिएशन का संरक्षक मनोनीत किया गया.


वर्तमान के साथ पूर्ववर्ती छात्र भी हुए सम्मानित

कार्यक्रम में 10वीं एवं 12वीं की कक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति एवं पारितोषिक प्रदान करने के साथ ही विद्यालय के पूर्ववर्ती छात्र रहे नवनिर्वाचित विधायक डॉ मुरारी मोहन झा एवं डॉ विनय कुमार झा के साथ पत्रकारिता क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए विद्यापति सेवा संस्थान, दरभंगा द्वारा मिथिला विभूति सम्मान के लिए चयनित 1989 बैच के छात्र रहे प्रवीण कुमार झा का एसोसिएशन की ओर से अभिनंदन किया गया. कार्यक्रम में विद्यालय के 88 बैच के छात्र रहे नवनीत कुमार के कविता संग्रह 'बागमती विमर्श एक जनपद की कविताएं' का विमोचन भी किया गया. मिथिला की समकालीन सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक परिस्थितियों की इंद्रधनुषी छटा बिखरती इस रचना संग्रह की सभी लोगों ने खुले मन से तारीफ की. धन्यवाद ज्ञापन दरभंगा के पूर्व उप विकास आयुक्त विवेकानंद झा ने किया. मौके पर डॉ राम कुमार चौधरी, संतोष कुमार झा, निहार कांत झा, मुरारी मोहन, कमर आलम, पवन कुमार चौधरी, नवनीत कुमार, वीरेंद्र नारायण, आशा मिश्रा, मनोज झा, अमरकांत चौधरी, धीरेंद्र चौधरी, दिनेश साहनी आदि की उल्लेखनीय उपस्थिति रही.


दसवीं में आदित्य राज रहे अव्वल, 12वीं में सौम्या ने बढ़ाया मान

दसवीं में ओवरऑल टॉपर रहे आदित्य राज को डॉ सीएम झा के सौजन्य से दस हजार रुपये के नगद पुरस्कार से नवाजा गया.जबकि अंग्रेजी एवं हिंदी विषयों में सर्वोच्च अंक हासिल कर वे क्रमशः रमानंद झा मेमोरियल ट्राफी एवं मिथिला चंद्रेश्वर साहित्य सम्मान अपने नाम करने में कामयाब रहे. दसवीं कक्षा के लिए राधाकांत सिंह मेमोरियल अवॉर्ड फरहत जहां को, मिथिला चंद्रेश्वर साहित्य सम्मान आदित्य राज के अतिरिक्त रोशन कुमार, दिलखुश कुमार यादव, रवि कुमार एवं शंकर पासवान को प्रदान किया गया. 12वीं कक्षा के छात्रा वर्ग का ओवरऑल टॉपर अवार्ड के साथ ही विज्ञान विषय में सर्वोच्च अंक हासिल करने के लिए सौम्या को शर्मदा योगेंद्र मेमोरियल अवार्ड प्रदान किया गया. जबकि ओवरऑल टापर के छात्र वर्ग का अवार्ड प्रणव कुमार को मिला. कर्नल प्रणय कुमार के सौजन्य से प्रणव को साढे़ बारह हजार का नगद पुरस्कार प्रदान किया गया. वहीं दूसरे टॉपर आदित्य कुमार मिश्रा को श्री सुरेंद्र नारायण झा अवार्ड प्रदान किया गया.

कोई टिप्पणी नहीं: