अभिभावकों से एरियर के नाम पर लूट के बाद अभिभावकों का हंगामा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 17 नवंबर 2021

अभिभावकों से एरियर के नाम पर लूट के बाद अभिभावकों का हंगामा

parents-protest-to-school
नई दिल्ली।  एस डी पब्लिक स्कूल  रोड नंबर -10  ईस्ट पंजाबी बाग ,दिल्ली -26  द्वारा अभिभावकों से एरियर के नाम पर लूट का मामला सामने आया जब इस एरियर मांगे जाने को लेकर 10 वीं और 12 वीं के बच्चों का रोल नंबर रोके जाने और एरियर जबरन जमा करने का दवाब स्कूल प्रशासन ने पूरा दवाब बनाया जिसपर वहां उपस्थित अभिभावकों ने हंगामा किया और स्कूल प्रधानाचार्य डॉ.उमेश कुमार छिकारा से जब इस जबरन एरियर वसूलने की शिकायत की तो उन्होंने पिछले वर्ष का हवाला देते हुए 2021 में एरियर दिए जाने का एक जूठा सच्चा ऑर्डर दिखाया। जबकि वह ऑर्डर 2020 -21 केवल कोर्ट पहुंचे स्कूलों के लिए था जिस लिस्ट में इस    एस डी पब्लिक स्कूल  रोड नंबर -10  ईस्ट पंजाबी बाग,दिल्ली -26    नाम शामिल ही नहीं है। बावजूद दिल्ली शिक्षा निदेशायालय की नाक के नीचे आम आदमी पार्टी की सरकार में इस स्कूल को अभिभावकों से लूट मचाने की छूट इसलिए मिली है क्योंकि इस क्षेत्र के आम आदमी पार्टी विधायक शिवचरण गोयल और आप राज्यसभा सांसद डॉ सुशील गुप्ता से घनिष्ठ संबंध हैं।स्कूल के बाद जबरन स्कूल प्रशासन द्वारा एरियर वसूले जाने का विरोध कर रहे एक अभिभावक ने बताया की कि इस स्कूल को आम आदमी पार्टी का पूरा संरक्षण है क्योंकि आम आदमी पार्टी के  राज्यसभा सांसद डॉ सुशील गुप्ता इस स्कूल के चेयरमैन भी रह चुके हैं और ट्रस्टी भी। अब ऐसे में गरीबों के साथ खड़े रहने का मुखौटा पहने दिल्ली की जनता को गुमराह करने वाली आप सरकार,उसके स्थानीय विधायक और सांसद कैसे विरोध करें और इस अन्याय के खिलाफ कैसे लड़ें और अभिभावकों से की जा रही लूट को रोंके यह तो वही जानते हैं। लेकिन एक बात स्पष्ट हो गयी की स्कूलों को लूट की छूट खुद दिल्ली सरकार ने दी है। विरोध प्रकट कर रहे एक अन्य अभिभावक ने कहा कि जब लॉकडाउन लगाया तब से अब तक स्कूल बंद हैं केवल चार - छह महीने ऑनलाइन क्लास का ढकोसला रचा गया जबकि पुरे साल बंद स्कूल होने पर भी पूरी ट्यूशन फीस ली गयी अब एरियर किस लिए जब बच्चा पुरे सालभर स्कूल ही नहीं गया ? उन्होंने कहा कि जो स्कूल कोर्ट गए उनके लिए हमको प्रधानाचार्य द्वारा दिखाया आर्डर तो वेबसाइट पर है पर लिस्ट में यह एस डी पब्लिक स्कूल रोड नंबर -10  ईस्ट पंजाबी बाग का नाम शामिल नहीं है तो इस लूट को आखिर कौन रोकेगा ? यह बड़ा सवाल है।  क्योंकि आप विधायक शिवचरण गोयल और आम आदमी पार्टी के  राज्यसभा सांसद डॉ सुशील गुप्ता के साथ दिल्ली सरकार का पूरा संरक्षण इस स्कूल प्रशासन पर है और सभी पूरी तरह से स्कूल प्रबंधन पर मेहरबान है। स्कूल का पक्ष जानने के लिए फोन किया तो रिसेप्शन से जवाब मिला आप अपना नाम नंबर दीजिये बात करा देंगे फिलहाल अभी कोई उपलब्ध नहीं है। ऐसे में स्कूल प्रशासन के पास कोई जवाब नहीं है की आखिर किसी और के लिए जो आदेश है उसकी आड़ में क्यों लूट मचा रहा है। इस विषय में विधायक शिवचरण गोयल का पक्ष जानने का प्रयास किया लेकिन उनकी उद्घाटनों व्यस्तता चलते संपर्क नहीं हो सका। बहराल स्कूल की इस अवैध और गैर क़ानूनी लूट के खिलाफ स्कूल में उपस्थित अभिभावकों ने एक मत पास करते हुए कोर्ट जाने का मन बनाया है जिसके लिए सभी अभिभावकों के नंबर और ई - मेल लिए जा रहे हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं: