सुप्रीम कोर्ट ने कलकत्ता हाईकोर्ट के आदेश को रद्द किया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 1 नवंबर 2021

सुप्रीम कोर्ट ने कलकत्ता हाईकोर्ट के आदेश को रद्द किया

sc-reject-kolkata-hc-order
नयी दिल्ली 01 नवंबर, उच्चतम न्यायालय ने आगामी पर्वों के दौरान पश्चिम बंगाल में पटाखों के इस्तेमाल पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने संबंधी कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश को सोमवार को रद्द कर दिया। न्यायमूर्ति एएम खानविलकर और न्यायमूर्ति अजय रस्तोगी की अध्यक्षता वाली पीठ ने अपने फैसले में कहा कि शीर्ष न्यायालय ने पूर्व में ग्रीन पटाखों के इस्तेमाल की अनुमति दी थी और यह आदेश सभी राज्यों में समान रूप से लागू होगा और पश्चिम बंगाल अपवाद नहीं हो सकता। न्यायमूर्ति खानविलकर ने कहा, “ हमें लगता है कि यदि उच्च न्यायालय पूर्ण प्रतिबंध ही लगाना चाहता है, तो सभी पक्षों को न्यायोचित ठहराने के लिए बुलाया जाना चाहिए था।” पश्चिम बंगाल सरकार ने पीठ को बताया किया कि अधिकारी शीर्ष न्यायालय के पूर्व के आदेशों को लागू करने के लिए आवश्यक कदम उठा रहे हैं। कलकत्ता उच्च न्यायालय ने इस साल काली पूजा, दिवाली, छठ पूजा, जगधात्री पूजा, गुरु नानक जयंती, क्रिसमस और और नए साल की पूर्व संध्या के दौरान पटाखों के उपयोग पर 29 अक्टूबर को ग्रीन पटाखे समेत सभी तरह के पटाखों की बिक्री और उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया था। न्यायमूर्ति सब्यसाची भट्टाचार्य और न्यायमूर्ति अनिरुद्ध रॉय की अध्यक्षता वाली कलकत्ता उच्च न्यायालय की पीठ ने पिछले सप्ताह पुलिस को कड़ी निगरानी रखने और यह सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिये थे कि उत्सव के दौरान किसी प्रकार के पटाखों की बिक्री, खरीद या उपयोग न हो। पटाखा निर्मातओं के संघ ‘सारा बंगला अतिशबाज़ी उन्नयन समिति’ के अध्यक्ष गौतम रॉय और अन्य ने कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देते हुए शीर्ष न्यायालय में विशेष अनुमति याचिका दायर की थी। 

कोई टिप्पणी नहीं: