बेगूसराय : वर्गिज़ कुरियन की 80वीं जयंती मनाई गई - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 26 नवंबर 2021

बेगूसराय : वर्गिज़ कुरियन की 80वीं जयंती मनाई गई

vargies-courien-anniversiry
अरुण कुमार (बेगूसराय) आज शहीद सुखदेव सिंह समन्वय समिति कार्यालय सर्वोदय नगर सुखदेव सभागार में भारत के स्वेत क्रांति के मसीहा वर्गीज कुरियन की 80वीं जयंती मनाई गई। जिसकी अध्यक्षता नेता अमरेंद्र कुमार सिंह ने की। अध्यक्षीय संबोधन में शिक्षक नेता अमरेंद्र कुमार सिंह ने  स्वेत क्रांति  की मसीहा वर्गीज कुरियन पर प्रकाश डालते हुए कहा की 21वी सदी में जनसंख्या की विस्फोट के कारण दूध की आपूर्ति पूरी नहीं हो पा रही थी। श्रीमती इंदिरा गांधी ने  भी अपने कार्यकाल में स्वेत क्रांति को आगे बढ़ाया।।वर्गीज कुरियन का जन्म आज ही के दिन 1921में हुआ था।और उनका निधन 9 सितंबर 2012 में हो गया। इस अवसर पर महिला सेल  सचिव सुनीता देवी ने कहा कि उनका जन्म आज ही के दिन चेन्नई में हुआ था। वे दूध के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए हमेशा समर्पित रहे। करीब साठ हजार कोऑपरेटिव सोसायटी के माध्यम से अमूल के लिए प्रतिदिन लाखों टन दूध की व्यवस्था कर एक रिकॉर्ड बनाया। ऐसे महान पुरुष को मेरा शत-शत नमन। इस अवसर पर साहित्यकार चंद्रशेखर चौरसिया ने कहा कि कार्य के लिए पद्म भूषण से भी सम्मानित किया गया। ऐसे महापुरुष को सत सत नमन। इस अवसर पर दधिचि देह दन समिति के जिला अध्यक्ष सुशील कुमार राय ने कहा कि भारत में श्वेत क्रांति के जनक कहे जाने वाले वर्गीज कुरियन का दूध उत्पादन का भारत में ही नहीं बल्कि विश्व में भी इनका नाम रोशन हुआ। वैसे महान वर्गीज कुरियन ने 1973 में गुजरात कोऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटे की स्थापना की। ऐसे महान श्वेत क्रांति को शत-शत नमन। इस अवसर पर इंजीनियर खुशी सिंह ने कहा की वस्तुतः कुरियन के जन्मदिन को हम नेशनल "मिल्क डे "के रूप में  जानते हैं और मानते हैं। और उनके प्रति सच्ची सम्मान लगा कि हम उनके अधूरे सपनों को साकार करें। इस अवसर पर विकास सिन्हा अधिवक्ता, जेपी सेनानी राजेंद्र महतो अधिवक्ता, अनिकेत पाठक,आंचल कुमारी , अनेकों ने अपना विचार व्यक्त किया।

कोई टिप्पणी नहीं: