हार के डर से छापे डलवा रही है भाजपा सरकार : अखिलेश - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 21 दिसंबर 2021

हार के डर से छापे डलवा रही है भाजपा सरकार : अखिलेश

akhilesh-attack-bjp-govenrment
मैनपुरी, 21 दिसंबर, समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि चाचा शिवपाल सिंह यादव का साथ मिलने से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को उत्तर प्रदेश में अपनी हार सुनिश्चित लगने लगी है और यही कारण है कि बौखलाहट में सपा नेताओं के घरों में आयकर के छापे डलवाये जा रहे हैं। मैनपुरी के क्रिश्चियन मैदान से विजय यात्रा के आठवें चरण की शुरूआत करते हुये अखिलेश ने मंगलवार को कहा “ चाचा (शिवपाल सिंह यादव) को साथ लिया तो जांचें होने लगीं। आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को अपनी हार दिखाई देने लगी है। इसलिए दिल्ली से जांच अधिकारी भेजे हैं, लेकिन हम समाजवादी डरने वाले नहीं है।” उन्होने कहा कि किसानों ने लॉकडाउन में काम कर देश की आर्थिक व्यवस्था बचाई है। सपा की सरकार बनने पर किसानों के हितों में काम होगा। जिनकी नौकरी छीनी उन्हें सम्मान मिलेगा। योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बाबा की सरकार में कानून व्यवस्था फेल है। डायल 100 से 112 कर पुलिस का कबाड़ा कर दिया। इस सरकार ने खाद की चोरी कर किसानो की मुसीबतों में इजाफा किया। भाजपा के लोग गरीबों के हक पर डाका डाल रहे हैं। ये उपयोगी सरकार नहीं अनुपयोगी सरकार है। नाम और रंग बदलने सरकार है। लखीमपुर कांड को लेकर अखिलेश यादव ने योगी सरकार से सवाल किया कि सरकार बताएं लखीमपुर में बुलडोजर कब चलेगा। सबसे अधिक माफिया भाजपा में हैं। पहले मुख्यमंत्री हैं, जिन्होंने अपने मुकदमे वापस लिए। सपा मुखिया ने कहा कि हम सब जातीय जनगणना चाहते हैं। सपा की सरकार बनने के तीन महीने के अंदर जातीय जनगणना कराकर सब को आबादी के अनुसार हक दिलाएंगे। जनसभा के बाद अखिलेश ने विजय यात्रा को एटा के लिए रवाना किया। इस मौके पर सुहेलदेव पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रेमचन्द कश्यप मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं: