प्रतापगढ़ : अपर जिला न्यायाधीश तम्बोली ने शिविर आयोजन किया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 17 दिसंबर 2021

प्रतापगढ़ : अपर जिला न्यायाधीश तम्बोली ने शिविर आयोजन किया

legal-caimpaign
प्रतापगढ़, रालसा द्वारा जारी एक्शन प्लान के तहत आज प्रतापगढ़ जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के श्री सचिव शिवप्रसाद तम्बोली (अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश) प्रतापगढ़ ने ग्राम कड़ियावद जिला प्रतापगढ़ आम चौराहे पर विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया। प्राधिकरण सचिव श्री तम्बोली ने आज ग्राम कड़ियावद में जागरूकता शिविर का आयोजन किया। जिसमें सार्वजनिक स्थान पर आम जन को एकत्र करते हुए विभिन्न कानूनी जानकारियों से अवगत कराया गया। उपस्थित आम जन को नालसा द्वारा जारी योजनाओं यथा नालसा (असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिये विधिक सेवाएं) स्कीम 2015, नालसा (बच्चों को मैत्रीपूर्ण विधिक सेवाएं और उनके संरक्षण के लिए विधिक सेवाएं) योजना 2015, एवं नालसा (वरिष्ठ नागरिकों के लिये विधिक सेवाएं) योजना 2016 के बारे में जानकारियां प्रदान की। उक्त योजनाओं के बारे में बताते हुए असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को श्रम विभाग में पंजीयन करवाना अनिवार्य बताया ताकि उन्हें प्रसुति सहायता, बेटी के विवाह हेतु प्रदत्त सहायता, आकस्मिक मृत्यु या कार्य के दौरान मृत्यु होने पर आर्थिक मदद प्राप्त हो सके। बच्चों के शिक्षा अधिकार व जे0जे0 एक्ट में वर्णित अधिकार के बारे में तथा वरिष्ठ नागरिकों के अधिकार के बारे में बताया गया।  इसी के साथ आयोजित शिविर में बाल विवाह निषेध कानून, मृत्यु भोज निषेध कानून, कन्या भु्रण हत्या निषेध कानून एवं मोटर वाहन अधिनियम आदि के बारे में कानूनी जानकारियां भी दी गई। इसी के साथ जिला मुख्यालय पर संचालित बड़ौदा स्वरोजगार विकास संस्थान द्वारा संचालित अगरबत्ती निर्माण, सिलाई, वर्मी कम्पोस्ट बनाना आदि का निःशुल्क प्रशिक्षण दिया जाता है, इस बारे में भी बताया।  इसके अलावा प्राधिकरण सचिव द्वारा खेती में रासायनिक खाद व रासायनिक कीटनाशक के स्थान पर जैविक खाद व देशी कीटनाशक के प्रयोग पर जोर दिया। सचिव ने किस प्रकार देशी कीटनाशक नीम की पत्तियों, निम्बोली, फीटकरी, व देशी गाय के मुत्र से बनाया जा जा सकता है और बीजोपचार देशी गाय के मूत्र से किया जा सकता है, इस बारे में भी बताया गया।

कोई टिप्पणी नहीं: