मधुबनी : विजय दिवस के पच्चासवीं वर्षगाँठ को स्वर्णिम विजय दिवस के रूप मनाया - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 16 दिसंबर 2021

मधुबनी : विजय दिवस के पच्चासवीं वर्षगाँठ को स्वर्णिम विजय दिवस के रूप मनाया

madhubani-congress-celebrate-vijay-diwas
मधुबनी, आज जिला कांग्रेस कमिटी मधुबनी के तत्वावधान में देश के पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनेत्री श्रीमती इंदिरा गांधी जी की सफल नेतृत्व में 1971भारत पाकिस्तान युध्द के जीत की पच्चासवीं वर्षगाँठ को स्वर्णिम विजय दिवस के रूप में मनाई  ।सर्वप्रथम युध्द में शहीद हुए अमर बलिदानी जाँबाज सैनिकों को श्रदांजलि अर्पित किया गया और लौहमहिला ,बंग्लादेश देश निर्माण के महानायक श्रीमती इंदिरा गांधी जी को शिद्दत से स्मरण किया। कार्यक्रम को संवोधित करते हुए जिलाध्यक्ष प्रो शीतलाम्बर झा ने कहा आज सम्पूर्ण देश स्वर्णिम विजय दिवस मना रही है ,शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित किया जा रहा है आज ही के दिन बंग्लादेश का निर्माण किया गया ,आज यह ऐतिहासिक जीत का श्रेह अदम्य साहस और दृढ़ निश्चय, पक्का इरादा की महिला श्रीमती इंदिरा जी को जाता है,आज बंग्लादेश अपना अजादी का पच्चासवीं स्वतंत्रता दिवस मना रही है और मुख्यातिथि के रूप में देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी को बनाया गया है। प्रो झा ने कहा दुनिया के इतिहास में यह पहली और आखरी युध्द हुआ जिसमें नब्बे हजार सैनिकों का हथियार के साथ समर्पण करना पड़ा ,यह कारनामा हमारे सैनिकों ने मात्र तरह दिनों के अंदर कर दिखाया जो ऐतिहासिक है तब जबकी अमेरिका जैसे शक्तिशाली राष्ट्र के विरोध के बाबजूद जीत हासिल की । कार्यक्रम में मनोज कुमार मिश्रा,ज्योति झा,विजय कुमार राउत,रामचन्द्र साह,मो आकिल अंजुम,सुरेन्द्र महतो,प्रफुल्ल चन्द्र झा,बबिता चौरसिया, डॉ सुनील पासवान, मो साबिर,सुरेश चंद्र झा रमन,कपिलदेव झा,सुरेन्द्र मिश्रा,कालिश चन्द्र झा कन्हैया, महेश चौधरी, शशिकांत झा,जय कुमार झा,अशोक प्रसाद, मिथलेश कुमार झा,राजेन्द्र झा महेंद्र,अनिल चन्द्र झा,संजय कुमार मिश्रा,गंगाधर पासवान, आलोक कुमार झा,मुकेश कुमार झा पप्पू,राजीव शेखर झा,शिवचंद्र यादव,इश्तियाक अहमद,बिनय कुमार झा,विश्वनाथ पासवान, अनुरंजन सिंह आदि ने संवोधित किया।

कोई टिप्पणी नहीं: