काशी की तरह भाजपा के मुख्यमंत्री विकसित करें अपना सूबा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 15 दिसंबर 2021

काशी की तरह भाजपा के मुख्यमंत्री विकसित करें अपना सूबा

  • कहा, प्राचीन और संस्कृति संजोए शहरों को करें विकसित , प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी भाजपा शासित मुख्‍यमंत्रियों के साथ की बैठक

cm-meeting-varanasi
वाराणसी (सुरेश गांधी) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को भाजपा शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों और उपमुख्यमंत्रियों के साथ बरेका में बैठक की। इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि आप लोग अपने-अपने राज्य में विकास करते समय काशी से जरूर प्रेरणा लें। काशी के विकास माडल को देखें और पौराणिकता और आध्यात्मिकता को बरकरार रखते हुए विकास होना चाहिए। काशी और अयोध्या के धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए आगे आएं। पुराने शहरों के मूल स्वरूप को बरकरार रखते हुए लोगों की सुविधाओं के लिए क्या किया जा सकता है, इस पर फोकस करें।  सुबह लगभग करीब दस बजे से बैठक शुरू हुई जो दोपहर ढाई बजे तक चली। बैठक में सभी मुख्यमंत्री अपने प्रांतों में कराए गए विकास कार्यों का प्रस्तुतीकरण दिए। भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्रियों की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि काशी का विकास ही आदर्श मॉडल है और भाजपा के सीएम इसी आधार अपने राज्यों को उत्तम प्रदेश बनाएं। सबसे प्राचीन नगरी काशी ने अपनी पुरातन संस्कृति को संरक्षित करते हुए आधुनिक विकास में देश के सामने नजीर बनी है। ऐसे ही सभी राज्य अपने यहां के प्राचीन शहरों के विकास की रुपरेखा तय करें। बैठक में सरकार की विभिन्‍न योजनाओं पर चर्चा हुई ही है। योजनाओं का लाभ लोगों तक कैसे और कितना मिल रहा इस पर मंथन किया गया। राज्‍यों के साथ केंद्र के तालमेल के साथ ही केंद्र और राज्‍य सरकार की योजनाओं के विविध पक्षों पर चर्चा हुई है। कल्‍याणकारी योजनाओं का लाभ पूरी तरह से जनता तक पहुंचाने की रणनीति को और बेहतर करने की कवायद चली। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, त्रिपुरा से विप्लव देव, हरियाणा से मनोहर लाल खट्टर, हिमाचल से जयराम ठाकुर, कर्नाटक से बासवराज बोम्मई, असम के हेमंत विश्वा शर्मा, गुजरात के भूपेंद्र भाई पटेल, अरुणाचल के पेमा खांडू, उत्तराखंड के पुष्कर सिंह धामी, मणिपुर के एन विशेन सिंह शामिल हैं। उप मुख्यमंत्रियों में बिहार से तारकेश्वर प्रसाद व रेनू देवी, उत्तर प्रदेश से केशव प्रसाद मौर्य व दिनेश चंद्र शर्मा, नगालैंड से यथंगोपट्टन, त्रिपुरा जिष्णुदेव शर्मा, अरुणाचल से चोनामीन हैं।


पार्टी पदाधिकारियों को जनता के बीच जाने की सलाह 

प्रधानमंत्री ने बनारस रेल इंजन कारखाना अतिथिगृह सभागार में भाजपा के पदाधिका‍रियों के साथ बैठक की। इस दौरान प्रधानमंत्री ने विधायकों का पांच साल का रिपोर्ट कार्ड देखें। विकास परियोजनाएं लंबित नहीं रहनी चाहिए। सड़क, बिजली, पानी और आवास जैसी मूलभूत आवश्यकताओं से संबंधित जनता की समस्या की अनदेखी न करें। शीर्ष नेताओं के साथ यूपी के चुनाव को लेकर मंथन किया। कहा कि उम्मीदवारी तय करने में किसी की पैरोकारी या भाई-भतीजावाद कतई न करें। पीएम सबसे पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात किया। उसके बाद प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह से मिले और प्रदेश की स्थिति के बारे में जानकारी लिया। राष्ट्रीय संगठन मंत्री बीएल संतोष को भी बुला कर उनसे बात की फिर जिला अध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा से जिले के बारे में जानकारी लिया महानगर अध्यक्ष विद्यासागर राय को बुलाकर उनसे स्थिति से अवगत हुए क्षेत्रीय अध्यक्ष महेश श्रीवास्तव से भी मुलाकात हुई। अंत में बनारस के छह विधायक सौरव श्रीवास्तव, सुरेंद्र कुमार सिंह, अवधेश सिंह, रविंद्र जायसवाल, नीलकंठ तिवारी से मुलाकात कर उन से चर्चा किया। पीएम मोदी ने जनता के बीच उनकी पहुंच और लोकप्रियता का फीडबैक संगठन के स्तर से और स्वतंत्र रूप से लिया जाए। भाजपा के विधायक और सांसद अपने क्षेत्र की विकास परियोजनाओं पर खुद को फोकस करें। सड़क, बिजली, पानी और आवास जैसी मूलभूत आवश्यकताओं से संबंधित जनता की समस्या की अनदेखी न करें। लोगों की समस्याओं का समाधान ही नेता के सदन तक पहुंचने का मार्ग प्रशस्त करता है’। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव के लिए जीत का मंत्र देते हुए कहा कि सांसदों और विधायकों से लेकर जो भी जनप्रतिनिधि हैं वह लगातार जनता के बीच बने रहें। प्रदेश और केंद्र सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के बारे जानकारी देने को कहा गया। 

कोई टिप्पणी नहीं: