बिहार : स्वास्थ्य जांच शिविर एवं वृक्षारोपण का हुआ आयोजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 31 दिसंबर 2021

बिहार : स्वास्थ्य जांच शिविर एवं वृक्षारोपण का हुआ आयोजन

  • आजादी का अमृत महोत्सव के तहत वन नेशन-वनग्रिड-वन फ्रीक्वेंसी की उपलब्धि का जश्न

health-camp-on-amrit-mahotsav
पटना,31 दिसंबर, ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत ‘वन नेशन-वन ग्रिड-वन फ्रीक्वेंसी’ की उपलब्धि का जश्न   आज 31 दिसम्बर को पावरग्रिड  के  विभिन्न   उपकेंद्रों   द्वारा  स्वास्थ्य जांच शिविर एवं वृक्षारोपण  कार्यक्रम आयोजित  कर  मनाया गया।  इस अवसर पर पावरग्रिड पूर्वी  क्षेत्र-1 द्वारा बिहार के  गया, मुजफ्फरपुर, बिहारशरीफ़, पुसौली एवं  झारखंड  के रांची एवं जमशेदपुर में स्थानीय ग्रामीणो के लिए निशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर  का आयोजन किया गया । आयोजित शिविर में  1000  से  ज्यादा  स्थानीय  लोग  लाभान्वित हुए।  मौके पर उक्त स्थलों पर जन भागीदारी से वृक्षारोपण  का भी आयोजन किया गया। देश में ग्रिड प्रबंधन क्षेत्रीय आधार पर साठ के दशक में शुरू हुआ। शुरुआत में, क्षेत्रीय ग्रिड बनाने के लिए राज्य ग्रिडों को आपस में जोड़ा गया था और भारत को पांच क्षेत्रों,उत्तरी, पूर्वी, पश्चिमी, उत्तर पूर्वी और दक्षिणी क्षेत्रों में सीमांकित किया गया था। समय के साथ बिजली की अधिक उपलब्धता और हस्तांतरण की अनुमति देने के लिए प्रत्येक ग्रिड को दूसरे से जोड़ा गया। सभी क्षेत्रीय ग्रिड एक साथ आ गए जब दक्षिणी क्षेत्र को 765 के वी रायचूर-सोलापुर ट्रांसमिशन लाइन के चालू होने के साथ सेंट्रल ग्रिड से जोड़ा गया और 'एकराष्ट्र-एकग्रिड-फ्रीक्वेंसी' प्राप्त हुई। श्रीनगर-लेह ट्रांसमिशन सिस्टम को नेशनल ग्रिड से जोड़ा गया और 2019  में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इसे राष्ट्र को समर्पित किया गया था ।

कोई टिप्पणी नहीं: