बिहार : गरीबों को तंग करने के खिलाफ ऐपवा का प्रतिवाद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 9 दिसंबर 2021

बिहार : गरीबों को तंग करने के खिलाफ ऐपवा का प्रतिवाद

aipwa-protest
पटना, 8 दिसम्बर. ऐपवा की पटना महानगर कमिटी के बैनर तले आज महंगाई और शराब बंदी के नाम पर गरीबों को तंग करने के खिलाफ प्रदर्शन हुआ और एक छोटी सी सभा हुई.एनआईटी मोड़ से चलकर पटना यूनिवर्सिटी तक महिलाओं ने आक्रोश मार्च किया, मोदी व शाह का पुतला दहन किया और मंहगाई पर रोक और रसोई गैस का दाम घटाने की मांग की. मार्च का नेतृत्व नगर सचिव अनिता सिन्हा व अशोक राजपथवासियों  व लालबाग सत्याग्रह की महिला नेत्री व ऐपवा की आसमा खान ने किया.महिलाओं ने शराब बंदी के नाम पर सत्ताधारियों को बचाने व गरीबों को सताने की कड़ी निंदा की और इस पर अविलमव रोक लगाने की मांग की. इस अवसर पर आयोजित सभा को संबोधित करते हुए ऐपवा की  नगर सचिव अनीता सिन्हा ने इस बढ़ती हुए महंगाई के खिलाफ मोदी सरकार को जिम्मेवार बताया. और बिहार सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि शराबबंदी महिलाओं की मांग थी लेकिन रोजगार का इंतजाम किए बगैर दलित टोला में पुलिस छापेमारी कर रही है जबकि भाजपा नेता, बिहार सरकार के भू राजस्व मंत्री रामसूरत राय के स्कूल से शराब के सैकड़ों बोतल लदी गाड़ियां मिलीं, मंत्री के भाई पर नामजद एफआईआर हुआ बावजूद उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जाता. स्कूल जब्त कर सरकारी संपत्ति घोषित नहीं होता. बिहार में शराब के साथ साथ स्मैक, हेरोइन और नशीली दवाइयों का व्यापार बहुत तेजी से हो रहा है , कम उम्र नौजवानों को इसका शिकार बनाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि शराबबंदी को कारगर तभी बनाया जा सकता है जब गरीबों को रोजगार मिले,ज्यादा से ज्यादा नशामुक्ति केंद्र खुलें,अस्पताल और मनोचिकित्सक नियुक्त हों क्योंकि घर-घर शराब के रोगी तो नीतीश जी ने ही अपने पहले कार्यकाल में पैदा किया है. आसमा खान ने मोदी सरकार के खिलाफ हाय-हाय का नारा लगाया और गैस सिलेंडर का अधिकतर 500 मूल्य फिक्स करने की मांग की.मधु ने सरकार से महंगाई पर रोक लगाने की मांग की. एपवा की नगर सह सचिव विभा गुप्ता समेत फरीदा खातून, शाहिना जी, शमीमा खातून, रेहाना, सायमा, नाज़नीन , ऐश्वर, रजिया, अंजुम,सोनी और अन्य कई महिलाओं  ने सभा को संबोधित किया और बढ़-चढ़कर भाग लिया.3 से 10 दिसंबर तक चलने वाले राज्यस्तरीय अभियान के तहत आज बिहार के विभिन्न जिलों में ऐसे कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं.

कोई टिप्पणी नहीं: