रेलवे के मुख्य अभियंता सहित 04 अन्य को गिरफ़्तार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 15 दिसंबर 2021

रेलवे के मुख्य अभियंता सहित 04 अन्य को गिरफ़्तार

cbi-arrest-railway-engineer-in-bribe
नई दिल्ली, सीबीआई ने तथाकथित घूसखोरी के मामले में रेलवे के मुख्य अभियंता तथा उप-मुख्य अभियंता; निजी कम्पनी के निदेशक सहित 03 अन्य को गिरफ़्तार किया और तलाशी के दौरान 2.19 करोड़ रु.(लगभग) का नकद बरामद हुआ सीबीआई ने घूसखोरी के मामले की जारी जाँच में मुख्य अभियंता(इलेक्ट्रिकल); उप-मुख्य इलेक्ट्रिकल अभियंता, निजी कंपनी के निदेशक और उनके कर्मचारी को गिरफ़्तार किया। आरोपियों के गुवाहाटी, पटना,नोएडा आदि में स्थित परिसरों सहित 09 स्थानों में तलाशी की गई जिसमें 2.19 करोड़ (करोड़) का कुल नकद और विभिन्न आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद हुआ। इसमें, नोएडा में 3 फ्लैटों के विवरण के साथ 2.13 करोड़ रु.(लगभग) की नकद धनराशि मुख्य अभियंता(इलेक्ट्रिकल) के परिसर में पायी गई।गुवाहाटी सहित उप-मुख्य अभियंता एवं उनके परिवारिक सदस्यों के नाम पर 6 फ्लैटों के विवरण के साथ 6 लाख रु.(लगभग) का नकद धनराशि उप-मुख्य इलेक्ट्रिकल अभियंता के परिसर में पाया गया।  गिरफ्तार आरोपियों को गुवाहाटी की सक्षम अदालत के समक्ष आज पेश किया जा रहा है। यह मामला, उप मुख्य इलेक्ट्रिकल अभियन्ता (कोचिंग), एन एफ आर, मालीगॉव, गुवाहाटी; पटना स्थित निजी कम्पनी के निदेशक एवं उसके कर्मचारी एवं अज्ञात लोक सेवकों और निजी व्यक्तियों के विरुद्ध दिनाँक 14.12.2021 को  दर्ज किया गया था। जिसमें यह आरोप है कि एन एफ आर में उप मुख्य इलेक्ट्रिकल अभियन्ता (निर्माण) के तौर पर पूर्व में कार्यरत होने के दौरान लोक सेवक ने उक्त निजी कम्पनी के निदेशक से कथित अवैध परितोषण (illegal gratification) के तौर पर दो अचल सम्पत्तियाँ यथा बेनामी फ्लैटों को प्राप्त किया। आगे यह आरोप है कि आरोपी ने पूर्व में शिकायतकर्ता को अनुचित लाभ प्रदान करने और साथ ही साथ इस तरह का अनुचित लाभ भविष्य में भी जारी रखने के आश्वासन पर उक्त दो बेनामी फ्लैटों के बदले में उनसे 2.10 करोड़ रु. की रिश्वत की मॉग की। यह भी आरोप है कि निजी व्यक्ति, लोक सेवक को रिश्वत धनराशि किश्तों में स्थानान्तरित करने लगा। सी बी आई ने जाल बिछाया एवं लोक सेवक तथा निजी कम्पनी के उक्त निदेशक के कर्मचारी को आपस में 15 लाख रु. का लेन-देन करने के दौरान पकड़ा।  जाँच के दौरान, इस मामले में कथित रुप से मुख्य अभियंता की  भूमिका भी सामने आई और उन्हें भी पकड़ा गया।  इस मामले में आगे की जाँच जारी है।

कोई टिप्पणी नहीं: