बिहार : मीडियाकर्मियों पर भड़के CM नीतीश, कहा- बाहर निकल जाईये - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 29 दिसंबर 2021

बिहार : मीडियाकर्मियों पर भड़के CM नीतीश, कहा- बाहर निकल जाईये

nitish-shout-over-media-persom
मुजफ्फरपुर : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इन दिनों समाज सुधार अभियान में लगे हुए है। वहीं, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समाज सुधार अभियान के तीसरे चरण के अन्तर्गत आज मुजफ्फरपुर के MIT कैम्पस में सभा को संबोधित कर रहे हैं। इसी दौरान अब एक बार फिर मुख्यमंत्री अपने चिर परिचित अंदाज में मिडिया पर भड़क गए। दरअसल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जब मंच से जनता को संबोधित कर रहे थे उसी दौरान उनकी सेवा में कुछ लोगों द्वारा शोरगुल करना शुरू कर दिया गया जिसके बाद मीडिया कर्मियों ने अपने कैमरे को उस और मोड़ना शुरू कर दिया। इसी को लेकर सीएम नीतीश भड़क गए और कहने लगे कि अगर इधर-उधर करना है तो कार्यक्रम से बाहर निकल जाइए। उन्होंने कहा कि ये मीडिया वाले किधर जा रहे हैं। उन्होंने सीधे सवाल करते हुए कहा कि क्या आप लोगों को समाज सुधार अभियान से नफरत है, अगर नफरत है तो चले जाइये यहां से। जानकारी हो कि, इस दौरान नीतीश कुमार शराबबंदी के बारे में बता रहे थे। तभी कुछ लोग हंगामा करने लगे। इस दौरान मीडिया का ध्यान हंगामे की तरफ चला गया। वहीं, मुख्यमंत्री ने हंगामा करने वाले लोगों से कहा कि यहां जो कार्यक्रम चल रहा है उस पर ध्यान दीजिये, आप लोग पुरुष हैं, महिलाएं क्या कह रही हैं उनको सुनिए। महिलाओं में जागृति आ रही है। आप भी जागृत हो जाइये। यदि इसके बाद भी कोई समस्या है तो आ कर हमसे मिलिए। गौरतलब है कि, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का यह अंदाज देखकर मंच पर मौजूद नेता समेत इस सभा में आए सभी लोग दंग रह गए। हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा मंच पर से गुस्सा करने वाली यह घटना पहली बार नहीं हुई हैं। इसके पहले भी उनको कई दफा मंच से गुस्सा होते देखा गया है। मुख्यमंत्री का जब भी किसी सभा में विरोध होता था तो वह भरी सभा में उत्तेजित हो जाते थे और डांटना शुरू कर देते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: