भारत-अमेरिका रक्षा साझेदारी के मजबूत समर्थक थे जनरल रावत : अमेरिका - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 9 दिसंबर 2021

भारत-अमेरिका रक्षा साझेदारी के मजबूत समर्थक थे जनरल रावत : अमेरिका

gen-rawat-strong-suporter-of-indo-usa-relation
वाशिंगटन, नौ दिसंबर, अमेरिका के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि भारत के पहले प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत एक असाधारण नेता, एक महत्वपूर्ण भागीदार और भारत-अमेरिका रक्षा संबंधों के मजबूत समर्थक थे तथा उन्होंने दोनों देशों के बीच सामरिक साझेदारी को मजबूत करने में मदद की थी। गौरतलब है कि बुधवार को तमिलनाडु में कुन्नूर के समीप भारतीय वायु सेना का एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिससे उसमें सवार जनरल रावत, उनकी पत्नी मधुलिका और 11 अन्य लोगों की मौत हो गयी। अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन और रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने अमेरिका-भारत रक्षा संबंधों को मजबूत करने में जनरल रावत की भूमिका की सराहना की। ब्लिंकन ने कहा, ‘‘भारत के प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल रावत, उनकी पत्नी और सहकर्मियों की दुर्घटना में हुई मौत पर मैं गहरी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। हम जनरल रावत को एक असाधारण नेता के तौर पर याद रखेंगे जिन्होंने देश की सेवा की और अमेरिका-भारत रक्षा संबंधों में योगदान दिया।’’ रक्षा मंत्री ऑस्टिन ने कहा, ‘‘जनरल रावत ने भारत-अमेरिका रक्षा साझेदारी पर एक अमिट छाप छोड़ी है और वह भारतीय सशस्त्र सेनाओं के एकीकृत युद्धक क्षमता वाले संगठन के रूप में उभरने में केंद्रीय भूमिका में थे।” ऑस्टिन ने कहा कि उन्हें इस साल की शुरुआत में जनरल रावत से मिलने का मौका मिला था और वह उन्हें महत्वपूर्ण भागीदार तथा अमेरिका का मित्र मानते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं ओर मेरा विभाग हेलीकॉप्टर दुर्घटना में प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत की मौत के बाद रावत परिवार, भारतीय सेना और भारत के लोगों के प्रति गहरी संवेदनाएं व्यक्त करते हैं। रावत परिवार और दुर्घटना के अन्य पीड़ितों के परिवार के प्रति हमारी संवेदनाएं हैं। हम इस क्षति से बहुत दुखी हैं।’’


भारत के पहले सीडीएस के निधन पर शोक जताते हुए ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के अध्यक्ष जनरल मार्क मिले ने कहा कि उन्हें गर्व है कि वह जनरल रावत को एक मित्र के तौर पर तब से जानते हैं जब वह सेना प्रमुख थे। मिले ने कहा, ‘‘उन्हें याद किया जाएगा।’’ उन्होंने जनरल रावत के साथ अपनी मुलाकात की तस्वीरें भी ट्वीट कीं। विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने बुधवार को अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हम भारत में हेलीकॉप्टर दुर्घटना में प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य लोगों की मौत की खबर सुनकर बहुत दुखी हैं। उन्होंने कहा ‘‘जनरल रावत एक महत्वपूर्ण भागीदार थे। वह अमेरिका-भारत रक्षा साझेदारी के मजबूत समर्थक थे। उन्होंने दोनों देशों के बीच सामरिक साझेदारी को मजबूत करने में मदद की। इन संबंधों में उनकी अहम भूमिका थी। जनरल के परिवार, उस विमान में सवार सभी लोगों के परिवारों और जाहिर तौर पर भारत के लोगों के प्रति हम संवेदनाएं व्यक्त करते हैं।’’ पेंटागन के प्रेस सचिव जॉन किर्बी ने एक अलग संवाददाता सम्मेलन में कहा कि समस्त रक्षा विभाग की ओर से रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन हेलीकॉप्टर दुर्घटना में जनरल रावत के निधन से दुखी उनके परिवार, भारतीय सेना और भारत के लोगों के प्रति गहरी संवेदनाएं व्यक्त करते हैं। अमेरिका के कई शीर्ष सांसदों ने भी इस दुखद घटना में भारतीय जनरल की मौत पर शोक जताया है। सीनेटर रिक स्कॉट ने कहा, ‘‘मैं जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य चालक दल के सदस्यों और यात्रियों की दुखद मृत्यु पर शोकाकुल नरेंद्र मोदी और भारत के लोगों के प्रति गहरी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। भारत मजबूत है और दुख की इस घड़ी में अमेरिका आपके साथ खड़ा है।’’ सीनेटर बिल हागर्टी ने कहा, ‘‘भारतीय सशस्त्र सेना के प्रमुख जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 12 अन्य लोगों की दुखद मृत्यु के बाद मैं भारत के लोगों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। उनके परिवारों के प्रति मेरी सहानुभूति है।’’ कांग्रेस सदस्य मार्क ग्रीन ने ट्वीट किया, ‘‘विमान दुर्घटना में हुई मौतों के लिए भारत के लोगों और उनके सशस्त्र बलों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं हैं। मैं हमारी भागीदारी को इस दुख और भविष्य की प्रतिकूलताओं से उबरने के लिए एक स्थायी शक्ति के रूप से उसे विकसित करने के वास्ते हरसंभव प्रयास करना जारी रखूंगा।’’

कोई टिप्पणी नहीं: