भारत ऐतिहासिक जीत से छह कदम दूर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 29 दिसंबर 2021

भारत ऐतिहासिक जीत से छह कदम दूर

india-six-wickets-to-historical-win
सेंचुरियन, 29 दिसंबर, भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट मैच के चौथे दिन बुधवार को अपनी दूसरी पारी में 174 रन बनाये और मेजबान टीम के सामने 305 रन का बेहद मुश्किल लक्ष्य रख दिया। भारत ने पहली पारी में 327 रन बनाये थे और दक्षिण अफ्रीका को 197 रन पर ढेर कर पहली पारी में 130 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल की थी। दक्षिण अफ्रीका ने लक्ष्य का पीछा करते हुए स्टंप्स तक चार विकेट खोकर 94 रन बना लिए। भारत को सेंचुरियन में जीत हासिल करने के लिए छह विकेट की जरूरत है जबकि दक्षिण अफ्रीका को 211 रन की जरूरत है। दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी में एडन मारक्रम को दूसरे ओवर की तीसरी गेंद पर मोहम्मद शमी ने बोल्ड कर दिया। कीगन पीटरसन 36 गेंदों में 11 रन बनाकर मोहम्मद सिराज की गेंद पर विकेटकीपर ऋषभ पंत के हाथों लपके गए। दक्षिण अफ्रीका का दूसरा विकेट 34 के स्कोर पर गिरा। डीन एल्गर ने रैसी वान डेर डुसेन के साथ तीसरे विकेट के लिए 40 रन जोड़े लेकिन जसप्रीत बुमराह की गेंद पर डुसेन ने अपना बल्ला उठा दिया और गेंद स्टंप्स में घुस गयी। डुसेन ने 69 गेंदों पर 11 रन बनाये। नाईट वॉचमैन केशव महराज (8) को बुमराह ने अंतिम ओवर में बेहतरीन यॉर्कर से बोल्ड कर दिया और इसके साथ ही स्टंप्स हो गया। स्टंप्स के समय कप्तान एल्गर 122 गेंदों में सात चौकों के सहारे 52 रन बनाकर क्रीज पर मौजूद थे। एल्गर का यह 18वां अर्धशतक था। उन्होंने मैच को आखिरी दिन पहुंचा दिया है। भारत को जीत की अपनी उम्मीदों के लिए प्रार्थना करनी होगी क्योंकि मैच के पांचवें और अंतिम दिन बारिश होने की आशंका व्यक्त की गयी है।


इससे पहले सुबह भारत ने एक विकेट पर 16 रन से अपनी पारी को आगे बढ़ाया और लंच तक तीन विकेट खोकर 79 रन बनाये। भारत की दूसरी पारी दूसरे सत्र में 174 रन पर समाप्त हुई। इस सदी में केवल एक बार इस मैदान पर चौथी पारी में 300 से अधिक के लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा किया गया है, यह 2001/02 के साउथ अफ़्रीकी घरेलू सीज़न के मैच में हुआ था। तीसरी पारी में 174 से कम के स्कोर पर ऑल-आउट होने के बाद केवल चार बार भारतीय टीम टेस्ट मैच जीत पाई हैं। सुबह ओपनर लोकेश राहुल ने पांच और नाईट वॉचमैन शार्दुल ठाकुर ने चार रन से आगे खेलना शुरू किया। भारत को दूसरा झटका 34 के स्कोर पर लगा जब कैगिसो रबादा ने ठाकुर को आउट कर दिया। ठाकुर ने 26 गेंदों पर एक चौके और एक छक्के की मदद से 10 रन बनाये। पहली पारी में शतक बनाने वाले राहुल 74 गेंदों में चार चौकों की मदद से 23 रन बनाकर लुंगी एनगिदी का शिकार बने। भारत का तीसरा विकेट 54 के स्कोर पर गिरा। लंच के समय चेतेश्वर पुजारा 12 और कप्तान विराट कोहली 18 रन बनाकर क्रीज पर थे। लंच के बाद विराट अपने स्कोर में कोई इजाफा किये बिना मार्को यानसन का शिकार बन गए। विराट ने 32 गेंदों में 18 रन बनाये। पुजारा टीम के 109 के स्कोर पर पवेलियन लौट गए। पुजारा ने 64 गेंदों में 16 रन बनाये। अजिंक्या रहाणे ने 23 गेंदों में तीन चौकों और एक छक्के की मदद से 20 रन बनाये जबकि ऋषभ पंत ने 34 गेंदों पर छह चौकों के सहारे 34 रन बनाये। रविचंद्रन अश्विन ने 17 गेंदों में दो चौकों के सहारे 14 रन बनाये। भारत के स्कोर में 27 अतिरिक्त रनों का भी योगदान रहा। दक्षिण अफ्रीका की तरफ से रबादा और यानसन ने चार-चार और एनगिदी ने दो विकेट लिए।

कोई टिप्पणी नहीं: