एशियन चैंपियन जापान गत विजेता भारत को 5-3 से हराकर फ़ाइनल में - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 21 दिसंबर 2021

एशियन चैंपियन जापान गत विजेता भारत को 5-3 से हराकर फ़ाइनल में

japan-beat-india-enters-final
ढाका, 21 दिसंबर, एशियाई चैंपियन जापान ने निर्णायक मौके पर बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए गत संयुक्त विजेता और ओलम्पिक कांस्य पदक विजेता भारत को मंगलवार को एकतरफा सेमीफाइनल में 5-3 से हराकर एशियन चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी टूर्नामेंट के फ़ाइनल में प्रवेश कर लिया जहां उसका मुकाबला पहली बार फ़ाइनल में पहुंचे दक्षिण कोरिया से होगा जिसने पहले सेमीफाइनल में गत संयुक्त विजेता पाकिस्तान को रोमांचक अंदाज में 6-5 से पराजित किया। इस तरह पिछले संस्करण के दोनों संयुक्त विजेता सेमीफाइनल में हार गए और अब वे 22 दिसंबर को कांस्य पदक मैच के लिए खेलेंगे। भारत और पाकिस्तान पिछले संस्करण में संयुक्त विजेता रहे थे लेकिन इस बार दोनों को सेमीफाइनल में हार का मुंह देखना पड़ा। जापान 2013 के फ़ाइनल में पाकिस्तान से 1-3 से हारने के आठ साल बाद दूसरी बार फ़ाइनल में पहुंचा है जबकि कोरिया ने पहली बार फ़ाइनल में जगह बनायी है।


जापान ने इस जीत से आखिरी लीग मैच में भारत से मिली 0-6 की हार का बदला भी चुका लिया। जापान ने तीसरे क्वार्टर तक 5-1 की बढ़त बनाकर मैच अपने कब्जे में कर लिया था। हालांकि भारत ने अंतिम क्वार्टर में दो गोल दागे लेकिन ये जापान के बढ़ते कदमों को रोकने के लिए काफी नहीं थे। जापान ने पहले दो मिनट में ही 2-0 की बढ़त बनाकर मैच में भारत को शुरुआत से ही दबाव में ला दिया। जापान ने दूसरे क्वार्टर में एक गोल तथा तीसरे क्वार्टर में दो गोल और दागे और 5-1 की बढ़त बना ली। भारत लीग चरण में सर्वाधिक 10 अंक जुटाकर सेमीफ़ाइनल में पहुंचा था लेकिन जापान ने उसे अंतिम चार मुकाबले में याद दिलाया कि नॉक आउट दौर का मैच कुछ अलग ही होता है। जापान को पहले मिनट में पेनल्टी स्ट्रोक मिला और शोता यामादा ने इस पर गोल करने में कोई गलती नहीं की। भारत अभी इस झटके से संभला भी नहीं था कि अगले मिनट में जापान को पेनल्टी कार्नर मिल गया और रैकी फुजिशिमा ने इस पर जापान का दूसरा गोल दाग दिया। मैच के 17वें मिनट में दिलप्रीत सिंह ने भारत का पहला गोल किया। लेकिन इसी क्वार्टर में 29वें मिनट में जापान को एक और पेनल्टी स्ट्रोक मिल गया जिस पर योशिकी किरिशिता ने गोल कर जापान को 3-1 से आगे कर दिया। तीसरे क्वार्टर में कोसेयी कवाबे ने 35वें मिनट में मैदानी गोल कर जापान को 4-1 की मजबूत बढ़त दिला दी। रयोमा ओका ने 41वें मिनट में जापान का पांचवां गोल दागा और भारत का संघर्ष समाप्त कर दिया। भारत ने आखिरी क्वार्टर में वापसी करने की कोशिश की लेकिन हार का अंतर ही कम कर पाए। हरमनप्रीत ने 53वें मिनट में मिले पेनल्टी कार्नर और हार्दिक सिंह ने 59वें मिनट में मिले पेनल्टी कार्नर पर गोल दागे लेकिन वे सिर्फ स्कोर को 3-5 ही कर पाए।


पाकिस्तान पर रोमांचक जीत से कोरिया पहली बार फ़ाइनल में:

इससे पहले जोंगह्युन जांग के 56वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर पर किये गए निर्णायक गोल की बदौलत दक्षिण कोरिया ने पाकिस्तान को रोमांचक सेमीफाइनल में 6-5 से हराकर खिताबी मुकाबले में पहली बार प्रवेश कर लिया। पाकिस्तान ने 44 वें मिनट तक 3-5 से पिछड़े रहने के बावजूद 47वें और 51वें मिनट में मुबाशर अली के पेनल्टी कार्नर पर किये गए गोलों से 5-5 की बराबरी हासिल कर ली लेकिन 56वें मिनट में कोरिया को पेनल्टी कार्नर मिला और इस सुनहरे अवसर पर जांग ने गोल करने और टीम को जीत दिलाने में कोई गलती नहीं की। कोरिया इस तरह पहली बार टूर्नामेंट के फ़ाइनल में पहुंचने में कामयाब रहा जबकि तीन बार का चैंपियन पाकिस्तान पहली बार फ़ाइनल में नहीं पहुंच पाया।

कोई टिप्पणी नहीं: