झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 28 दिसंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 28 दिसंबर 2021

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 28 दिसंबर

ग्राम आंबाकुआं को नई ग्राम पंचायत बनाए जाने एवं ग्राम में स्थित श्मशान घाट को राजस्व अभिलेख में दर्ज करवाने की मांग, माली समाज ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन


jhabua news
झाबुआ। जिले के रानापुर तहसील के ग्राम आंबाकुआं की अधिक आबादी के अनुसार इसे अलग से पंचायत बनाए जाने एवं ग्राम में स्थित श्मशान घाट को शासकीय राजस्व रेकार्ड में दर्ज करने हेतु माली समाज द्वारा जिला मुख्यालय पर कलेक्टोरेट पहुंचकर इस संबंध में कलेक्टर सोमेश मिश्रा को ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन भाजपा पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य एवं वरिष्ठ भाजपा नेता विजय चौहान के नेतृत्व में प्रेषित किया गया। दो अलग-अलग ज्ञापन सौंपे गए। जिसमें पहले ज्ञापन में बताया गया कि जिले के रानापुर तहसील अंतर्गत आने वाली ग्राम पचांयत भूरीमाटी में वर्तमान में ग्राम आंबाकुंआं, डूंगरा एवं भूरीमाटी सम्मिलित है। यह ग्राम पचांयत बड़ी होने के कारण गांव का विकास नहीं हो पा रहा है। वर्तमान में अकेले ग्राम आंबाकुआं की ही जनसंख्या करीब 2500 होकर उसमें 90 प्रतिशत ओबीसी वर्ग के लोग निवासरत है। जिनमें मतदाताओं की संख्या 1003 है, जो शासन के नियमानुसार एक पंचायत के लिए पर्याप्त होती है। इस हेतु ग्राम पंचायत आंबाकुआं के सभी निवासीगण चाहते है कि ग्राम पंचायत भूरीमाटी का सीमांकन करवाकर ग्राम आंबाकुआं को उक्त पंचायत से अलग कर नई पंचायत बनाई जाए। ज्ञापन में चेतावनी स्वरूप कहा गया कि यदि ग्राम आंबाकुआं के निवासियों की इस मांग पर ध्यान नहीं दिया गया, तो सभी मिलकर आगामी पंचायत चुनाव का सामूहिक बहिष्कार करेंगे।


श्मशान की जमीन को राजस्व अभिलेख में दर्ज किया जाए

इसके अलवा एक अन्य ज्ञापन में बताया गया कि ग्राम पंचायत भूरीमाटी में पहनं-19(34) राजस्व निरीक्षक वृत्त में स्थित शासकीय भूमि में दर्ज है। जिसकी खसरा नकल भी ज्ञापन के साथ प्रेषित की गई। ज्ञापन में आगे बताया कि ग्राम में निवासरत माली समाज के लोग सहित अन्य सभी जन उक्त भूमि का उपयोग पिछले लंबे समय से श्मशान घाट (अंत्येष्टि संस्कार) अर्थात शवदाह संस्कार के रूप में करते आ रहे है। यह भूमि ग्राम आंबाकुअं में ग्राम पंचायत भूरीमाटी की सीमा पर गु-खाली नामक नाला पर स्थित होकर इस स्थान पर ग्राम पचंायत द्वारा शवहाद गृह का भी निर्माण किया गया है एवं अंतिम यात्रा ले जाने हेतु पक्का सीसी निर्माण कार्य भी करवाया गया है। साथ ही पर्याव्रण सुरक्षा के तहत यहां पौधे भी लगाए है। संपूर्ण ग्राम पचंायत में शवदाह कार्यक्रम हेतु उक्त भूमि के अलावा ग्राम में अन्य कोई स्थान रिक्त नहीं है। इस हेतु मांग की गई कि उक्त भूमि, जो अभी तक रेवन्यू रेकार्ड में सार्वजनिक श्माशान घाट से दर्ज नहीं है। इसका जल्द ही सर्वे करवारकर एवं मौका मुआयना करवाकर राजस्व अभिलेख में दर्ज करवाया जाए।


यह रहे उपस्थित

दोनो ज्ञापन सौंपते समय माली समाज एवं ग्राम आंबाकुआं के ग्रामीणांे में रमेश गोविन्द माली, चिंतन प्रेमचंद माली, लक्ष्मण भैराजी परमार, प्रकाश कोदर सोलंकी, नटवर कचरा माली, प्रकाश कचरा, दिलीप गोविन्द, पूनमचंद लाला, रूपा गोविन्द, महेशलाल, मोतीलाल चौहान, प्रदीप, दिलीप, अशोक, देवचंद माली, प्रकाश पटेल, अल्केश राठौर आदि उपस्थित थे।


भाजपा पिछडा वर्ग मोर्चे के पदाधिकारियों एवं कार्यकारीणी की हुई घोषणा


झाबुआ । भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा  के निर्देशानुसार , तथा प्रदेश भाजपा पिछडा मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष भगतसिंह कुशवाह की सहमति एवं जिला भाजपाध्यक्ष लक्ष्मणसिंह नायक की अनुसंशा पर भाजपा पिछडा वर्ग मोर्चा के जिलाध्यक्ष सोनू विश्वकर्मा द्वारा भाजपा पिछडा वर्ग मोर्चे के पदाधिकारियों एवं कार्यकारिणी की घोषणा की गई । उक्त जानकारी देते हुए जिला भाजपा मिडिया प्रभारी नवकार संयोजक योगेन्द्र नाहर ने बताया कि तदनुसार 4 उपाध्यक्ष राजेश भटेवरा, आशीष बाविस्कर, शांतिलाल सोलंकी,एवं नयन टवली को उपाध्यक्ष का दायित्व सौपा गया है । दो महामंत्री दिनेश राठौर एवं मयूर पंवार को बनाया गया हेै ।  मंत्री पद पर लक्ष्मीनारायण पाटीदार, भाविक बारोड, लखन भालोड, एवं नाना राठौर को नियुक्त किया गया है । कोषाध्यक्ष संदीप सोनी को कार्यालय मंत्री  जितेन्द्र पांचाल को,तथा मीडिया प्रभारी संजय बेैरागी को बनाया गया है ।स्वीट गोस्वामी एवं उत्सव सोनी सोश्यल मीडिया आईटी के प्रभारी रहेंगें ।वही राजेन्द्र काग, गोपाल बेैरागी, धीरज बुन्देला,दुर्गेश पाटीदार, कमल पाटीदार, राजेश पाटीदार, विवेक साहू, मोनू विश्वकर्मा, शांतिलाल सोनी, भेरूलाल पाटीदार एवं संजय हीरालाल भायल को कार्यकारीणी का सदस्य बनाया गया हे । नव नियुक्त सभी पदाधिकारियों को पूर्व विधायक शांतिलाल बिलवाल, सुश्री निर्मला भूरिया, प्रदेश अजजा मोर्चा अध्यक्ष पूर्व विधायक कलसिंह भाबर, सहित जिला एवं मंडलों के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने इन्हे बधाईया प्रेषित की है तथा भाजपा की रीति नीति के अनुसार भाजपा की मजबुती के लिये कार्य करने का आव्हान किया गया है ।


जिओ फैंस तकनीक से गिरदावरी की अनिवार्यता के विरोध मे जिले के पटवारी हुए सारा ऐप से लॉग आउट


jhabua news
झाबुआ । मध्यप्रदेश पटवारी संघ के प्रांतीय आव्हान पर झाबुआ जिले के समस्त पटवारी भी जिओ फैंस तकनीक से गिरदावरी के विरोध में सारा एप से लॉग आउट कर गये । मध्य प्रदेश पटवारी संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष अखिलेश मुलेवा, प्रवक्‍ता ठाकुर सिंह भूरिया, संघर्ष्‍ा समिति के मलजी डामोर, तहसील अध्यक्ष नानूराम मेंरावत झाबुआ, गोपाल जोशी राणापुर, आनंद मेडा मेघनगर, मंलसिंह डामोर थांदला, ईश्वरलाल पाटीदार पेटलावद एवं छतर सिंह मेरावत रामा के द्वारा बताया गया कि मध्यप्रदेश शासन ने आगामी रबी मौसम की फसल गिरदावरी हेतु मौके पर फसलों की प्रविष्ठि करने हेतु प्रत्येक खसरा नंबर का जियो टैग अनिवार्य करने संबंधित आदेश प्रसारित किया गया है । उक्त आदेश के व्यवहारिक एवं नीतिगत रूप से सही नहीं होने से पटवारियों ने इसके विरोध में पूर्व में प्रमुख सचिव राजस्‍व एवं आयुक्त भू अभिलेख एवं बंदोबस्त को ज्ञापन सौंपकर जिओ तकनीक गिरदावरी की अनिवार्यता समाप्त करने हेतु निवेदन किया गया था। किंतु शासन स्तर पर पटवारियों की वास्तविक समस्याओं पर आज दिनांक तक कोई सकारात्‍मक निर्णय नहीं लेने से पटवारियों में रोष व्‍याप्‍त हो गया एवं आज प्रदेश के साथ जिले के पटवारी भी  जियो फेंस तकनीक से गिरदावरी का विरोध करते हुए सारा एप से लॉग आउट कर गए । प्रदेश उपाध्‍यक्ष मुलेवा ने बताया कि वर्तमान समय में शासन द्वारा किसी भी नवीन पटवारी को गिरदावरी हेतु आवश्यक मोबाईल उपलब्ध नहीं कराए गये हैं । पूर्व में वरिष्ठ पटवारियों को जो मोबाईल उपलब्ध कराए गए थे ,उनकी समय सीमा समाप्त हो गई और वह पूर्ण रूप से अनुपयोगी हो गए हैं बिना संसाधन के गिरदावरी का कार्य करना संभव नहीं है एवं दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों में नेटवर्क की समस्या बनी रहती है पटवारी का कार्यक्षेत्र अत्‍यंत  दुर्गम ग्रामीण पहाड़ी क्षेत्र होता है जहां पर मोबाइल की नेटवर्क की अनुपलब्धता की समस्या होती है। श्री मुलेवा ने बताया कि वर्तमान समय में पटवारियों के पास कोरोनावायरस टीकाकरण, आबादी सर्वे , शुद्धिकरण अभियान, लघु सिंचाई संगणना, राजस्व वसूली, वेब जी आई एस प्रकरणों के प्रतिवेदन एवं अन्य प्रकार के अत्यधिक कार्यों का बोझ है ऐसी स्थिति में शासन को नित नए प्रयोग करने से प्रदेश्‍ के पटवारियो के स्‍वास्‍थ्‍य पर विपरीत प्रभाव पड रहा है और हमारे कई साथी दुर्घ्‍टना के शिकार हो रहे है। उक्‍त समस्याओं को देखते हुए मध्य प्रदेश पटवारी संघ ने निर्णय लिया है कि ऑनलाइन जिओ टेग तकनीक से गिरदावरी समाप्‍त करने की उनकी मांग पर शासन स्‍तर पर कोई सकारात्मक निर्णय नहीं होने से मंबलवार 28 दिसंबर  को मध्यप्रदेश के साथ झाबुआ जिले के समस्त पटवारी भी सारा एप से लॉग आउट कर गए हैं एवं जब तक जियो टैग तकनीक गिरदावरी की अनिवार्यता समाप्त नहीं की जाती तब तक प्रदेश के समस्त पटवारी सारा ऐप से विरत रहेंगे ।


पेंषनरो के हित में धारा 49 विलोपित करने का संकल्प विधानसभा मे परित होने पर पेंषनरों में हर्ष की लहर- विधायक श्री सिसौदिया मंदसौर का माना आभार


झाबुआ । पेंशनरों के हित में मंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया द्वारा विधानसभा सत्र में मध्यप्रदेश छत्तीसगढ पुनर्गठन अधिनियम की धारा 49 (6) को विलोपित करने के लिये सक्रिय पहल करते हुए विधानसभा में अशासकीय संकल्प प्रस्तुत किया गया जिसे बगैर चर्चा के पारित कर दिया गया । श्री सिसौदिया  ने उक्त धारा 49 (6) को विलोपित करने का पेंशनरों का आश्वासन दिया था जिसे उन्होने पूरा किया। अब प्रदेश सरकार को बार बार पेंशनरों की महंगाई राहत बढाने के पहले छत्तीसगढ सरकार की सहमति लेने की आवश्यता नही पडेगी । तिथा छत्तीसगढ का मुंह नही ताकना पडेगा । जिला पेंशनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष रतनसिंह राठौर ने बताया अब मध्यप्रदेश सरकार कर्मचारियों के साथ ही अपने पेंशनरों को साथ साथ ही वित्तिय लाभ दे सकेगी । तथा पेंशनरों को बार बार इस मुद्दे को लेकर ज्ञापन,धरना प्रदर्शन आदि नही करना पडेगंे। श्री राठौर ने प्रदेश के मुख्यमंत्री श्विराजसिंह चौहान एवं विधायक मंदसौर यशपालसिंह सिसौदिया का जिले के सभी पेंशनरों की ओर से धन्यवाद ज्ञापित किया है । जिला पेंशनर एसोसिएशन के संरक्षक डा. के के त्रिवेदी, राजेन्द्रकुमार सोनी, बालमुकुन्दसिंह चौहान, डा. लोकेन्द्रसिंह राठौर,विद्याराम शर्मा, पीडी रायपुरिया, जितेन्द्र शाह,गोपालसिंह चौहान, जनार्दन शुक्ला, भारतसिंह तोमर, श्रीनाथसिंह चौहान, रूपसिंह खपेड, भेरूसिंह सोंलकी, भागीरथ सतोगिया, श्याम सुंदर कससेरा, शशि त्रिवेदी, श्रीमती कृष्णा चौहान, श्रीमती कुंता सोनी,तहसीलशाख अध्यक्ष एमएल रावल,थांदला अध्यक्ष जगमोहनसिंह राठौर, मेघनगर अध्यक्ष कुंवरलाल सांकला, रानापुर के अध्यक्ष मांगीलाल दुर्गेश्वर ने विधायक श्री सिसौदिया का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया है।


पूज्य श्री धर्मदास स्थानकवासी जैन स्वाध्यायी संघ द्वारा आयोजित परीक्षा संपन्न, 40 स्थानों पर 131 स्वाध्यायी भाई बहिनों ने दी परीक्षा


थांदला। 18 वर्ष पूर्व जिन शासन गौरव जैनाचार्य पूज्य श्री उमेशमुनिजी म.सा. अणु के आशीर्वाद से स्थापित पूज्य श्री धर्मदास स्थानकवासी जैन स्वध्यायी संघ से जुड़कर 150 से अधिक स्वध्यायी भाई बहिन वर्षावास के श्रावण भादौ तथा खासकर पर्युषण पर्व के दौरान संत सतियाजी विहीन क्षेत्रों में धर्म की प्रभावना करते आ रहे है वही अन्य धार्मिक गतिविधियों में भी सक्रिय भूमिका का निर्वहन करते आ रहे है। जानकारी देते हुए परीक्षा संयोजक वरिष्ठ स्वध्यायी वीरेंद्र मेहता ने बताया कि प्रवर्तक श्री जिनेन्द्रमुनिजी म.सा.की पावन प्रेरणा से इसका कुशल संचालन श्री धर्मदास गण परिषद के संचालक वरिष्ठ स्वध्यायी भरत भंसाली द्वारा किया जा रहा है वही विगत दो वर्षों से सभी स्वाध्यायी भाई - बहनों के लिए मुख्य परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है। पिछले वर्ष 115 स्वाध्यासियों ने परीक्षा में भाग लिया था वही इस बार परीक्षा का आयोजन गुजरात , राजस्थान, मध्यप्रदेश आदि राज्यों  के 40  परीक्षा केंद्र पर हुआ जिसमें 131 स्वाध्यायी भाई- बहिनों ने मुख्य परीक्षा में हिस्सा लिया। 100 अंक की मुख्य परीक्षा दो चरण में आयोजित की गई जिसमें 75 अंक के  लिए प्रश्नपत्र दिया गया वही 25 अंक के लिए गुरुदेव के प्रवचनों में से ओपन बुक प्रश्न दिए गए।


थांदला केंद्र पर संत - सतियाजी की निश्रा में आयोजन

थांदला में विराजीत प्रवर्तक श्री जिनेन्द्रमुनिजी के आज्ञानुवर्ती तपस्विराज पूज्य श्री दिलीपमुनिजी म.सा. आदि ठाणा - 3 एवं विदुषी महासती पूज्या श्री निखिलशीलाजी म.सा. आदि ठाणा - 4 के पावन सानिध्य में  स्वाध्यायी भाई - बहिनों  ने उक्त परीक्षा दी। धार्मिक परीक्षा में भाग लेने वाले सभी परीक्षार्थियों तथा उच्च अंक अर्जित करने वाले 05 स्वाध्यायियों को गुप्त दानदाता द्वारा विशेष पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। उक्त जानकारी संघ प्रवक्ता पवन नाहर ने दी।


आगामी 3 से 13 जनवरी-2022 तक अयोजित होने वाले मेले को लेकर फिर फंसा पेंच, उत्कृष्ट विद्यालय मैदान पर मेला आयोजक ने खींचवाई लाईने, उत्कृष्ट विद्यालय प्रबंधन ने कहा बिना जिला प्रशासन के आदेश या पत्र के नहीं दी जाएगी अनुमति


झाबुआ। प्रतिवर्ष क्रिसमस पर लगने वाले मेले को लेकर विभिन्न हिन्दू संगठनों के लगातार विरोध और जिला प्रशासन के सहयोग नहीं मिलने के चलते 22 दिसंबर-2021 से 2 जनवरी-2022 तक किया जाने वाला मेला निरस्त किया गया। बाद ताबडतोड़ इस संबंध मंे एसडीएम झाबुआ द्वारा संशोधित-पत्र जारी करते हुए मेले को आगामी 3 से 13 जनवरी-2022 तक आयोजित करने हेतु आदेशित किया गया है।  अब जिला मुख्यालय पर आगामी 3 से 13 जनवरी तक मेले का आयोजन होना है, लेकिन इसके स्थान को लेकर अभी भी अमसंजस जस की तस बरकरार है। क्रिमसस के दौरान मेला आयोजकों द्वारा उत्कृष्ट विद्यालय मैदान पर मेला लगाने के लिए तैयारियां करने पर उस दौरान उत्कृष्ट विद्यालय प्रबंधन की ओर से अनुमति देने से मना कर दिया गया था। इसके बाद अब पुनः 26 दिसंबर, रविवार रात को मेला आयोजक द्वारा मैदान पर रातो-रात चूने की लाईन खीचंने के बाद जब 27 दिसंबर, सोमवार को इसकी जानकारी विद्यालय प्रबंधन को लगी तो विद्युत प्रबंधन की ओर से दिए गए बयान में कहा गया कि उनके पास अभी तक ना तो जिला प्रशासन द्वारा यहां मेले आयोजित करने हेतु कोई आदेश जारी किए गए हैऔर ना ही मेला आयोजक की ओर भी कोई पत्र प्राप्त हुआ है।


लगातार हो रहा विरोधाभास

वहीं वर्तमान मंे कोरोना की तीसरी लहर के बढ़ते प्रकोप एवं धारा 144 लागू होने से भी मेले के आयोजन को लेकर लगातार विरोध के स्वर मुखर हो रहे है। ऐसे में यह बड़ा प्रश्न है कि क्या आगामी दिनों में भी शहर में मेले का आयोजन हो सकेगा, या फिर एसडीएम झाबुआ द्वारा इसके निरस्तरीकरण के संबंध में या संशोधन के संबंध में कोई नया पत्र जारी किया जाएगा। इस बीच बताया जाता है कि नगरपालिका की ओर से पूर्व में ही मेला आयोजक से राशि जमा करवाकर उत्कृष्ट विद्यालय मैदान पर मेला लगाने हेतु एनओसी जारी की जा चुकी है।


इनका कहना है

- उत्कृष्ट विद्यालय मैदान पर मेला आयोजन हेतु अब तक हमे जिला प्रशासन या शिक्षा विभाग से कोई आदेश प्राप्त नहीं हुए है और ना ही मेला आयोजक ने इस संबंध मंे पत्र देकर अनुमति मांगी है।

अमीना खान, प्रभारी प्राचार्य, शासकीय उत्कृष्ट उमा विद्यालय झाबुआ। - इस मामले को दिखवाया जाएगा। : एलएन गर्ग, एसडीएम झाबुआ।


श्री जैन श्वेतांबर मालवा महासंघ के दो दिवसीय विराट महासम्मेलन में युवा ह्रदय सम्राट आचार्य श्री विष्वरत्न सामर सूरीष्वरजी मसा प्रदान करंेगे पावन निश्रा

  • श्वेतांबर जैन महासंघ के राष्ट्रीय प्रवक्ता यशवंत भंडारी ने जिले के सकल जैन समाज एवं श्री संघांे से सम्मिलित होने का आव्हान किया

झाबुआ। श्री नागेश्वर पार्श्वनाथ जैन तीर्थ पेढ़ी उन्हैल राजस्थान द्वारा श्री जैन श्वेतांबर मालवा महासंघ के तत्ववावधान में मालवा-मेवाड़,-वागड़ एवं हाड़ौती क्षेत्र के समस्त श्री संघों का दो दिवसीय विराट महा-सम्मेलन का आयोजन आगामी 15 एवं 16 जनवरी-2022 को किया जा रहा है। यह विराट महा-सम्मेलन पूज्य आचार्य देवेश श्री दौलत सागर सूरीश्वरजी मसा की मंगलमय कृपा तथा मालव भूषण, तप सम्राट आचार्य श्री नवरत्न सागर सूरीश्वरजी मसा की पावन निश्रा में होगा। जानकारी देते हुए श्वेतांबर जैन मालवा महासंघ के राष्ट्रीय प्रवक्ता यशवंत भंडारी ने बताया कि दो दिवसीय आयोजन में मुख्य रूप से 15 जनवरी को गुरूदेव के प्रभावी प्रवचन, सभी श्री संघों द्वारा अपने-अपने विचार एवं चिंतन, सामूहिक नगर भ्रमण, चौ विहार, भक्ति आदि का आयोजन होगा। वहीं द्वितीय दिवस 16 जनवरी को गुरूदेव श्री विश्व रत्न सागर सूरीश्वरजी मसा द्वारा गुरूवंदन एवं मांगलिक श्रवण, गुरूदेव के आगामी समाज के स्वरूप एवं दशा पर मार्गदर्शन के साथ अंत मंे सभी के लिए साधार्मिक वात्सल्य का आयोजन भी होगा।


दो दिवसीय आयोजन को सफल बनाने की

महासंघ के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री भंडारी ने इस दो दिवसाीय महासम्मेल में मालवा-मेवाड़, बागड़ एवं हाड़ौती क्षेत्र के समस्त श्री संघों से पधारने की आव्हान के साथ झाबुआ जिले के भी श्री संघ के समस्त पदाधिकारी-सदस्यों, नवरत्न परिवार, भारतीय जैन संघटना एवं मालवा जैन महासंघ तथा परिषद् परिवार के भी सभी पदाधिकारी-सदसयांे से पधारकर महा-सम्मेलन को नाम अनुसार भव्य और सफल बनाने हेतु आव्हान किया है।


निर्धन वर्ग के होनहार दिव्यांग छात्र बाबुलाल कुम्हारे ने पीएचडी कर परिवार का गौरव बढ़ाया, विकलांगजनों के लिए सामाजिक, आर्थिक एवं शैक्षणिक सशक्तिकरण विषय पर किया गहन शोध, जीवाजी यूनिवसिर्टी शिवपुरी मंें प्रोफेसर के पद पर हुए पदस्थ

  • झाबुआ जिले के दिव्यांगजनों ने पुष्पमालाओं से स्वागत कर शुभकामनाएं प्रेषित की

jhabua news
झाबुआ। झाबुआ और आलीराजपुर जिले में दिव्यांगजनों के अधिकारों और कर्तव्यों के लिए वर्षों तक संघर्ष करने वाले, पूर्व में जिला विकलांग पुनर्वास केंद्र में प्रशिक्षक के रूप में पदस्थ रहे बाबुलाल कुम्हारे ने हाल ही में 20 दिसंबर-2021 में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर से पीएचडी की उपाधि अर्जित की है। परिवार से निर्धन होने के बाद भी तथा 60 प्रतिशत दृष्टि बाधित होने के बाद भी बाबुलाल कुम्हारे में अपने जीवन में तमाम संघर्षों के बीच अपना हौंसला बरकरार रखा। जिसके कारण आज वह दिव्यांगजनों के लिए सामाजिक, आर्थिक एवं शैक्षणिक सशक्तिरण विषय पर गहन शोध के बाद इस विषय में डिग्री हालिस कर चुके है। उनकी पदस्थापना मप्र के जाने माने जीवाजी यूनिवर्सिंटी में प्रोफेसर के पद पर हुई है। मूलतः मप्र के टिकमगढ़ जिले के रहने वाले बाबुलाल कुम्हारे की प्रारंभिक शिक्षा टीकमगढ़ में होने के बाद उनका झाबुआ-आलीराजपुर जिले से लगाव होने के कारण झाबुआ आकर बसे। उनका परिवार गांव में खेताबाड़ी करता है। वह उच्च शिक्षा के लिए झाबुआ आए और झाबुआ के शासकीय शहीद चन्द्रशेखर आजाद महाविद्यालय से बीए, बाद एमए किया। बाद इंदौर से एमएसडब्ल्यू, एमफिल और यूजीसी द्वारा आयोजित नेट एग्जाम भी क्लीयर की। इस बीच उन्होंने दिव्यांगजनों के विकास और प्रगति के लिए झाबुआ-आलीराजपुर दोनो जिलों में कई कार्य किए। राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई में कार्य करने पर उन्हें वर्ष 2006 में राज्य स्तरीय पुरस्कार प्राप्त हुआ। बाद 29 अप्रेल 2008 में जयपुर राजस्थान में भी राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई में उत्कृष्ट कार्य करने पर पुरस्कृत हुए।


पीएचडी डिग्री हासिल कर डॉक्टर बने

बाबुलाल कुम्हारे ने बताया कि इसके बाद उन्होंने वर्ष 2013 में पीएचडी की तैयारी इंदौर में रहकर आरंभ की। इस बीच उन्हें कई प्रकार की आर्थिक रूप से परेशानी होने एवं कई लोगांे द्वारा ब्लाइंडनेस के चलते उनके मनोबल को तोड़ने का भी प्रयास किया गया, लेकिन उन्होंने हार नहंी मानी और पढ़ाई जारी रखी। जिसके बाद करीब 7 साल के अंतराल में पिछले दिनों ही दिव्यांगजनों को आर्थिक और सशक्त बनाने के मुद्दे पर शोध करते हुए पीएचडी कर डॉक्टर की उपाधि हालिस कर अब उनके नाम के आगे डॉक्टर लग चुका है।


डीएवीवी के रेकार्ड में जुड़ा डॉ. बाबुलाल कुम्हारे का नाम

जिसमें उन्हें शोध केंद्र के निर्देशक डॉ. शोभा सुद्रास, डॉ. श्रद्धा मालवीय के साथ समय-समय गुरूजनों के रूप में भाबरा से ब्रेललिपी का ज्ञान सैयद अनवर अली, एएससपी रविन्द्र आतोलिया, डॉ. धर्मेन्द्र रावत, डॉ. प्रकाश इस्के, नरेन्द्र राजपूत आदि का भी सराहनीय सहयोग प्राप्त हुआ। डीएवीवी द्वारा जारी की जाने वाली राजपत्रित पीएचडी उपाधि करने वालांे में अब डॉ. बाबुलाल कुम्हारे भी नाम भी हमेशा के लिए जुड़ गया है। उनकी इस स्वर्णिम उपलब्धि पर 27 दिसंबर, सोमवार को दोपहर स्थानीय डीआरपी लाईन स्थित डॉ. अंबेडकर पार्क में उनके मित्रजनों ने उनका स्वागत समारोह रखकर पुष्पमालाओं से गरिमामय स्वागत किया। जिसमें जिलेभर से आए दिव्यांगजनों में पांगलसिंह गणावा, लालसिंह सोलंकी, जगदीश डावर, नाथुसिंह सिंगाड़, संजय गुप्ता, रविन्द्र डावर, दलसिंह राठौर, अंकित धाकड़े आदि ने स्वागत कर शुभकामनाएं प्रेषित की।


अन्तरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना अंतर्गत उपहार स्वरूप 2.00 लाख की राशि स्वीकृत


झाबुआ। सहायक आयुक्त जनजातीय कार्य विभाग जिला झाबुआ के आदेश क्रमांक/राहत/अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन/2021-22/6558 झाबुआ दिनांक 27/12/2021 के तहत मध्यप्रदेश शासन, आदिम जाति तथा अनुसूचित जाति कल्याण विभाग, मंत्रालय भोपाल के ज्ञाप. क्रमांक एफ 23-43/2007/25/4, भोपाल दिनंाक 23.07.2007 एवं संशोधन नियम 2014 में मध्यप्रदेश राजपत्र (असाधारण) प्राधिकार में प्रकाशित अनुसूचित जाति कल्याण विभाग मंत्रालय, वल्लभ भवन, भोपाल द्वारा जारी परिपत्र दिनांक 09 जुलाई 2015 में ज्ञाप क्रमांक एफ-23-6-14-25-4, भोपाल दिनांक 15 सितम्बर 2014 के परिपालन में मध्यप्रदेश शासन अस्पृश्यता निवारणार्थ योजनांतर्गत म.प्र. अन्तर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना नियम 2007, संशोधित नियम 2014 में दिये गये निहित प्रावधान अनुसार श्री राहुल गवली पिता बंटी गवली पिछडा वर्ग उम्र 25 वर्ष, निवासी महात्मा गांधी नवाडा रोडा वार्ड क्रमांक 15 थांदला, तहसील थांदला, जिला झाबुआ म.प्र. का विवाह श्रीमती विद्या भदाले पिता विक्रमसिंह भदाले उम्र 23 वर्ष, जाति बैरवा, अनुसूचित जाति वर्ग, निवासी कलाजी मंदिर कालोनी थांदला, तहसील थांदला जिला झाबुआ म.प्र. के साथ हिन्दू रीति-रिवाज दिनंाक 08.12.2020 विवाह होने से एवं कलेक्टर एवं विवाह रजिस्ट्रार जिला झाबुआ द्वारा हिन्दू मैरिज एक्ट 1955 अंतर्गत जारी अन्तर्जातीय विवाह प्रमाण पत्र पंजीयन पंजीयन क्रमांक 03/2021  दिनांक 14.10.2021 द्वारा उक्त विवाह वैध माना जाकर विवाह प्रमाण पत्र संबंधित दम्पत्ति/हितग्राही प्रस्तुत किए जाने के उपरांत इन्हें हिन्दू मैरिज एक्ट 1955 के अंतर्गत मध्यप्रदेश शासन अन्तर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना अंतर्गत उपहार स्वरूप राशि रूपयें 2.00 लाख संबंधित हितग्राही/दम्पति श्री राहुल गवली एवं श्रीमती विद्या भदाले के संयुक्त बैंक खाता कैनरा बैंक ब्रांच थांदला खाता नंबर 6264101002247, आईएफसी कोड सीएनआरबी 0006264 में ई-पेमेन्ट के माध्यम से ग्लोबल मद 49-2225-01-800-0703-0326-14-000 से भुगतान किये जाने की स्वीकृति प्रदान की गए है। साथ ही शासन नियमानुसार इन्हें यात्रा भत्ते की पात्रता होगी।


जिला अस्पताल झाबुआ का ओचक निरीक्षण


jhabua news
झाबुआ। आज जिला अस्पताल झाबुआ का ओचक निरीक्षण सीएमएचओ डॉ जयपाल सिंह ठाकुर ने किया लेबर रूम में पानी बार बार भर जाने कि समस्या को लेकर पीएचडी इंजीनियर ए. के. मंडलोई को बुलाकर समस्या को जल्द से जल्द दुरस्त करने के निर्देश दिए। साथ ही साथ लेबर रूम में उपस्थित डॉक्टर्स व स्टाफ नर्स को मरीजों निशुल्क सेवाएं देने व बाहर से कोई दवाई न लिखने के निर्देश दिए। मरीजों से कोई भी कर्मचारी पैसा ना ले इसके लिए सभी को हिदायत दी गई,  ट्रामा सेंटर में सीटी स्कैन मशीन लगना है इसकी कार्य गति का जायजा लिया सीटी स्कैन मशीन के  सुपरवाइजर को  कार्य कि समय सीमा में कार्य करने के निर्देश दिए सुपरवाईजर के द्वारा बताया गया  कि 31/12/2021 तक सीटी स्कैन मशीन चालू हो जायेगी। निरीक्षण के दौरान सिविल सर्जन डॉ बी एस बघेल, सहायक अस्पताल प्रबंधक भारत सिंह बिलवाल, स्ट्टिवर्ड श्री सुनील कानूनगो, एनएचएम इंजीनियर श्री पवन रोमड़े व सुपरवाइजर उपस्थित थे।


राज्य स्तरीय समारोह में झाबुआ जिले के थैथम जलग्रहण परियोजना को तृतीय पुरस्कार प्राप्त


jhabua news

झाबुआ। राष्ट्रीय किसान दिवस के उपलक्ष्य पर नाबार्ड द्वारा 28.12.2021 को आयोजित राज्य स्तरीय समारोह में झाबुआ जिले के थैथम जलग्रहण परियोजना को तृतीय पुरस्कार प्राप्त हुआ है। यद्यपि इस योजना का पूर्ण क्रियान्वयन का यह पहला ही वर्ष है। यह पुरस्कार हमारे ग्रामीणों की इच्छा शक्ति को प्रदर्शित करता है। मध्य प्रदेश ग्रामीण बैंक द्वारा बैंकिंग प्लान के तहत क्षेत्र में ऋण वितरण के माध्यम से किए जा रहे सहयोग के लिए धन्यवाद भी प्रेषित किया गया है।


कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए 18 हजार 500 का लक्ष्य निर्धारित किया गया

          

झाबुआ,। कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा के द्वारा कोविड-19 टीकाकरण के लिए 18 हजार 500 का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। जिसमें झाबुआ शहर हेतु - 1000 , कल्याणपुरा- 4350, मेघनगर- 4780, थांदला-3150, पेटलावद-1000, रामा-450 एवं राणापुर 3770 का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। जिले में वैक्सीनेशन के लिए 164 सेंटर बनाए गए थे। जहां पर सघन टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य विभाग का अमला एवं जिला अधिकारी द्वारा सतत रूप से भ्रमण कर शत प्रतिशत टीकाकरण करवाने के लिए ग्रामांे में पहुंचे है। आज शाम 4 बजे कलेक्टर महोदय के द्वारा इस बाबत समीक्षा बैठक रखी गई है। जिसमें सभी जिला अधिकारी उपस्थित होंगे एवं अनुभाग, जनपद पंचायत एवं विकास खण्ड स्तरीय अधिकारी अपने-अपने मुख्यालय से वीडिया कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुडेगें। इस बैठक के पश्चात आगामी माह जनवरी 2022 में आयोजित समाधान आनलाइन वीडिया कान्फ्रेंसिंग में चयनित शिकायतों की समीक्षा बैठक आयोजित की गई है।


वर्ष 2022 के लिए स्थानीय अवकाश घोषित


झाबुआ। कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा के द्वारा 3 स्थानीय अवकाश घोषित करने के आदेश जारी किए है। जो सम्पूर्ण जिले में लागू होंगे। यह अवकाश जिसमें शीतला सप्तमी 24 मार्च 2022, (गुरूवार), गणेश चतुर्थी 13 सितम्बर (मंगलवार), दिपावली का दूसरा दिन (गोवर्धन पूजा) 25 अक्टुबर (मंगलवार), को नियत की गई है। स्थानीय अवकाश कोषालय/उप कोषालय तथा बैंकों के लिए प्रभावशील नहीं रहेगा। जिन शैक्षणिक संस्थाओं की इन दिनांकों में परीक्षा नियत है। इन पर भी यह अवकाश प्रभावशील नहीं रहेगा। परीक्षाए निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार यथावत रहेगी।


12 जनवरी-2022 को मेगा रोजगार मेला आयोजित होगा, स्वरोजगार के लिए जिले में कई बडी कम्पनीयां हिस्सा लेगी


झाबुआ। कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा ने बैठक में निर्देश दिए हैं कि जिले स्तर पर दिनंाक 12 जनवरी 2022 को मेगा रोजगार मेला आयोजित किया जाएगा। जिसमें जिले के बेरोजगार लोगों के लिए एक व्यवस्थित प्लेटफार्म बनाया जाए। जहां पर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले युवा को बाहर से आने वाली कम्पनियों में उचित स्थान प्राप्त हो एवं जिले के लिए यह रोजगार मेला मील का पत्थर साबित हो। जिले के समस्त विभाग जो रोजगार के क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं अभी से सुनियोजित रूप से तैयारी करें एवं आपके द्वारा की गई कार्यवाही से प्रतिदिन भी अवगत भी कराए। जिले के मुख्य रूप से जिला उद्योग केन्द्र, आईटीआई, उद्यान विभाग, कृषि विभाग, आजीविका परियोजना, उच्च शिक्षा विभाग, जनजातिय विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, वन विभाग, श्रम विभाग, वित्तीय विभाग, महिला बाल विकास विभाग, सामाजिक न्याय विभाग, पशु पालन, नगरीय विकास, तकनीकि शिक्षा आदि अपनी तैयारी कार्य योजना बनाकर करें। इस संबंध में मध्यप्रदेश शासन सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यम विभाग मंत्रालय के द्वारा दिनांक 21 दिसंबर को प्रदेश व्यापी स्वरोजगार/रोजगार दिवस का आयोजन दिनांक 12 जनवरी 2022 को किए जाने के निर्देश हैं। जिसमें विभिन्न विभाग एवं बैंकों के माध्यम से कई स्वरोजगार योजनाओं का संचालन किया जा रहा है। जिसमें प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना, मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, स्टेण्डअप इंडिया योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, राष्ट्रीयग्रामीण आजीविका मिशन, राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन आदि प्रमुख योजनाए संचालित की जा रही है। राज्य शासन द्वारा स्वरोजगार को प्रोत्साहन देने हेतु महत्वाकांक्षी मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना प्रारम्भ की गई है। जिसमें बडी संख्या में युवाओं को स्वरोजगार से जोडा जाएगा। उक्त सभी स्वरोजगार योजनाओं के सफल क्रियान्वयन हेतु यह आवश्यक है कि योजनाओं से जुडी शासकीय एजेसिंया, वित्तीय संस्थाएं, हितग्राही, प्रशिक्षण/उद्यमिता केन्द्र व विभाग एक साथ मिलकर कार्य करें। इसी उद्देश्य के लिए राज्य शासन के द्वारा दिनंाक 12 जनवरी 2022 को प्रदेश व्यापी स्वरोजगार/रोजगार दिवस मनाने का निर्णय लिया गया है। जिसके अंतर्गत 12 जनवरी 2022 को जिला मुख्यालय पर जिला स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। अतः अभी से ही स्वरोजगार/रोजगार से जुडी सभी योजनाओं में शत प्रतिशत स्वीकृति/वितरण 12 जनवरी 2022 के पूर्व सभी विभाग/बैंकों को सुनिश्चित करना है। यह आयोजन में प्रमुख गतिविधियों में लाभार्थी को स्वीकृति/वितरण पत्र दिए जाएगें। इस हेतु सभी विभाग अपना स्टॉल लगाएगें एवं जनप्रतिनिधियों को भी इस आयोजन में आमंत्रित किया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं: